scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: वायरल फोटो जोहरा की, लेकिन पुलवामा हमले से नहीं है कोई नाता

पुलवामा आतंकी हमले को बाद से ही लोग इंटरनेट पर तरह का झूठ फैलाने में जुटे हैं. ताजा मामला एक रोती हुई बच्ची की मार्मिक तस्वीर से जुड़ा है.  वायरल हुई तस्वीर को पुलवामा हमले में शहीद जवान की बेटी बताया जा रहा है.

वायरल फोटो वायरल फोटो

पुलवामा आतंकी हमले के बाद से ही लोग इंटरनेट पर तरह-तरह का झूठ फैलाने में जुटे हैं. ताजा मामला एक रोती हुई बच्ची की मार्मिक तस्वीर से जुड़ा है. वायरल हुई तस्वीर को पुलवामा हमले में शहीद जवान की बेटी बताया जा रहा है. लेकिन इंडिया टुडे एंटी फेक न्यूज़ वार रूम (AFWA) ने पाया कि दरअसल ये फोटो एक कश्मीरी बच्ची ज़ोहरा की है. आठ साल की ज़ोहरा के पिता, 2017 में अनंतनाग में हुए एक आतंकी हमले में शहीद हुए थे.

फेसबुक पेज “भारतीय जवान” पर बच्ची  की तस्वीर देखी जा सकती है जिसे अबतक 5000 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

इस पोस्ट का आर्काइव्ड वर्ज़न यहां देखा जा सकता है. कुछ इसी तरह दूसरी फेसबुक यूज़र्स ने भी ज़ोहरा की फोटो का इस्तेमाल किया है. एक फेसबुक यूज़र ने लिखा

 “ये आज इंटरनेट की सबसे दुखद फोटो है.”

इस फोटो को भी कई लोगों ने शेयर किया है.

ज़ोहरा की ही एक और तस्वीर भी वायरल हो रही है. इसमें भी कमोबेश यही लिखा गया है. 

2017 में ज़ोहरा बिलखती हुई स्कूल से घर पहुंची थी जब उसको अपने पिता की मौत की खबर मिली थी.  ज़ोहरा के हाथों में मेहंदी रची थी क्योंकि तब उसकी बड़ी बहन की शादी होनेवाली थी. ज़ोहरा के पिता अब्दुल रशीद पीर, जम्मू कश्मीर पुलिस में कार्यरत थे और अनंतनाग में आतंकियों की गोली से शहीद हुए थे. रोती हुई ज़ोहरा की तस्वीर लोगों के दिलों को छू गई और क्रिकेटर गौतम गंभीर ने ज़ोहरा की पढ़ाई का ज़िम्मा ले लिया था. तो हम एक बार फिर बता दें कि वायरल तस्वीर शहीद की बच्ची की जरुर है लेकिन उसका पुलवामा हमले से कोई नाता नहीं है.

फैक्ट चेक

सोशल मीडिया पर कई यूज़र्स

दावा

पुलवामा आतंकी हमले के शिकार हुए शहीद की बेटी

निष्कर्ष

ये फोटो ज़ोहरा की है जो 2017 में शहीद हुए जम्मू कश्मीर पुलिस के जवान की बेटी है

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
सोशल मीडिया पर कई यूज़र्स
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें