scorecardresearch
 

जेपी 75 पार, माकन परदेस! कौन मानेगा दिल्ली चुनाव पर सोनिया का आदेश

एक वक्त पर दिल्ली की सत्ता पर राज करने वाली कांग्रेस आज विधानसभा में खाता खोलने के लिए कोशिशें कर रही हैं. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस बीच राज्य के सभी बड़े नेताओं से चुनाव लड़ने को कहा है.

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (फोटो: PTI) कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (फोटो: PTI)

  • दिल्ली विधानसभा चुनाव पर कांग्रेस की उलझन
  • कई नेताओं ने नहीं दिया चुनाव लड़ने का जवाब
  • सोनिया गांधी ने दिया था नेताओं को निर्देश

दिल्ली के चुनावी दंगल में देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस के लिए कई तरह की चुनौतियां हैं. एक वक्त पर दिल्ली की सत्ता पर राज करने वाली कांग्रेस आज विधानसभा में खाता खोलने के लिए कोशिशें कर रही हैं. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने इस बीच राज्य के सभी बड़े नेताओं से चुनाव लड़ने को कहा है. लेकिन सोनिया गांधी के इस संदेश से भी कांग्रेस में कुछ साफ होता नहीं दिख रहा है क्योंकि अभी भी दिग्गज नेता चुनाव लड़ने की उलझन में फंसे हैं.

कहां हैं कांग्रेस के दिग्गज?

सोनिया गांधी के इस निर्देश के दो दिन बाद ही पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष अजय माकन अमेरिका के लिए रवाना हो गए थे. हालांकि, सूत्रों का कहना है कि वह किसी निजी काम से अमेरिका गए हैं. इतना ही नहीं अजय माकन ने सोनिया गांधी को सूचित किया है कि वह पिछले 6 महीने से जनता के संपर्क में नहीं हैं, ऐसे में वह तुरंत चुनाव लड़ने पर फैला नहीं ले सकते हैं. अजय माकन ने सोनिया गांधी से कहा है कि वह चुनाव लड़ने के बारे में जल्द जवाब देंगे.

अजय माकन के अलावा कांग्रेस के पूर्व विधायक नसीब सिंह ने भी निजी कारणों से चुनाव लड़ने से इनकार किया है. राज्य के दिग्गज नेता महाबल मिश्रा भी उस लिस्ट में हैं जो पार्टी से नाराज चल रहे हैं. जब सोनिया गांधी ने बैठक बुलाई थी तो महाबल मिश्रा ने उसमें हिस्सा नहीं लिया था, इसके अलावा उनके बेटे विनय मिश्रा ने उसी दिन AAP ज्वाइन कर ली थी.

क्या बेटे के खिलाफ उतरेंगे महाबल मिश्रा? सोनिया के फरमान ने धर्मसंकट में डाला

शीला सरकार में मंत्री रहे जेपी अग्रवाल ने पार्टी आलाकमान को बता दिया है कि वह चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं. हालांकि इससे पहले वह पार्टी को बता चुके हैं कि बढ़ती उम्र के कारण वह चुनाव नहीं लड़ पाएंगे. लेकिन अगर पार्टी कहेगी, तो वह चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं.

यहां क्लिक कर पढ़ें दिल्ली चुनाव की खबरें...

क्या था सोनिया गांधी का निर्देश?

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बीते दिनों पार्टी के प्रदेश नेतृत्व को सीधा संदेश दिया था कि सभी दिग्गजों को चुनाव लड़ना होगा, लोकसभा चुनाव लड़ने वालों को भी विधानसभा चुनाव में हिस्सा लेना होगा. सोनिया गांधी की ओर से निर्देश में कहा गया था कि आपको (नेताओं) को खड़ा होना होगा और चुनाव लड़ना होगा क्योंकि पार्टी को आपकी जरूरत है. चाहे अगर आप हार जाएं, वो भी पार्टी के लिए ही होगा.

गौरतलब है कि दिल्ली में 8 फरवरी को मतदान होना है और 11 फरवरी को नतीजे घोषित किए जाएंगे. पिछले चुनाव में कांग्रेस अपना खाता भी नहीं खोल पाई थी, इसी वजह से पार्टी के सामने कई तरह की चुनौती हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें