scorecardresearch
 

संदेश विधानसभा सीट: लंबे वक्त से फरार हैं RJD विधायक, चुनाव में किसे मिलेगा मौका?

पिछले चुनाव में राजद और जदयू के गठबंधन के दौरान ये सीट RJD के खाते में गई थी. अरुण कुमार यादव ने राजद की ओर से यहां जीत दर्ज की थी.

दस नवंबर को आएंगे बिहार के नतीजे (सांकेतिक तस्वीर) दस नवंबर को आएंगे बिहार के नतीजे (सांकेतिक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार में विधानसभा चुनाव की हलचल
  • संदेश विधानसभा सीट पर कड़ी टक्कर

बिहार के भोजपुर इलाके की संदेश विधानसभा सीट कई बार चर्चा का विषय बनी है. इस सीट से विधायक अरुण कुमार यादव किशोरी रेप कांड मामले में आरोपी हैं और पिछले करीब एक साल से फरार चल रहे हैं. ऐसे में अब जब चुनाव आए हैं तो नए उम्मीदवार को लेकर चर्चाएं जारी हैं. ऐसे में अब राजद और जदयू-भाजपा के बीच टक्कर है, साथ ही बीजेपी कोशिश करेगी कि ये सीट फिर से उसके खाते में आ जाए.

कौन है उम्मीदवार?
•    किरण देवी – राष्ट्रीय जनता दल 
•    विजयेंद्र यादव – जदयू 
•    शिवशंकर प्रसाद – रालोसपा
•    श्वेता सिंह - लोजपा

मतदान की तिथि – पहला चरण, 28 अक्टूबर
चुनाव के नतीजे - 10 नवंबर
 

क्या कहता है राजनीतिक इतिहास?
1957 में इस विधानसभा सीट पर पहली बार चुनाव हुए. शुरुआती तीन चुनाव में ही यहां पर कांग्रेस, सोशलिस्ट पार्टी और भारतीय जनसंघ ने अपना खाता खोल लिया था. उसके बाद भी ये सीट कभी राजद, जनता दल और लेफ्ट पार्टी के खाते में जाती रही है. पिछले तीन चुनाव में दो बार यहां पर राष्ट्रीय जनता दल को जीत मिली है, जबकि एक बार बीजेपी का खाता खुला है. 

क्या है जातीय समीकरण?
ये सीट पूरी तरह से यादव बहुल इलाके के तौर पर देखी जाती रही है. ऐसे में हर बार राजनीतिक दलों की ओर से इसी को ध्यान में रखते हुए उम्मीदवार मैदान में उतारे जाते हैं. आरा लोकसभा इलाके में आने वाली इस विधानसभा सीट पर कुल ढाई लाख वोटर हैं, जिनमें से 1.30 लाख पुरुष जबकि 1.10 लाख महिला वोटर हैं. 

पिछले विधानसभा चुनाव के नतीजे?
पिछले चुनाव में राजद और जदयू के गठबंधन के दौरान ये सीट RJD के खाते में गई थी. अरुण कुमार यादव ने राजद की ओर से यहां जीत दर्ज की थी. पिछले चुनाव में RJD को इस सीट पर 75 हजार के करीब वोट मिले थे, जबकि बीजेपी के संजय सिंह सिर्फ 48 हजार वोट बटोर पाए थे. जबकि 2010 के चुनाव में नतीजा इसका उल्टा था, जहां संजय सिंह ने जीत दर्ज की थी और अरुण यादव की हार हुई थी. 

स्थानीय विधायक के बारे में?
राजद के स्थानीय विधायक अरुण कुमार यादव पिछले साल सितंबर से ही फरार हैं. पिछले साल चर्चा में आने वाले सेक्स रैकेट स्कैंडल में विधायक का भी नाम आया था. जिसके बाद उनके खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट निकाला गया था, लेकिन वो फरार निकले. पुलिस इस रेप कांड के अलावा भी कई अन्य मामलों में उनकी तलाश कर रही है, हालांकि अबतक पुलिस की पकड़ से दूर है. ऐसे में उम्मीद जताई जा रही है कि राजद इस बार अरुण कुमार यादव की पत्नी को वोट दे सकती है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें