scorecardresearch
 

'दिल्ली में शिक्षकों के हजारों पद खाली, बेरोजगारी 5 गुना बढ़ी', सिद्धू का केजरीवाल पर निशाना

नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को कहा कि दिल्ली में शिक्षा व्यवस्था चरमा गई है. 2015 में दिल्ली में शिक्षकों के 12515 पद खाली थे, लेकिन 2021 में अऱविंद केजरीवाल सरकार में शिक्षकों के 19907 पद खाली हैं. ऐसे में अचंभे की बात ये है कि सरकार इन पदों को भरने की बजाय सिर्फ गेस्ट लेक्चरर की भर्ती कर रही है.

X
नवजोत सिंह सिद्धू
नवजोत सिंह सिद्धू
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सिद्धू ने दिल्ली में शिक्षकों की समस्या का मुद्दा उठाया
  • सिद्धू बोले- "शिक्षकों के 19907 पद खाली पड़े हैं"

पंजाब में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर कांग्रेस और आम आदमी पार्टी ने मोर्चा संभाल लिया है. दोनों पार्टियों के नेता एक दूसरे पर हमला कर रहे हैं. अब कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू ने अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए दिल्ली में शिक्षकों की समस्या का मुद्दा उठाया है. उन्होंने कहा कि दिल्ली में शिक्षकों के हजारों पद खाली पड़े हुए हैं, लेकिन दिल्ली सरकार की ओर से सिर्फ गेस्ट लेक्चरर के पद भरे जा रहे हैं. इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि बीते पांच साल में दिल्ली में बेरोजगारी की दर लगभग 5 गुना बढ़ी है.

नवजोत सिंह सिद्धू ने सोमवार को कहा कि दिल्ली में शिक्षा व्यवस्था चरमा गई है. 2015 में दिल्ली में शिक्षकों के 12515 पद खाली थे, लेकिन 2021 में अऱविंद केजरीवाल सरकार में शिक्षकों के 19907 पद खाली हैं. ऐसे में अचंभे की बात ये है कि सरकार इन पदों को भरने की बजाय सिर्फ गेस्ट लेक्चरर की भर्ती कर रही है.

कांग्रेस नेता ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने 2015 में अपने घोषणापत्र में कहा था कि दिल्ली में 8 लाख नई नौकरियां देंगे. इतना ही नहीं आपने 20 नए कॉलेज खोलने का भी वादा किया था. लेकिन आज दिल्ली की जानता जानना चाहती है कि ये नौकरियां और कॉलेज कहां हैं. उन्होंने कहा कि पिछले 5 साल में दिल्ली की बेरोजगारी की दर लगभग 5 गुना बढ़ गई है. यह अरविंद केजरीवाल सरकार की असफलता जाहिर करती है.
 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें