scorecardresearch
 

Bihar Election: इस नेता के पास है 1 करोड़ लोगों को नौकरी देने का जबरा प्‍लान

राजद सुप्रीमो और महागठबंधन से सीएम पद के प्रत्‍याशी तेजस्‍वी यादव ने सत्‍ता में आने पर 10 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा किया है. उनके इस वादे पर विरोधी दल सवाल उठा रहे हैं कि कैसे 10 लाख लोगों को नौकरी देंगे. जबकि सासाराम जिले के डेहरी विधानसभा के एक नेता जी के पास रोजगार का जबरदस्‍त प्‍लान है. वह पूरे दावे से कहते हैं कि यदि वह सीएम बने तो एक करोड़ लोगों को नौकरी दे सकते हैं.

Pradeep Joshi leader has plan to give job 1 crore people Pradeep Joshi leader has plan to give job 1 crore people
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नीतीश-सुशील कहते हैं जमीन नहीं है
  • हम कहते हैं कि बिना इसके रोजगार देंगे
  • उद्योग लगवाएंगे और नौकरी दिलाएंगे

राजद सुप्रीमो और महागठबंधन से सीएम पद के प्रत्‍याशी तेजस्‍वी यादव ने सत्‍ता में आने पर 10 लाख लोगों को नौकरी देने का वादा किया है. उनके इस वादे पर विरोधी दल सवाल उठा रहे हैं कि कैसे 10 लाख लोगों को नौकरी देंगे. जबकि सासाराम जिले के डेहरी विधानसभा के एक नेता जी के पास रोजगार का जबरदस्‍त प्‍लान है. वह पूरे दावे से कहते हैं कि यदि वह सीएम बने तो एक करोड़ लोगों को नौकरी दे सकते हैं. 

पूर्व विधायक हैं प्रदीप जोशी

डेहरी के पूर्व न‍िर्दलीय विधायक प्रदीप जोशी एक बार फ‍िर चुनाव मैदान में हैं. द लल्‍लनटॉप की बिहार में चल रही चुनाव यात्रा के दौरान टीम की उनसे मुलाकात हुई. बातचीत में प्रदीप जोशी ने कहा कि सीएम या पीएम बनने के लिए किसी पढ़ाई की जरूरत नहीं होती. हम भी बन सकते हैं, आप भी बन सकते हैं.

जब शीबू सोरेन झारखंड के मुख्‍यमंत्री बन सकते हैं तो हम आप क्‍यों नहीं बन सकते. उन्‍होंने बताया कि 2005 नवम्‍बर में वह पहली बार न‍िर्दलीय के रूप में विधायक बने थे. इसके बाद 2008 में उन्‍होंने राष्‍ट्र सेवा दल नाम से पार्टी बनाई. इस बार उनकी पार्टी लगभग सभी सीटों से चुनाव लड़ रही है. पहले चरण में 13 सीटों पर उनके प्रत्‍याशी हैं. 

ढाई लाख उद्योग लगवाएंगे 

एक करोड़ लोगों को कैसे रोजगार देंगे? इस सवाल वह पूरे आत्‍मविश्‍वास से कहते हैं कि ढाई लाख उद्योग लगवा कर रोजगार देंगे? उद्योग कैसे लगेगा नीतीश जी और सुशील मोदी तो कहते हैं कि जमीन ही नहीं है? इस पर प्रदीप जोशी कहते हैं कि उन लोगों से कभी लगबो नहीं करेगा क्‍योंकि ज्ञान नहीं है उनके पास. हम ढाई लाख उद्योग लगवा सकते हैं, जमीन का कोई कमी नहीं है, पूंजी भी आ जाएगा, एक करोड़ को काम मिलेगा तो पलायन भी रुकेगा. 

मुद्दे पर दिया था समर्थन 

प्रदीप जोशी राजनीतिक पार्टियों से दूर रह कर राजनीति की बात करते हैं. 2005 फरवरी में उन्‍होंने पहला चुनाव लड़ा था लेकिन हार गए. 2005 नवंबर के चुनाव में जीतकर न‍िर्दलीय विधायक बने और सरकार को मुद्दे पर समर्थन दिया. 2010 के चुनाव में उनका पर्चा खारिज हुआ था तो पत्‍नी ज्‍योति रश्‍मि न‍िर्दलीय लड़ी और जीत भी गईं. 2015 के चुनाव में प्रदीप फ‍िर से लड़े लेकिन जीत नहीं सके. अब फ‍िर से वह अपनी पार्टी के साथ चुनाव मैदान में हैं. लेकिन वह दलगत राजनीति से दूर रहकर चुनाव लड़ने की बात करते हैं.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें