scorecardresearch
 

UP: सपा के प्रबुद्ध सम्मेलन में नहीं पहुंचे लोग, बांदा में खाली दिखाई दीं कुर्सियां

बांदा में समाजवादी पार्टी को उस समय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा जब एक छोटे से मैरिज हॉल को भरने के लिए उसे भीड़ जुटाना मुश्किल पड़ गया.

X
SP के प्रबुद्ध सम्मेलन में नहीं पहुंचे लोग SP के प्रबुद्ध सम्मेलन में नहीं पहुंचे लोग
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बांदा में आयोजित हुआ प्रबुद्ध सम्मेलन
  • सपा के कार्यक्रम में नहीं पहुंचे ज्यादा लोग
  • बड़ी संख्या में कुर्सियां खाली दिखाई दीं

उत्तर प्रदेश के बांदा में समाजवादी पार्टी को उस समय शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा जब एक छोटे से मैरिज हॉल को भरने के लिए उसे भीड़ जुटाना मुश्किल पड़ गया. सपा के प्रबुद्ध सम्मेलन में लोग नहीं पहुंचे. आलम यह रहा कि कार्यक्रम के दौरान आधी से ज्यादा कुर्सियां पूरे समय खाली रहीं. हालांकि, सपा के पूर्व कैबिनेट मंत्री मनोज पांडेय ने दावा किया कि उनकी पार्टी बुंदेलखंड की सभी 19 की 19 सीटें जीतेगी.

आगामी यूपी विधानसभा 2022 के चुनाव में सभी पार्टियां अपने स्तर से तैयारियों में जुट गई हैं. उसी क्रम में रविवार को शहर के एक गेस्ट हाउस में प्रबुद्ध सम्मेलन का आयोजन समाजवादी पार्टी द्वारा किया गया. इसमें मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व कैबिनेट मंत्री ऊंचाहार रायबरेली से विधायक मनोज पांडेय भी शामिल हुए. पार्टी कार्यकर्ताओं एवं पदाधिकारियों ने उन्हें फूल-माला से सम्मान कर स्वागत किया.

शहर के एक गेस्ट हाउस में आयोजित किए गए प्रबुद्ध सम्मेलन में एक तिहाई से ज्यादा कुर्सियां खाली रह गईं, जिसमें कोई बैठने वाला ही नहीं दिखाई दे रहा था. जब मंच पर बैठे लोगों की नजर उन खाली कुर्सियों पर पड़ी तो वो आपस में कानाफूसी करते रहे.

कार्यक्रम में खाली दिखाई दीं कुर्सियां
कार्यक्रम में खाली दिखाई दीं कुर्सियां

वहीं पूर्व कैबिनेट मंत्री ने मनोज पांडेय ने एक बड़ा दावा करते हुए कहा कि सपा बुंदेलखंड क्षेत्र की सभी 19 सीटों पर जीत दर्ज करके अखिलेश यादव के नेतृत्व में 2022 में सरकार बनाएगी. उन्होंने कहा कि ब्राह्मण हमेशा से समाजवादी रहा है. ब्राहमण ने हमेशा सपा के अलावा किसी दल को वोट नहीं किया है. पूर्व में भी कई ब्राह्मणों ने सपा की सरकार में बड़े पदों पर बड़े-बड़े कार्य किए हैं.

सपा को प्रबुद्ध सम्मेलन की जरूरत क्यों पड़ी के सवाल पर उन्होंने कहा कि सपा पूर्व से ही यह सम्मेलन करती रही है. विपक्षियों ने ठीक कुछ दिन पहले इस सम्मेलन की शुरुआत की है. 1997-1998 में तत्कालीन रक्षामंत्री मुलायम सिंह यादव ने प्रबुद्ध सम्मेलन की अध्यक्षता की थी. तब से लगातार ये सम्मेलन किया जा रहा है. उन्होंने कहा, ''हमें सभी जातियों का बहुत बड़ा समर्थन मिल रहा है. आगामी 2022 चुनाव में सपा की सरकार अखिलेश यादव के नेतृत्व में बनेगी. वर्तमान समय में जो प्रबुद्ध सम्मेलन कर रहे हैं उन्हीं के सरकार में सबसे ज्यादा प्रबुद्ध लोगों का अत्याचार एवं मौत हुई है.'' 

(रिपोर्ट: सिद्धार्थ गुप्ता)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें