scorecardresearch
 

अजब बिहार की गजब कहानी, 650 कर्मचारियों को 25 साल के बाद मिला वेतन

बिहार राज्य हथकरघा एवं हस्तशिल्प निगम और बिहार राज्य औषधि एवं रसायन निगम के तकरीबन 650 कर्मचारियों को 25 साल बाद वेतन मिला है. केंद्रीय उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने 80 करोड़ रुपये का भुगतान किया.

25 साल बाद कर्मचारियों को मिला वेतन. (प्रतीकात्मक तस्वीर) 25 साल बाद कर्मचारियों को मिला वेतन. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 25 सालों से नहीं मिला था वेतन
  • कर्मचारियों ने छोड़ दी थी उम्मीद

बिहार में किसी कर्मचारी को 2, 4 या 6 महीने से वेतन बकाया रहना कोई नई बात नहीं है. मगर हैरानी तब होती है जब ये पता चलता है कि बिहार में ऐसे कई कर्मचारी हैं जो पिछले 25 सालों से बिना वेतन के ही काम कर रहे हैं.

मामला दरअसल बिहार सरकार के उद्योग विभाग से जुड़ा हुआ है जहां पर तकरीबन 650 कर्मचारियों को पिछले 25 सालों से वेतन का भुगतान नहीं किया गया मगर गुरुवार को विभाग के मंत्री शाहनवाज हुसैन ने इन लोगों को उनका बकाया वेतन भुगतान किया.

बिहार राज्य हथकरघा एवं हस्तशिल्प निगम और बिहार राज्य औषधि एवं रसायन निगम के तकरीबन 650 कर्मचारियों को करीब 80 करोड़ रुपये की राशि वेतन के तौर पर भुगतान की गई. 

ये भी पढ़ें-- बिहार में पढ़ने वाले हो जाते हैं फेल, सनी लियोनी कर जाती है टॉप, तेजस्‍वी यादव ने क्‍यों कही ये बात?

जानकारी के मुताबिक, 1997 से इन दोनों निगमों के कर्मचारियों को वेतन का भुगतान नहीं किया गया था और सभी 650 कर्मचारी बिना वेतन के ही पिछले 25 सालों से काम कर रहे थे और कई कर्मचारियों ने तो वेतन मिलने की उम्मीद भी छोड़ दी थी.

650 कर्मचारियों को वेतन का भुगतान करते हुए उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने बताया कि कई कर्मचारियों को पिछले 25 सालों से वेतन नहीं मिला था. दिलचस्प बात यह है कि कई कर्मचारियों को 25 सालों के वेतन के तौर पर 15 से 20 लाख रुपये का भुगतान किया गया है.

उद्योग मंत्री शाहनवाज हुसैन ने बताया कि दो निगमों के कर्मचारियों को तकरीबन 80 करोड़ रुपये का वेतन भुगतान किया गया है. कई कर्मचारी बूढ़े हो गए हैं और उन्होंने वेतन पाने की उम्मीद भी छोड़ दी थी मगर आज हम लोगों ने नीतीश कुमार की पहल पर उन्हें वेतन दिया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें
ऐप में खोलें×