scorecardresearch
 

मोदी के गढ़ से प्रियंका का हमला, बोलीं- प्रधानमंत्री और उनके खरबपति दोस्तों को छोड़कर देश में कोई सुरक्षित नहीं

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने रविवार को वाराणसी में किसान न्याय रैली को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी पर जमकर हमला बोला. प्रियंका ने कहा कि इस देश में कोई सुरक्षित नहीं है, केवल प्रधानमंत्री, भाजपा और उनके खरबपति दोस्तों को छोड़कर.

वाराणसी में प्रियंका गांधी. वाराणसी में प्रियंका गांधी.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • वाराणसी में प्रियंका का पीएम पर हमला
  • किसान न्याय रैली को किया संबोधित
  • बोलीं- इस देश में अब कोई सुरक्षित नहीं

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में थीं. उन्होंने यहां के जगतपुर इंटर कॉलेज के मैदान पर 'किसान न्याय रैली' को संबोधित किया. इस दौरान उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमला बोला. प्रियंका ने कहा कि इस देश में प्रधानमंत्री, भाजपा और उनके खरबपति दोस्त ही सुरक्षित हैं और कोई सुरक्षित नहीं है. 

प्रियंका ने कहा, 'जब-जब मैं लोगों से बात करती हूं तो एक बात उभर कर आती है कि यहां कुछ हो नहीं रहा है. कमाई नहीं है, रोजगार नहीं है, किसान त्रस्त है, नदियों के पास रहने वाला निषाद त्रस्त है, महिला त्रस्त है, दलित त्रस्त है, लेकिन सब कहते हैं कि दीदी मीडिया में आता है कि सब सुरक्षित हैं. इस देश में सिर्फ दो तरीके के लोग ही सुरक्षित हैं. एक जो भाजपा के साथ जुड़ा है और दूसरे उनके खरबपति मित्र. इस देश का न मजदूर सुरक्षित है, न मल्लाह सुरक्षित है, न दलित सुरक्षित है, न गरीब सुरक्षित है, न महिला सुरक्षित है, इस देश में सिर्फ प्रधानमंत्री, उनके मंत्री, उनकी पार्टी के लोग, जो सत्ता में हैं और उनके खरबपति दोस्त सुरक्षित हैं.'

प्रियंका ने आगे कहा, 'ये देश नष्ट हो रहा है. जितने भी इश्तेहार, होर्डिंग लग रहे हैं, इनके पीछे जो सच्चाई है, आप जानते हैं. लेकिन इस सच्चाई को बोलने से लोग डर क्यों रहे हैं. किस चीज से भय है. क्या हो जाएगा. समय आ गया है. चुनाव की बात नहीं है, अब देश की बात है. ये देश भाजपा के पदाधिकारियों, मंत्रियों, प्रधानमंत्री की जागीर नहीं है, ये देश आपका है.'

उन्होंने कहा, 'अपने अंतर्मन में झांकिए और अपने आप से सिर्फ एक सवाल पूछिए कि जब से ये सरकार आई है, इन पिछले 7 सालों में क्या आपके जीवन में तरक्की आई है या नहीं? विकास आपके द्वार पर आया है या नहीं? जो वचन आपसे किए गए थे, वो निभाए गए हैं या नहीं? और इमानदारी से जवाब दीजिए. अगर आपका जवाब न है तो मेरे साथ खड़े होइए और लड़िए. परिवर्तन लाइए. अपने देश को बदलिए. क्योंकि मैं तब तक नहीं रुकूंगीं जब तक परिवर्तन न आए.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें