scorecardresearch
 

Human Web Series Review: ड्रग ट्रायल कैसे लेता है गरीबों की जान, मेडिकल की दुनिया का काला सच है 'ह्यूमन'

शेफाली शाह और कीर्ति कुल्हारी स्टारर सीरीज मेडिकल ड्रामा वेब शो है, जिसकी कहानी फार्मा कंपनियों के ड्रग ट्रायल्स पर आधारित है. हर व्यापार के कुछ डार्क साइड होते हैं, जो हम इंसानों को बाहर से दिखाई नहीं देते हैं. मेडिकल फील्ड की कहानी भी कुछ ऐसी ही है.

X
 शेफाली शाह, कीर्ति कुल्हारी शेफाली शाह, कीर्ति कुल्हारी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • ह्यूमन की कहानी दिखाती है ड्रग ट्रायल का सच
  • शेफाली शाह-कीर्ति कुल्हारी ने किया इम्प्रेस

Human Web Series Review: बहुत दिनों बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म पर एक बेहतरीन सीरीज देखने को मिली. डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर रिलीज हुई ह्यूमन मेडिकल ड्रामा वेब सीरीज है. इस थ्रिलर शो में ऐसी कई चीजें हैं, जो आपको पूरी सीरीज देखने पर मजबूर करेगी. चलिये जानते हैं कि क्या है इस शो की कहानी और कैसी रही ह्यूमन के कलाकारों की एक्टिंग. 

ह्यूमन की कहानी में क्या खास है?
शेफाली शाह और कीर्ति कुल्हारी स्टारर सीरीज मेडिकल ड्रामा वेब शो है, जिसकी कहानी फार्मा कंपनियों के ड्रग ट्रायल्स पर आधारित है. हर व्यापार के कुछ डार्क साइड होते हैं, जो हम इंसानों को बाहर से दिखाई नहीं देते हैं. मेडिकल फील्ड की कहानी भी कुछ ऐसी ही है. ह्यूमन की कहानी के जरिये दवा उद्योग में होने वाले भ्रष्टाचार को जनता के सामने रखने की कोशिश की गई है.

 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 
 

A post shared by Shefali Shah (@shefalishahofficial)

ह्यूमन देख कर पता चलता है कि फार्मा कंपनियां कैसे अपने फायदे के लिये मासूम लोगों की जान लेने से नहीं कतराती. दुख की बात ये है कि फार्मा कंपनियों के इस काले धंधे में लोगों की जान बचाने वाले डॉक्टर्स भी शामिल होते हैं. एक तरफ जहां दुनिया डॉक्टर्स को भगवान समझती है. वहीं डॉक्टर्स अपने फायदे के लिये गरीबों की जिंदगी से खेल जाते हैं. सीरीज देखते हुए आपके सामने मेडिकल की दुनिया का वो सच सामने आयेगा, जिसकी आपने कल्पना भी नहीं की होगी. 

क्या है वेब सीरीज की कहानी?
ह्यूमन की कहानी महिला डॉक्टर डॉ गौरी नाथ (शेफाली शाह) के ईद-गिर्द घूमती है. गौरी नाथ वो डॉक्टर हैं, जिन्होंने लोगों की जान बचाने के लिये भोपाल में सबसे बड़े अस्पताल (मंथन) की नींव रखी. पर सच वैसा नहीं है, जैसे कि लोगों को लगता है. डॉक्टर गौरी अपने करियर को लेकर बेहद पैशनेट हैं, जिसके लिये वो गरीबों की जान लेने से भी नहीं डरतीं. डॉक्टर गौरी नाथ को लगता है कि गरीब लोग मरने के लिये ही बने हैं. इसी सोच के साथ वो अपने अंडर डॉ.सायरा सबरवाल (कीर्ति कुल्हारी) को मंथन जॉइन कराती हैं. पर डॉ.सायरा सभरवाल गरीबों की जान लेने नहीं, बल्कि उनकी मदद करने में यकीन रखती हैं. 

सीरीज में दिलचस्प मोड़ तब आता है, जब स्लम एरिया में रहने वाले गरीब लड़के मंगू (विशाल जेठवा) की मां की ड्रग ट्रायल से मौत हो जाती है. अजीब बात ये है कि मंगू खुद अपनी मां की मौत का कारण है. मंगू अंजाने में लोगों की जान लेने वाली फॉर्मा कंपनी के ड्रग ट्रायल का शिकार बन जाता है और अपनी ही मां की जान का दुश्मन बन बैठता है. सीरीज के अंत में देखना दिलचस्प होगा कि लोगों की मसीहा कही जाने वाली डॉक्टर गौरी नाथ का सच दुनिया के सामने आता है या नहीं. कौन है वो जो गरीबों की लड़ाई में उनका साथ देने के लिये आगे क्या आयेगा. ये सब जानने के लिये आपको सीरीज देखनी पड़ेगी. 

कैसी है कलाकारों की एक्टिंग?
दिल्ली क्राइम के बाद शेफाली शाह ने डॉक्टर गौरी नाथ की भूमिका में दमदार रोल प्ले किया. निगेटिव कैरेक्ट में शेफाली शाह अपने किरदार के साथ न्याय करती दिखीं. वहीं कीर्ति कुल्हारी भी डॉक्टर की भूमिका में काफी जचीं. अगर बाती की जाये विशाल जेठवा की, तो उन्होंने भी अपने किरदार को बखूबी निभाया. हालांकि, सीरीज में उनके कुछ इमोशनल सीन्स थे, जहां वो रोने की एक्टिंग ढंग से नहीं कर पाये. बाकी सभी स्टार्स ने अपने किरदारों को काफी अच्छे से निभाया. खासकर शेफाली शाह और कीर्ति कुल्हारी ने. 

डायरेक्श और डायलॉग्स 
ह्यूमन सीरीज में का हर सीन आपको हकीकत के बेहद करीब दिखेगा. सीरीज में डायलॉग्स कम, लेक‍िन अच्छे हैं. हालांकि, कुछ डायलॉग्स सुनकर थोड़ी बोरियत महसूस होती है, लेकिन ठीक है. ये सीरीज मेडिकल की दुनिया का डार्क साइड दिखाती है. शुरू से लेकर अंत सीरीज आपको बांधे रखेगी. पर हां कई सीन्स आपके मन को विचलित भी कर सकते हैं. इसलिये सीरीज डिनर टेबल पर बैठकर बिल्कुल मत देखियेगा. 

हमने रिव्यू दे दिया. बाकी अगर आपने सीरीज देखी है, तो बताइये आपको कैसी लगी. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें