scorecardresearch
 

PM नरेंद्र मोदी बोले- छात्र आंदोलन के पीछे कांग्रेस और अरबन नक्सल की साजिश

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि मेरा देश के कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज के युवा साथियों से भी आग्रह है कि आप अपने महत्व को समझें और जहां आप पढ़ रहे हैं उन संस्थानों का महत्व समझें. सरकार के फैसलों और नीतियों को लेकर चर्चा करें, डिबेट करें. अगर आपको कुछ गलत लगता है तो लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन करें, सरकार तक अपनी बात पहुंचाएं. ये सरकार आपकी हर बात, हर भावना को सुनती, समझती है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

  • नागरिकता कानून को लेकर छात्रों का प्रदर्शन
  • पीएम मोदी ने कॉलेज के छात्रों से किया अपील

नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ दिल्ली सहित देश के तमाम कॉलेज और विश्वविद्यालय के छात्रों द्वारा प्रदर्शन किए जा रहे हैं. इसे लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस और उसके साथी देश के युवाओं को बर्बाद करने का ये खेल खेलना बंद कर दें. साथ ही पीएम मोदी ने कहा कि कहीं न कहीं कांग्रेस और अरबन नक्सल की साजिश है. ये पिछले 20 साल से हमारे पीछे पड़े हैं और लगातार साजिश कर रहे हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि मेरा देश के कॉलेजों और यूनिवर्सिटीज के युवा साथियों से भी आग्रह है कि आप अपने महत्व को समझें और जहां आप पढ़ रहे हैं उन संस्थानों का महत्व समझें. सरकार के फैसलों और नीतियों को लेकर चर्चा करें, डिबेट करें. अगर आपको कुछ गलत लगता है तो लोकतांत्रिक तरीके से प्रदर्शन करें, सरकार तक अपनी बात पहुंचाएं. ये सरकार आपकी हर बात, हर भावना को सुनती, समझती है. उन्होंने कहा कि कांग्रेस और उसके साथी और कुछ अरबन नक्सली कहीं न कहीं इसके साजिश में हैं. कांग्रेस और वामपंथी दलों के नाम अलग-अलग हैं और कारनामे एक ही हैं.

प्रधानमंत्री ने रैली में कहा कि कांग्रेस की बांटो और राज करो इसी नीति की वजह से देश का एक बार बंटवारा हो चुका है. मां भारती के टुकड़े पहले हो चुके हैं. यही कांग्रेस है जिसने अवैध तरीके से लाखों घुसपैठियों को भारत में घुसने दिया, यहां उनको वोटबैंक के नाम पर इस्तेमाल किया. उन्होंने कहा कि घुसपैठियों के कारण जो समस्याएं पैदा हुई हैं उसके लिए भी कांग्रेस और उसके साथी दल ये सब जिम्मेदार हैं. मैं फिर से स्पष्ट कर दूं, भारत सरकार का एक ही ग्रंथ है बाबा साहब आंबेडकर का दिया हुआ संविधान...हमारे लिए एक ही मंत्र सर्वोपरि है और एक ही मंत्र हमारी प्रेरणा है.

पीएम मोदी ने कहा कि पूरे देश ने इस कांग्रेस और उसके साथियों की नकारात्मक सोच को ही नकार दिया. लेकिन लोगों को डराने को, झूठी बातें फैलाने को उन्होंने अपनी राजनीति का आधार बना लिया है. झूठ फैला कर और डर का माहौल बनाकर ही वो अपनी पुरानी आदत के भरोसे ही चल रहे हैं. नागरिकता संशोधन कानून को लेकर फिर ये सफेद झूठ बोलने लगे हैं, लोगों को डराने लगे हैं. कांग्रेस, उसके जैसे दलों और उसके वामपंथी इकोसिस्टम ने पूरी ताकत झोंक दी है.

बता दें कि झारखंड के साहिबगंज जिले के बरहेट में एक जनसभा को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बार हर ओर एक ही बात सुनने को मिल रही है...झारखंड पुकारा...भाजपा दोबारा. उन्होंने कहा कि  जब कमल का फूल खिलता है तो गरीब, महिलाओं, युवाओं, पूरे समाज का भला होता है.

कांग्रेस पर हमला करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि मैं आज कांग्रेस और उनके साथी दलों को खुलेआम चुनौती देता हूं कि अगर उनमें हिम्मत हैं तो वो खुलकर घोषणा करें कि वो पाकिस्तान के हर नागरिक को भारत की नागरिकता देने के लिए तैयार हैं. देश उनका हिसाब चुकता कर देगा.

पीएम ने कहा कि कांग्रेस और उसके साथियों में अगर साहस है तो खुलकर ये भी घोषणा करें कि वो जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में फिर से आर्टिकल 370 को लागू करेंगे. अगर हिम्मत है, तो वो ये भी खुलकर घोषणा करें कि तीन तलाक के खिलाफ जो कानून बना है, उसे रद्द कर देंगे. कांग्रेस और इसके साथी इस चुनौती को स्वीकार करें और खुलकर ये ऐलान करें वरना देश से झूठ बोलना, भ्रम फैलाना और दूसरों को अपनी ढाल बनाकर ये गुरिल्ला राजनीति करना बंद कर दें. कांग्रेस और उसके साथी देश के युवाओं को बर्बाद करने का ये खेल खेलना बंद कर दें.

पीएम मोदी ने कहा कि पूरे देश ने इस कांग्रेस और उसके साथियों की नकारात्मक सोच को ही नकार दिया. लेकिन लोगों को डराने को, झूठी बातें फैलाने को उन्होंने अपनी राजनीति का आधार बना लिया है. झूठ फैला कर और डर का माहौल बनाकर ही वो अपनी पुरानी आदत के भरोसे ही चल रहे हैं. नागरिकता संशोधन कानून को लेकर फिर ये सफेद झूठ बोलने लगे हैं, लोगों को डराने लगे हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि मैं पूरे देश को, देश के प्रत्येक नागरिक को चाहे हिंदू हो या मुस्लिम को फिर ये कहना चाहता हूं कि इस कानून से किसी भी भारतीय नागरिक की नागरिकता पर कोई असर नहीं होगा. हमने जो कानून बनाया है वो तो हमारे पड़ोस के तीन देशों में, धार्मिक अत्याचार की वजह से भारत आने वाले लोगों के लिए बनाया गया है. ये उन लोगों के लिए बनाया गया है जो बरसों से बहुत दयनीय स्थिति में हैं, जिनके पास वापसी का कोई रास्ता नहीं है.

उन्होंने कहा कि मैं पूछना चाहता हूं कि आखिर इसमें भारतीय मुसलमानों, या किसी भी भारतीय नागरिक के अधिकारों का हनन कहां होता है. कांग्रेस और उसके साथी, इस मुद्दे पर मुसलमानों को भड़काने का, डराने का भयभीत करने का प्रयास करके अपनी राजनीतिक खिचड़ी पकाना चाहते हैं. नागरिकता संशोधन कानून न किसी भारतीय का अधिकार छीनता है, न ही उसे किसी तरह का नुकसान पहुंचाता है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें