scorecardresearch
 

फैक्ट चेक: स्टैच्यू ऑफ यूनिटी और ताजमहल की गलत तुलना के साथ पोस्ट वायरल

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि यह दावा गलत है.

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने दावा गलत पाया इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने दावा गलत पाया

पिछले साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात में सरदार वल्लभभाई पटेल की प्रतिमा 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' का उद्घाटन किया था. 182 मीटर की यह प्रतिमा विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है. हालांकि, प्रतिमा बनवाने में आए खर्च को लेकर इसकी आलोचना भी की गई.

31 अक्टूबर को जब इस प्रतिमा के उद्घाटन को एक साल पूरा हुआ तो सोशल मीडिया पर ऐसी पोस्ट की बाढ़ आ गई. जिनमें कहा जा रहा है कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी पर्यटकों के लिए ताजमहल से बड़ा आकर्षण का केंद्र बन गया है और इससे ताजमहल के मुकाबले तीन गुना ज्यादा रेवेन्यू आया है.

फेसबुक पेज ‘Global Hindus’ ने कुछ तथ्यों के सहारे दावा किया ​है कि स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने 2019 में ताजमहल से ज्यादा पर्यटकों को आकर्षित किया और ताजमहल से होने वाली सालाना आय से तीन गुना ज्यादा कमाई की.

इंडिया टुडे के एंटी फेक न्यूज वॉर रूम (AFWA) ने पाया कि यह दावा गलत है.

ताजमहल के आंकड़े

फेसबुक पेज ‘Global Hindus’ ने दावा किया है कि 2019 में स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने 26 लाख पर्यटकों को आकर्षित किया और इससे उसे 71.6 करोड़ रुपये की आय हुई. इस पोस्ट का दावा है कि पिछले तीन सालों के दौरान ताजमहल आने वाले पर्यटकों की संख्या का सालाना औसत 7.50 लाख रहा और इसका सालाना टर्नओवर 22.3 करोड़ रुपये रहा. पोस्ट का आर्काइव्ड वर्जन यहां देखा जा सकता है.

हमें संस्कृति मंत्रालय का दस्तावेज मिला, जिसमें ताजमहल और अन्य स्मारकों के बारे में विस्तार से सूचना दी गई है. यह दरअसल 8 जुलाई 2019 को लोकसभा में एक सवाल के जवाब में पेश किया गया था.

मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, 2018-19 में ताजमहल देखने आने वाले पर्यटकों की संख्या 68 लाख रही और इससे ताजमहल में एंट्री फीस के तौर पर 77 करोड़ रुपये से ज्यादा की आय हुई.

taj-mahal-2018-19_111219102328.jpg

2017-18 में ताजमहल 64 लाख से ज्यादा लोग ताजमहल देखने पहुंचे और इससे 56 करोड़ रुपये से ज्यादा की आय हुई.

taj-mahal-2017-18_111219102444.jpg

2016-17 में करीब 60 लाख लोगों ने ताजमहल का दीदार किया और इससे तकरीबन 50 करोड़ की आय हुई.

taj-mahal-2016-17_111219102555.jpg

इस तरह देखा जाए तो पिछले तीन सालों में टिकट बिक्री से होने वाली ताजमहल की सालाना औसत आय 61.4 करोड़ रुपये रही. यह तथ्य साबित कर रहा है कि पोस्ट में किया जा रहा दावा गलत है. इसके अलावा, यह भी ध्यान में रखना चाहिए कि ताजमहल में लगने वाली एंट्री फीस और स्टैच्यू ऑफ यूनिटी में लगने वाली एंट्री फीस में काफी अंतर है, इसलिए इन दोनों की तुलना नहीं की जा सकती.

संस्कृति मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, पिछले तीन सालों में ताजमहल देखने वाले पर्यटकों की संख्या का सालाना औसत 64 लाख रहा है. फेसबुक पेज में किए गए 7.5 लाख के दावे से यह काफी ज्यादा है.

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के आंकड़े  

सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय एकता ट्रस्ट की वेबसाइट के मुताबिक, 31 अक्टूबर, 2018 को प्रतिमा के अनावरण के बाद से 28 लाख पर्यटक स्टैच्यू ऑफ यूनिटी देखने पहुंचे.

गूगल कीवर्ड सर्च की मदद से हमें टाइम्स ऑफ इंडिया की एक रिपोर्ट मिली, जिसके मुताबिक, स्टेच्यू ऑफ यूनिटी में टिकट बिक्री से 71.66 करोड़ रुपये की आय हुई है. यह रिपोर्ट 23 अक्टूबर, 2019 की है जिसमें फॉरेस्ट और एनवायरमेंट विभाग के चीफ सेक्रेटरी और सरदार सरोवर नर्मदा निगम लिमिटेड (SSNNL) के डायरेक्टर राजीव गुप्ता का बयान छपा है. उनके मुताबिक, “सरदार वल्लभभाई पटेल राष्ट्रीय एकता ट्रस्ट (SVPRET) 71.66 करोड़ रुपये टिकट बिक्री से एकत्र कर चुका है. यहां पर 26 लाख टिकटों की बिक्री हो चुकी है.”

इस तरह यह कहा जा सकता है कि वायरल पोस्ट में ताजमहल से संबंधित जो आंकड़े दिए गए हैं वे गलत और गुमराह करने वाले हैं.

फैक्ट चेक

फेसबुक पेज ‘Global Hindus’ और अन्य

दावा

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी ने ताजमहल से ज्यादा पर्यटकों को आकर्षित किया और ताजमहल से होने वाली सालाना आय से तीन गुना ज्यादा कमाई की.

निष्कर्ष

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी के मुकाबले ताजमहल ने ज्यादा पर्यटकों को आकर्षित किया और इसका रेवेन्यू पोस्ट में किए गए दावे से करीब तीन गुना ज्यादा रहा.

झूठ बोले कौआ काटे

जितने कौवे उतनी बड़ी झूठ

  • कौआ: आधा सच
  • कौवे: ज्यादातर झूठ
  • कौवे: पूरी तरह गलत
फेसबुक पेज ‘Global Hindus’ और अन्य
क्या आपको लगता है कोई मैसैज झूठा ?
सच जानने के लिए उसे हमारे नंबर 73 7000 7000 पर भेजें.
आप हमें factcheck@intoday.com पर ईमेल भी कर सकते हैं
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें