scorecardresearch
 

बिहार में महागठबंधन का घोषणा पत्र, तेजस्वी का वादा- पहला हस्ताक्षर 10 लाख नौकरी के फैसले पर होगा

तेजस्वी यादव ने कहा कि अब तक केंद्र की टीम ने आकर नहीं देखा कि बाढ़ से कितने लोग प्रभावित हुए, ऐसा लग रहा है कि बस कुर्सी पाने की होड़ में सब लोग लगे हुए हैं. लोग बड़ी-बड़ी बातें करते हैं कि मेरा काम सेवा का है, मेवा का नहीं है. लेकिन मेवा के लिए बिहार में 60 घोटाले हुए हैं.

आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव (फोटो-Getty Images) आरजेडी के नेता तेजस्वी यादव (फोटो-Getty Images)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • महागठबंधन ने जारी किया घोषणा पत्र
  • तेजस्वी के नेतृत्व में बनेगी सरकार-कांग्रेस
  • सुरजेवाला बोले-कृषि कानूनों को समाप्त करेंगे

बिहार चुनाव को लेकर सरगर्मियां तेज हैं. महागठबंधन ने आगामी विधानसभा चुनाव के लिए पटना में आज अपना घोषणा पत्र जारी किया. घोषणा पत्र जारी किए जाने के मौके पर राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार में अब तक केंद्र की टीम ने आकर नहीं देखा कि बाढ़ से कितने लोग प्रभावित हुए, ऐसा लग रहा है कि बस कुर्सी पाने की होड़ में सब लोग लगे हुए हैं.

वहीं घोषणा पत्र जारी किए जाने के दौरान कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि यदि हम तेजस्वी यादव के नेतृत्व में सरकार बनाते हैं, तो हम तीन कृषि विरोधी कानूनों को समाप्त करने के लिए पहले विधानसभा सत्र में एक विधेयक पारित करेंगे.

तेजस्वी यादव ने कहा कि अब तक केंद्र की टीम ने आकर नहीं देखा कि बाढ़ से कितने लोग प्रभावित हुए, ऐसा लग रहा है कि बस कुर्सी पाने की होड़ में सब लोग लगे हुए हैं. लोग बड़ी-बड़ी बातें करते हैं कि मेरा काम सेवा का है, मेवा का नहीं है. लेकिन मेवा के लिए बिहार में 60 घोटाले हुए हैं. इसके अलावा तेजस्वी ने रोजगार को लेकर भी वादा किया. तेजस्वी ने कहा कि अगर हमारी सरकार बनती है तो पहली कैबिनेट में पहला दस्तखत 10 लाख देने के फैसले पर होगा.

 

वहीं कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि ये नई दशा बनाम दुर्दशा का चुनाव है, ये चुनाव नया रास्ता और नया आसमान बनाम हिन्दू-मुसलमान का चुनाव है, ये चुनाव नए तेज बनाम फेल तजुर्बे की दुहाई का चुनाव है, ये चुनाव खुद्दारी और तरक्की बनाम बंटवारा और नफरत का चुनाव है. 

देखें: आजतक LIVE TV

रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी तीन गठबंधनों में चुनाव लड़ रही है, एक गठबंधन है जेडीयू और बीजेपी का जो आपको नजर आता है, एक गठबंधन है बीजेपी और एलजेपी का जो आप समझते हैं और एक गठबंधन है बीजेपी और ओवैसी साहब का. तीन ठगबंधन के साथ बीजेपी इस बिहार के चुनाव में उतरी है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें