scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: क्या है मोदी और हिटलर की किताबों वाली वायरल तस्वीर का सच?

वायरल तस्वीर में देखा जा सकता है कि जो किताब मोदी पर है, उसके कवर पर मोदी की तस्वीर है और जो किताब हिटलर के बारे में है, उसके कवर पर हिटलर की तस्वीर है. दोनों किताबों के बीच में दो तीर के निशान बने हैं, एक नरेंद्र मोदी की किताब की तरफ संकेत करता है, दूसरा हिटलर की किताब की तरफ.

सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही तस्वीर

सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसमें सुझाव दिया गया है कि अगर आप प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखी किताब को पसंद करते हैं तो आप एडोल्फ हिटलर पर लिखी किताब भी पढ़ें.

इस तस्वीर में एक आलमारी में एक तरफ नरेंद्र मोदी पर लिखी एंडी मारिनो की किताब ‘नरेंद्र मोदी: अ पोलिटिकल बायोग्राफी’ रखी है. उसके बगल में बिल ओरेली की एडोल्फ हिटलर पर लिखी किताब ‘हिटलर्स लास्ट डेज’ रखी है. ‘हिटलर्स लास्ट डेज’ शीर्षक की यह किताब जर्मनी में नाजी शासन के खात्मे पर आधारित है.

वायरल तस्वीर में देखा जा सकता है कि जो किताब मोदी पर है, उसके कवर पर मोदी की तस्वीर है और जो किताब हिटलर के बारे में है, उसके कवर पर हिटलर की तस्वीर है. दोनों किताबों के बीच में दो तीर के निशान बने हैं, एक नरेंद्र मोदी की किताब की तरफ संकेत करता है, दूसरा हिटलर की किताब की तरफ. पहले तीर के साथ लिखा है, ‘अगर आप इसे पसंद करते हैं’, दूसरे तीर के साथ लिखा है ‘तो इसे भी पढ़कर देखें’.

ट्विटर यूजर ‘Ashish’ ने यह तस्वीर ट्वीट करते हुए दावा किया कि उन्होंने यह दृश्य मुंबई एयरपोर्ट पर देखा है. यह स्टोरी लिखे जाने तक इस पोस्ट को 1200 से ज्यादा लोग रीट्वीट कर चुके हैं और 3000 से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं.

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि यह तस्वीर फोटोशॉप की मदद से तैयार की गई है. असली तस्वीर करीब तीन साल पुरानी है, जिसमें अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की किताब ‘Crippled America’ और हिटलर पर लिखी किताब एक साथ रखी दिख रही है.

फोटोशॉप की मदद से तैयार यह तस्वीर फेसबुक पर भी वायरल हो रही है.

AFWA की पड़ताल

एक साधारण रिवर्स सर्च की मदद से वायरल हो रही इस तस्वीर का सच सामने आ गया. सितंबर, 2016 में वेरीफाइड ट्विटर हैंडल ‘The Poke’ ने असली तस्वीर ट्वीट की थी, जिसमें ‘नरेंद्र मोदी: अ पोलिटिकल बायोग्राफी’ की जगह ट्रंप की किताब ‘Crippled America’ रखी है.

वायरल तस्वीर को गौर से देखने पर पता चलता है कि असली तस्वीर में डोनाल्ड ट्रंप का पहला अक्षर ‘D’ किताब के निचले कोने में है. ट्रंप की किताब के कवर के ऊपर ही मोदी वाली किताब की तस्वीर को चिपकाया गया है, लेकिन कोने में यह ‘D’ अक्षर दिख रहा है.

हम इस बात की पुष्टि नहीं कर सके कि यह तस्वीर कब और कहां ली गई, लेकिन यह स्पष्ट है कि वायरल हो रही तस्वीर को असली तस्वीर के साथ छेड़छाड़ करके तैयार किया गया है.

फैक्ट चेक

ट्विटर यूजर ‘Ashish’

दावा

एक किताब की आलमारी में बने तीर के निशान, जो सुझाव देते हैं कि अगर आप नरेंद्र मोदी पर लिखी किताब पसंद करते हैं तो हिटलर पर लिखी किताब भी पढ़ें.

निष्कर्ष

यह तस्वीर फोटोशॉप की मदद से तैयार की गई है. असली तस्वीर में मोदी पर लिखी किताब नहीं, बल्कि डोनाल्ड ट्रंप की किताब है.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
ट्विटर यूजर ‘Ashish’
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें