scorecardresearch
 

Exit poll : तमिलनाडु में चला स्टालिन का जादू, AIADMK का सूपड़ा साफ

AIADMK की कमान संभाल रहे पलानीस्वामी अपनी पार्टी को लगातार तीसरी बार सत्ता में लाने के लिए जद्दोजहद करते नजर आए लेकिन तमिलनाडु में स्टालिन का जादू चलता नजर आ रहा है.

X
तमिलनाडु में किसकी बनेगी सरकार (फोटोः आजतक)
तमिलनाडु में किसकी बनेगी सरकार (फोटोः आजतक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सत्ता में वापसी को एमके स्टालिन ने लगाया जोर
  • क्षेत्रीय पार्टियों के सहारे राष्ट्रीय दलों  की  किस्मत

तमिलनाडु विधानसभा चुनाव के नतीजे तो दो मई को आएंगे लेकिन उससे पहले इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया के एग्जिट पोल के अनुमान आ गए हैं. तमिलनाडु में एमके स्टालिन का जादू सिर चढ़कर बोलता दिख रहा है. डीएमके के नेतृत्व वाला गठबंधन 175 से 195  सीटों के साथ 10 साल बाद सत्ता में वापसी करता नजर आ रहा है सत्ताधारी एआईएडीएमके गठबंधन 38 से 54 सीटों पर सिमटता नजर आ रहा है. 

वोट प्रतिशत में कौन आगे?

पार्टी वोट प्रतिशत
एआईएडीएमके+ 35
डीएमके+ 48
एएमके 3

सीएम पद के लिए कौन कितने लोगों की पसंद

सीएम पद के लिए पसंदीदा चेहरे की बात करें तो एमके स्टालिन सबसे पसंदीदा चेहरे के तौर पर उभरे हैं. एमके स्टालिन को 46 फीसदी लोगों ने सीएम पद के लिए अपनी पहली पसंद बताया है. ई पलानीस्वामी को 34, कमल हासन को 4 और टीटीवी दिनाकरन को 3 फीसदी लोगों ने सीएम पद के लिए अपनी पहली पसंद बताया है.

गौरतलब है कि तमिलनाडु की 234 विधानसभा सीटों के लिए हुए सर्वे का सैंपल साइज 34187 है. बता दें कि प्रदेश की कुल 234 विधानसभा सीटों के लिए 3998 उम्मीदवार मैदान में हैं जिनकी किस्मत का फैसला जनता ने ईवीएम में कैद कर दिया है. मतगणना 2 मई को होनी है. तमिलनाडु के सियासी इतिहास में पहली बार करुणानिधि और जयललिता के बगैर चुनाव हुए. राज्य की राजनीति अभी तक एआईएडीएमके और डीएमके के बीच ही सिमटी रही है, लेकिन इस बार कई विकल्प मैदान में थे. कांग्रेस और बीजेपी दोनों ही राष्ट्रीय पार्टियां तमिलनाडु की क्षेत्रीय पार्टियों के सहारे किस्मत आजमा रही हैं. 

किस पार्टी के कितने उम्मीदवार

तमिलनाडु की चुनावी जंग में बीजेपी और एआईएडीएमके ने साथ मिलकर चुनाव लड़ा. राज्य की कुल 238 सीटों में से एआईएडीएमके के 191, पीएमके और बीजेपी ने 20 उम्मीदवार मैदान में उतारे. वहीं, डीएमके की अगुवाई में कांग्रेस और लेफ्ट मिलकर चुनावी मैदान में उतरे थे. डीएमके 188 सीटों पर और कांग्रेस 25 सीटों पर चुनाव लड़ी. 12 सीटों पर वाम मोर्चा, वीसीके 6 और इंडियन यूनाइटेड मुस्लिम लीग ने 3 सीटों पर प्रत्याशी उतारे. 

टीटी दिनाकरन की अम्मा मक्कल मुनेत्र कड़गम (एएमएमके) तीसरे मोर्चे का गठन कर चुनावी मैदान में उतरी थी. एएमएमके ने 165 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे. डीएमडीके ने 60, एसडीपीआई ने 6 और असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM ने तीन सीटों पर उम्मीदवार उतारे. फिल्म अभिनेता से नेता बने कमल हासन की पार्टी भी इस बार तमिलनाडु के चुनाव में किस्मत आजमा रही है. कमल हासन की पार्टी मक्कल निधि मय्यम (एमएनएम) ने 180 सीटों पर उम्मीदवार उतारे.

बता दें कि 2016 के विधानसभा चुनाव में कुल 234 सीटों में से एआईएडीएमके गठबंधन ने 134 सीटें जीती थीं जबकि डीएमके गठबंधन को 98 सीटें मिली थीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें