scorecardresearch
 

योगी अयोध्या से लड़ेंगे चुनाव? संजय सिंह होंगे CM उम्मीदवार, जानें- Panchayat Aaj Tak की खास बातें

अयोध्या में राम की पैड़ी में रविवार को 'पंचायत आजतक' हुई. इस कार्यक्रम में यूपी की सियासत के दिग्गज नेता शामिल हुए. इसमें यूपी चुनाव को लेकर तो बात हुई ही, साथ ही अयोध्या को लेकर भी चर्चा हुई. पढ़िए, इस पूरे कार्यक्रम में क्या कुछ हुआ?

X
कार्यक्रम में यूपी के कई दिग्गज शामिल हुए. कार्यक्रम में यूपी के कई दिग्गज शामिल हुए.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पंचायत आजतक में यूपी के दिग्गज नेता हुए शामिल
  • सीएम योगी, संजय सिंह, ब्रजेश पाठक ने की शिरकत

उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों से पहले रविवार को अयोध्या में राम की पैड़ी में आजतक का खास कार्यक्रम 'पंचायत आजतक' हुआ. इस कार्यक्रम में यूपी के कई सियासी दिग्गजों ने शिरकत की और चर्चा की. इस कार्यक्रम में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी शामिल हुए तो आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह भी. इसमें राम जन्मभूमि के पुजारी सत्येंद्र दास भी शामिल हुए. दिनभर चले इस कार्यक्रम में क्या-कुछ हुआ, किस-किस पर चर्चा हुई और क्या निकलकर आया? पढ़िए इस रिपोर्ट में...

पहला सेशनः मालिनी अवस्थी ने सुनाई रामकथा

कार्यक्रम के पहले सेशन में गायिका मालिनी अवस्थी शामिल हुईं. लोकगीतों में महारथ रखने वाली पद्मश्री मालिनी अवस्थी ने भगवान रामकथा की शुरुआत की. उन्होंने भगवान राम के जीवन के सभी महत्वपूर्ण पड़ावों को अपने सुरों सुरों में बांधा. उन्होंने राम जन्म पर सोहर 'जन्मे हैं दीन दयाल' गाया. 

ये भी पढ़ें-- भगवान राम के वनवास जितनी ही लंबी रही उनके मंदिर की प्रतीक्षा- मालिनी अवस्थी

दूसरा सेशनः जब भिड़ बैठे तीन नेता

इस सेशन में यूपी सरकार में मंत्री मोहसिन रजा, कांग्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र सिंह राजपूत और बसपा प्रवक्ता एमएच खान रहे. इस दौरान कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि ये लोग राम की बात कर रहे हैं, तो राम की बच्चों की भी बात कर लें. 70 लाख रोजगार की बात कर लें. इस पर जवाब देते हुए मोहसिन रजा ने कहा इनकी राम में आस्था होती तो ये दौड़े चले आते, लेकिन इन्होंने शिलान्यास से भी खुद को दूर रखा क्योंकि इन्हें तुष्टिकरण की राजनीति करनी है. वहीं, बसपा प्रवक्ता खान ने कहा कि सारा काम ट्रस्ट कर रहा है और श्रेय बीजेपी ले रही है.

ये भी पढ़ें-- मायावती और प्रियंका गांधी की तुलना करने पर भड़के BSP प्रवक्ता, बोले- उनके आने से राहुल हार गए

तीसरा सेशनः सीएम योगी बोले- राम का विरोध करने वाले जीरो बने

तीसरे सेशन 'रामजी करेंगे बेड़ापार' में सीएम योगी आदित्यनाथ शामिल हुए. सीएम योगी ने कहा कि हमने कभी राम को राजनीति से नहीं जोड़ा है. राम भारत की आस्था है, राम के बगैर भारत की कल्पना भी नहीं की जा सकती है. ये त्रेता युग से हर व्यक्ति इस बात को जानता है. जो राम की शरण में गया, उसका उद्धार हुआ है और दुनिया के लिए हीरो बना है और जिसने राम का विरोध किया, उसकी दुर्गती भी हुई है और जनता ने उसको जीरो भी बना दिया है.

ये भी पढ़ें-- पंचायत आजतक: प्रियंका के '40%' पर योगी का चैलेंज, आराधना मिश्रा मोना को कांग्रेस का अध्यक्ष बना दें

चौथा सेशनः यूपी सरकार के तीन मंत्रियों से सीधी बात

'अबकी बार, 300 पार' सेशन में कानून मंत्री ब्रजेश पाठक, स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह और पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री,  नीलकंठ तिवारी शामिल हुए. इस दौरान स्वास्थ्य मंत्री ने दावा करते हुए कहा कि हमने ऑक्सीजन की किल्लत नहीं होने दी, मेडिसिन की किल्लत नहीं होने दी. उन्होंने बताया कि हमें जितनी ऑक्सीजन मिली, उसे हमने पूरी तरह से सप्लाई किया और उसके साथ घरों में जिन्हें जरूरत थी, उन्हें भी दिया. हमने बेड्स लगातार बढ़ाए. वहीं, कानून मंत्री ब्रजेश पाठक ने जनसंख्या नीति पर पूछे गए सवाल पर कहा कि इसे लाने की कोई चर्चा नहीं है. उन्होंने कहा कि कहा कि जनसंख्या नीति को लेकर कोई चर्चा नहीं हुई है, लेकिन ये तय है कि भारत की जनसंख्या चिंता का सबब है. हम सभी को ये सोचना चाहिए. उन्होंने कहा कि जब कभी जरूरत होगी तब जनसंख्या नीति जरूर बनेगी. 

ये भी पढ़ें-- कोरोना काल में क्या सरकार से कोई गलती हुई? यूपी के स्वास्थ्य मंत्री ने बताया

5वां सेशनः मंत्री के सवाल का कांग्रेस प्रवक्ता ने दिया ऐसे जवाब

महिलाओं के मन में क्या? सेशन में योगी सरकार में मंत्री स्वाति सिंह, सपा नेता पूर्वी वर्मा और कांग्रेस प्रवक्ता सुचि विश्वास श्रीवास्तव मौजूद रहीं. इस सेशन में प्रियंका गांधी के 40 फीसदी ऐलान पर स्वाति मंत्री ने कहा कि हम पार्टी में 40 फीसदी जगह महिलाओं के लिए आरक्षित कर ले, तो ये बहुत बड़ा निर्णय होगा. पहले अपनी पार्टी में 40 फीसदी महिलाओं को लाइए तब जाकर उन्हें टिकट दीजिए. इस सेशन के आखिरी में स्वाति सिंह ने कहा कि सुचि जी बोलती बहुत अच्छा हैं, मुझे लगता है कि इन्हें कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष पद के लिए आवेदन कर देना चाहिए. इसका जवाब देते हुए कांग्रेस प्रवक्ता सुचि श्रीवास्तव ने कहा कि ईश्वर चाहेगा तो एक दिन जरूर हो जाएगा. सुचि ने कहा कि मैं क्यों नहीं बन सकती, सबके लिए मौका है.

ये भी पढ़ें-- 'मैं क्यों नहीं बन सकती कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष', स्वाति सिंह के तंज पर बोलीं सुचि श्रीवास्तव

6वां सेशनः जब साथ आए अयोध्या के जानकार

'अयोध्या कल आज और कल' सेशन में अयोध्या के जानकार पूर्व आईपीएस किशोर कुनाल और यतिंद्र मिश्रा शामिल हुए. इस दौरान किशोर कुनाल ने बताया कि राम की अयोध्या में कोई दुखी नहीं था. कोई अनपढ़ नहीं था. किशोर कुनाल ने कहा कि अगर इस देश का, समाज का उत्थान होना है, तो भगवान श्रीराम का जो मर्यादा पुरुषोत्तम वाला चरित्र है, उसका अनुसरण करना होगा. वहीं, यतिंद्र मिश्रा ने कहा कि भविष्य में अयोध्या को एक ऐसे शहर के रूप में जाना जाए जो  बलिदान देना भी जानता है, जो सजा देना भी जानता है, एक ऐसा शहर जो किसी के आगे भी दबता नहीं, लेकिन अपनी विनम्रता में झुका रहता है. राम चरित मानस की अयोध्या जानी जाए, ये मैं चाहता हूं.

7वां सेशनः संजय सिंह बोले- जिन्हें फ्री बिजली चाहिए, वो आप के साथ

इस सेशन में आम आदमी के पार्टी के सांसद और यूपी प्रभारी संजय सिंह शामिल हुए. उन्होंने कहा कि हमारा कोई वोट बैंक नहीं है. जिनको रोजगार चाहिए, जिनको बिजली, पानी, स्वास्थ्य चाहिए, जिनको अरविंद केजरीवाल का मॉडल यूपी में चाहिए, वो आम आदमी पार्टी के साथ आएगा. फ्री देने की आलोचनाओं के सवाल पर उन्होंने कहा कि जिस देश में पीएम, सीएम, सांसद, विधायक को फ्री बिजली मिल सकती है, उस देश में जनता को फ्री बिजली नहीं मिल सकती. वहीं, जब संजय सिंह से यूपी में आप के सीएम उम्मीदवार को लेकर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा कि पार्टी जो जिम्मेदारी देगी, उसे निभाऊंगा.

ये भी पढ़ें-- क्या आप यूपी के मुख्यमंत्री पद के दावेदार हैं? जानें क्या बोले सांसद संजय सिंह

8वां सेशनः क्या योगी को अयोध्या से चुनाव लड़ना चाहिए?

पंचायत आजतक के आखिरी सेशन 'मंदिर के नाम पर' में राम जन्मभूमि के पुजारी महंत सत्येंद्र दास, राम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य राम विलास वेदांती, हनुमानगढ़ी के महंत राजू दास और बाबरी मस्जिद के पक्षकार रहे इकबाल अंसारी शामिल हुए. इस दौरान महंत सत्येंद्र दास ने ये दावा किया कि संपत्ति के लिए महंत नरेंद्र की हत्या की गई. वहीं, जब उनसे पूछा गया कि क्या सीएम योगी को अयोध्या से चुनाव लड़ना चाहिए? तो उन्होंने कहा कि उन्होंने कुछ ऐसे काम किए हैं और कर रहे हैं, जिससे उनका विरोध हो रहा है. इसलिए उन्हें यहां से नहीं लड़ना चाहिए. हालांकि, राम विलास वेदांती ने कहा कि वो सीएम योगी से अनुरोध करते हैं कि वो गोरखपुर छोड़कर अयोध्या से चुनाव लड़ें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें