scorecardresearch
 

क्या हवाई चप्पल वाला भी करेगा हवाई यात्रा? ज्योतिरादित्य सिंध‍िया ने दिया ये जवाब

Agenda Aajtak 2021: नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंध‍िया ने कहा कि 30-40 साल पहले नागर विमानन कुछ चुनींदा लोगों तक सीमित था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका लोकतंत्रीकरण किया. UDAN (उड़े देश का आम नागरिक) के द्वारा यह किया जा रहा है.

X
केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंध‍िया (फोटो: रजवंत रावत) केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंध‍िया (फोटो: रजवंत रावत)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • एजेंडा आजतक में आए सिंध‍िया
  • एविएशन सेक्टर की तस्वीर पेश की

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में नागर विमानन सेक्टर का लोकतंत्रीकरण किया है. UDAN योजना के द्वारा हवाई यात्रियों की संख्या लगातार बढ़ रही है. एजेंडा आजतक (Agenda Aajtak) के सत्र 'नई उड़ान' को संबोध‍ित करते हुए केंद्रीय नागर विमानन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंध‍िया ने यह बात कही.

सरकार की ये आकांक्षा रही है कि हवाई चप्पल वाला भी हवाई यात्रा कर पाए. क्या यह परिस्थ‍िति आ गई या अभी सपना दूर है? इस सवाल पर सिंध‍िया ने कहा कि 30-40 साल पहले नागर विमानन कुछ चुनींदा लोगों तक सीमित था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका लोकतंत्रीकरण किया. UDAN (उड़े देश का आम नागरिक) के द्वारा यह किया जा रहा है. इस योजना के द्वारा देश के ऐसे हवाई अड्डे जुड़े हैं जिनका बहुत लोगों ने नाम भी नहीं सुना था. जैसे झारसुगुड़ा, दरभंगा. आज हर साल 3 से 4 लाख यात्री इन एयरपोर्ट से आ रहे हैं. 

उन्होंने कहा कि अभी करीब 14.5 करोड़ लोग हवाई सेवा से यात्रा करते हैं, जबकि करीब 18 करोड़ लोग रेलवे की एसी सेवा से यात्रा करते हैं. आज हवाई टिकट रेलवे के फर्स्ट क्लास एसी से 10 से 15 फीसदी सस्ता है. नागर विमानन 10 फीसदी के करीब दर से बढ़ रहा है, जबकि रेलवे की यात्रा 5 फीसदी की दर से तो अगले वर्षों में हवाई यात्रा करने वाले ज्यादा हो जाएंगे. 

एअर इंडिया की बिक्री सबके लिए फायदा 

एअर इंडिया की बिक्री और टाटा को सौंपने पर उन्होंने कहा कि ये प्रक्रिया जल्दी ही पूरी हो जाएगी. उन्होंने कहा कि हर दिन इस पर 20 करोड़ रुपये टैक्सपेयर्स का पैसा जा रहा था. इसमें 60,000 करोड़ रुपये का कर्ज था. इसलिए सरकार ने एक महत्वपूर्ण और साहसी कदम उठाया है. यह सबके फायदे के लिए है. यह एयरलाइंस सेक्टर के लिए भी काफी‍ महत्वपूर्ण है. ग्राहकों को भी इसका फायदा होगा. उन्होंने कहा कि हर समय 4-5 सक्षम एयरलाइंस होना चाहिए. 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के राज में 10 साल 25 सरकारी कंपनियों का विनिवेश हुआ था. 99,000 करोड़ रुपये का जिन्होंने विनिवेश किया वे आज इसका विरोध कर रहे हैं. एअर इंडिया पर जो 2 लाख करोड़ रुपये का कर्ज का बोझ आया क्या यह देश के पैसे का सदुपयोग था? यह पैसा देश के विकास में लगना चाहिए था या एयरलाइंस चलाने के लिए. उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने जो निर्णय लिए उसी का नतीजा है क‍ि आज एयर इंडिया को बेचना पड़ा. यह सरकार का बहुत साहसी निर्णय है और देशहित में है.

कोरोना को लेकर सतर्क 

कोरोना का नया वैरिएंट Omicron कितनी बड़ी चुनौती है. इस पर ज्योतिरादित्य सिंध‍िया ने कहा कि हमें ऐसी चुनौतियों के लिए तैयार रहना चाहिए. अभी दुनिया में जीनोम सिक्वेंसिंग के आधार पर इसकी तहकीकात हो रही है . लेकिन हमें इसके लिए सावधान रहना चाहिए.

खास निगरानी 

उन्होंने कहा, 'हमने संक्रमण वाले 11 देशों को चिह्नित कर इन देशों से आने फ्लाइट पर विशेष निगरानी है और यात्रियों को रैपिड आरटी-पीसीआर करने के बाद एयरपोर्ट से आने दिया जा रहा है. करीब 8.5 हजार यात्रियों का टेस्ट किया गया है. कनेक्टिविटी जरूरी है, तो सेफ्टी और सुरक्षा भी जरूरी है.' 

इसे भी पढ़ें:

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें