scorecardresearch
 

Opinion: बोलना महंगा पड़ा बाबा रामदेव को

योग गुरु बाबा रामदेव अब मुश्किलों में घिरते दिखाई दे रहे हैं. उन पर देश के कड़े कानून एससी/एसटी एक्ट के तहत कई शहरों में मुकदमे दर्ज हो चुके हैं.

योग गुरु बाबा रामदेव योग गुरु बाबा रामदेव

योग गुरु बाबा रामदेव अब मुश्किलों में घिरते दिखाई दे रहे हैं. उन पर देश के कड़े कानून एससी/एसटी एक्ट के तहत कई शहरों में मुकदमे दर्ज हो चुके हैं. उन पर आरोप है कि राहुल गांधी पर जुबानी हमला करते हुए उन्होंने दलितों से जुड़ा एक मजाक किया. यह मजाक उन्हें कितना भारी पड़ा इसका अंदाजा उन्हें अब तक लग गया होगा. आने वाले समय में अदालतें इस पर क्या रुख अपनाती हैं यह तो बाद की बात है लेकिन फिलहाल वह संकट में हैं.

सफलता चाहे वह किसी भी क्षेत्र में हो अक्सर मनुष्य को या तो अहंकारी बना देती है या फिर वाचाल बना देती है और यहां पर ही योग तथा ध्यान का महत्व समझ में आता है. लेकिन बाबा तो बड़े योगी होकर अपने चित्त को शांत नहीं कर पाए. उनमें वह ध्यान की भावना भी नहीं दिखती है जो उतने बड़े योगी से अपेक्षा की जाती है. वह बोलते हैं और खूब बोलते हैं. देश की अर्थव्यवस्था से लेकर देश की राजनीति तक हर विषय पर वह टीका टिप्पणी करने लगे. भक्तों और समर्थकों की बढ़ती संख्या से वह उत्साहित होते चले गए और फिर हर विषय पर बोलना जैसे कि उनके स्वभाव का हिस्सा हो गया. लेकिन वह यह भूल गए कि राजनीति दोधारी तलवार है. यह खुद को भी जख्मी कर सकती है. यह सबक बाबा रामदेव को मिल गया है.

राजनीति से बाबा रामदेव का प्यार कोई नया नहीं है, जानने वाले जानते हैं कि बाबा कभी सक्रिय राजनीति में आने की बहुत इच्छा रखते थे लेकिन बाद में उन्होंने अपना वह इरादा त्याग दिया. लेकिन उनका राजनीति से मोह खत्म नहीं हुआ और वह अपने योग कार्यक्रमों से मिली शक्ति का राजनीतिक इस्तेमाल करते नजर आए.

इस चुनाव में हमने देखा कि तमाम नेतागण अपनी सीमाएं लांघ गए. उन्होंने एक से बढ़कर एक उपमाएं अपने प्रतिद्वंद्वियों को दी. हर तरह की घटिया भाषा और शब्दों का इस्तेमाल हो रहा है और बाबा का यह बयान भी इसी कड़ी में है. अब उन पर आगे क्या कार्रवाई होती है, यह तो बाद का विषय है लेकिन इतना तय है कि यह चुनाव कई वर्षों तक इसी बात के लिए याद रखा जाएगा कि इसमें शब्दों की मर्यादा कैसे तार-तार कर दी गई और ऐसा करने वाले समाज के ऐसे तबके के लोग थे जिन्हें सम्मान की दृष्टि से देखा जाता है. यह भारतीय लोकतंत्र के लिए चिंता का विषय है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें