scorecardresearch
 

संत कबीर नगर में मतगणना स्थल पर बैलेट पेपर के साथ पकड़ा गया लेखपाल, सपा कार्यकर्ताओं का हंगामा

हंगामे की सूचना पाकर मौके पर पहुंची जिलाधिकारी दिव्या मित्तल ने एसडीएम को फटकार लगाई और लेखपाल के खिलाफ एफआईआर कराने के निर्देश दिए.

X
सपा कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा (फाइल फोटो) सपा कार्यकर्ताओं ने किया हंगामा (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जिलाधिकारी ने दिए मामले की जांच के निर्देश
  • आरोपी लेखपाल के खिलाफ होगी एफआईआर

यूपी चुनाव की मतगणना से कुछ घंटे पहले तक इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन और पोस्टल बैलेट को लेकर बवाल थमता नहीं नजर आ रहा है. संत कबीर नगर जिले में मतगणना से एक दिन पहले एक लेखपाल को दो बैलेट पेपर के साथ मतगणना स्थल के अंदर जाते पकड़ा गया. इस घटना को लेकर विपक्षी समाजवादी पार्टी (सपा) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के कार्यकर्ताओं ने जमकर हंगामा किया.

जानकारी के मुताबिक संत कबीर नगर जिले में स्ट्रांग रूम के बाहर एक लेखपाल अपने रजिस्टर में छिपाकर दो बैलेट पेपर लेकर अंदर जा रहा था. मतदान के बाद से ही सपा, बसपा, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (एएपी) के उम्मीदवार और नेता मतगणना में धांधली की आशंका जता रहे हैं. राजनीतिक दलों के कार्यकर्ता स्ट्रांग रूम के आसपास ईवीएम की रखवाली करने के लिए जमा रह रहे हैं.

बुधवार को खलीलाबाद के एसडीएम नवीन श्रीवास्तव के लेखपालों को बुलाया था. एसडीएम के बुलावे पर पहुंचे लेखपाल अपने साथ रजिस्टर लेकर मतगणना स्थल के अंदर जा रहे थे. इसी दौरान सपा नेता मनोज राय ने लेखपालों के रजिस्टर चेक करने की बात कही. मनोज राय को लेखपाल नागेंद्र सिंह के रजिस्टर से दो बैलेट पेपर मिले. इसे लेकर सपा समर्थकों ने हंगामा शुरू कर दिया.

मेंहदावल विधानसभा सीट से सपा के उम्मीदवार जयराम पांडेय, खलीलाबाद से बसपा प्रत्याशी आफताब आलम मौके पर पहुंच गए. विपक्षी दलों के कार्यकर्ताओं की ओर से हंगामे किए जाने की जानकारी मिली तो जिला निर्वाचन अधिकारी दिव्या मित्तल भी मौके पर पहुंचीं. एचआरपीजी कॉलेज में बने मतगणना केंद्र पर पहुंचीं जिला निर्वाचन अधिकारी ने एसडीएम नवीन श्रीवास्तव को फटकार लगाई और लेखपाल के खिलाफ तत्काल एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए.

जिला निर्वाचन अधिकारी दिव्या मित्तल ने मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं. उन्होंने कहा है कि दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी. सपा समेत विपक्षी दलों के नेताओं ने चुनाव आयोग से निष्पक्ष और पारदर्शी मतगणना सुनिश्चित कराने की मांग की है. दूसरी तरफ, बरेली में भी सपा समर्थकों ने चुनाव आयोग से पारदर्शी मतगणना कराए जाने की मांग की है.

बरेली में हटाए गए दो अधिकारी

बरेली में मतगणना स्थल पर कूड़े की गाड़ी से पोस्टल बैलेट मिलने पर हंगामा हुआ था. जिलाधिकारी शिवाकांत द्विवेदी ने कहा है कि इस मामले में बहेड़ी की एसडीएम और रिटर्निंग ऑफिसर पारुल तरार को दोनों जिम्मेदारियों से मुक्त कर दिया गया है. अपर निर्वाचन अधिकारी प्रशासन वीके सिंह को हटा दिया गया है. एडीएम फाइनेंस संतोष बहादुर को अपर निर्वाचन अधिकारी और एसडीएम राजेश कुमार को बहेड़ी का नया आरओ बनाया गया है. बताया जाता है कि बरेली जिले की नौ विधानसभा सीटों के लिए पोस्टल बैलेट के जरिये लगभग 10585 वोट पड़े हैं. पोस्टल बैलट के मतों की संख्या बढ़ सकती है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें