scorecardresearch
 

कांग्रेस ने बनाई विजय रूपाणी को घेरने की रणनीति, इस्तीफे के लिए बनाएगी दबाव

 पार्टी प्रधानमंत्री को इसी मुद्दे पर और घेरने की तैयारी कर रही है. पार्टी विजय रुपाणी के इस्तीफे के लिए सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक दबाव बनाएगी.

X
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर

कांग्रेस पार्टी ने गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रूपाणी के ऊपर चौतरफा हमला बोल दिया है. पार्टी प्रधानमंत्री को इसी मुद्दे पर और घेरने की तैयारी कर रही है. पार्टी विजय रुपाणी के इस्तीफे के लिए सड़क से लेकर सोशल मीडिया तक दबाव बनाएगी.

कांग्रेस पार्टी के सूत्रों के मुताबिक पार्टी सोशल मीडिया से लेकर नेताओं के भाषणों तक में विजय रूपाणी के खिलाफ सभी के ऑर्डर को लेकर तीखा प्रचार करेगी.

गौरतलब है कि सेबी ने राज्य के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी की कंपनी पर बड़ा जुर्माना लगाया है. सेबी ने विजय रूपाणी की हिंदू अविभाजित परिवार पर 15 लाख रुपए का जुर्माना लगाया है. रूपाणी की कंपनी पर सारंग केमिकल्स की कंपनी के साथ व्यापार में हेर-फेर का आरोप लगाया है.

आजतक से खास बातचीत में कांग्रेस के सांसद और मैनिफेस्टो कमेटी के अध्यक्ष मधुसूदन मिस्त्री ने कहा, 'विजय रूपाणी पर इतने संगीन इल्जाम पर लग रहे हैं, लेकिन प्रधानमंत्री चुप हैं. विजय रूपाणी जी को इस्तीफा दे देना चाहिए. प्रधानमंत्री ने तो उनसे एक्सप्लेनेशन तक नहीं मांगी. आजतक गुजरात ने ऐसा मुख्यमंत्री नहीं देखा जिस पर इतना संगीन एग्जाम लगा हो. प्रधानमंत्री कहते हैं कि ना खाऊंगा ना खाने दूंगा, लेकिन उन्हीं की नाक के नीचे अमित शाह जी का लड़का, अजीत डोभाल जी का लड़का और अब चीफ मिनिस्टर ऐसा काम करते रहे. हम इस्तीफा मांगते रहेंगे. यह कैंपेन का हिस्सा है.

जब मधुसूदन मिस्त्री से पूछा गया कि क्या कांग्रेस ने वह फार्मूला खोज लिया है, जिसके चलते अल्पेश ठाकुर हार्दिक पटेल और जिग्नेश मेवाणी एक साथ रिजर्वेशन के मुद्दे पर कांग्रेस के साथ दिखेंगे, तो मिस्त्री ने कहा कि अभी भी सब साथ-साथ हैं कहीं कोई मतभेद नहीं है.

उन्होंने कहा, 'कहीं कोई मतभेद नहीं है. यह तीनों भाजपा सरकार से लड़ रहे हैं और इसीलिए साथ आए हैं. जहां तक रिजर्वेशन के फॉर्मूले का सवाल है, हम उसको वर्कआउट कर रहे हैं. बातचीत चल रही है, लेकिन कहीं कोई मतभेद नहीं है.' मधुसूदन मिस्त्री आजकल कांग्रेस के मैनिफेस्टो पर काम कर रहे हैं. उनका कहना है कि वो सबकी सुन रहे हैं और जानने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर लोग चाहते क्या हैं, लोगों के मन में क्या है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें