scorecardresearch
 

हरिवंश से 'अभद्रता' को भुनाने की तैयारी, एनडीए ने बिहार अस्मिता से जोड़ा

राज्यसभा में कृषि विधेयक को लेकर उपसभापति हरिवंश नारायण के खिलाफ सदन में विपक्षी दलों ने जिस तरह से हंगामा किया है, राजनीतिक दल उस पर सियासी रोटी सेंकने की जुगत में हैं. एनडीए हरिवंश सिंह के मुद्दे को बिहार की अस्मिता से जोड़ने लगी है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद सहित तमाम बीजेपी नेताओं ने हरिवंश सिंह के मुद्दे को बिहार की प्रतिष्ठा से जोड़ दिया है. 

रामदास अठावले, रविशंकर प्रसाद, हरिवंश नारायण सिंह रामदास अठावले, रविशंकर प्रसाद, हरिवंश नारायण सिंह
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी ने हरिवंश के मुद्दे को बिहार अस्मिता से जोड़ा
  • विधानसभा चुनाव में बीजेपी बनाएगी चुनावी मुद्दा
  • बीजेपी हरिवंश के बहाने कांग्रेस-आरजेडी पर निशाना

बिहार विधानसभा चुनाव के राजनीतिक एजेंडे सेट किए जाने लगे हैं. राज्यसभा में कृषि विधेयक को लेकर उपसभापति हरिवंश नारायण के खिलाफ सदन में विपक्षी दलों ने जिस तरह से हंगामा किया है, राजनीतिक दल उस पर सियासी रोटी सेंकने की जुगत में हैं. एनडीए हरिवंश सिंह के मुद्दे को बिहार की अस्मिता से जोड़ने लगी है. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लेकर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद सहित तमाम बीजेपी नेताओं ने हरिवंश सिंह के मुद्दे को बिहार की प्रतिष्ठा से जोड़ दिया है. 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बिहार की कई विकास परियोजनाओं का शिलान्यास किया है. इस दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि जो कुछ रविवार को राज्यसभा में हुआ वह बहुत ही गलत हुआ और उसकी जितनी निंदा की जाए कम है. उपसभापति हरिवंश के साथ विपक्ष के बर्ताव ने बिहार की प्रतिष्ठा को 'चोट' पहुंचायी है. साथ ही उपमुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि राज्यसभा के उपसभपति के साथ सदन में जो अमर्यादित घटना हुई, उसने पूरे बिहार की अस्मिता को ठेस पहुंचायी है. विपक्ष ने लोकतंत्र के मंदिर में जिस तरह का अमर्यादित व्यवहार किया है, वह निंदनीय है. इससे बिहार के सभी लोग मर्माहत हैं. विपक्ष के बर्ताव का बिहार की जनता करारा जवाब देगी.'

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने इसे धार देते हुए कहा, 'हरिवंश जी देश और बिहार के सम्मानित बुद्धिजीवी, लेखक और पत्रकार हैं. बिहार के लोग उनका बेहद सम्मान करते हैं. ऐसे में रविवार को उनके साथ कांग्रेस और आरजेडी की मौजूदगी में जो कुछ भी हुआ वह बिहार का अपमान है. केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'यदि उस समय वहां पर मार्शल न होते और उन्हें न बचाते तो उस समय उन पर शारीरिक हमला भी हो सकता था.' 

रविशंकर प्रसाद ने कहा, 'मैं अपने राज्य (बिहार) के भावनाओं के साथ हूं. हरिवंश सिंह उसी गांव से आते हैं, जो जय प्रकाश नारायण का की जन्मभूमि है. ऐसे बिहार के सपूत के साथ कांग्रेस और आरजेडी ने जो हिमाकत और बेइज्जती की है, इसका बिहार की जनता जवाब देगी. सदन में उन्होंने अपमान सहते हुए भी अपनी शालीनता को नहीं खोया. कांग्रेस और आरजेडी को बिहार में इसका खामियाजा चुकाना होगा.' हालांकि, उन्होंने कहा कि इसे चुनावी मुद्दा नहीं बनाएंगे. 

वहीं, दूसरी ओर राज्यसभा में भाजपा नेता सुधांशु त्रिवेदी ने इसे मुद्दा बनाया और कहा, 'हरिवंश सिंह के साथ विपक्ष का रविवार को जिस तरह का अमर्यादित आचरण था. वह संसदीय गरिमा के साथ बिहार का अपमान है. बिहार के चुनाव में यह मुद्दा बनेगा और जनता ऐसे लोगों को सबक भी सिखाएगी.' इसके अलावा बीजेपी सांसद विवेक ठाकुर ने भी इस मुद्दे को प्रमुखता से उठाया और कहा, 'हरिवंश जी के साथ जो कुछ हुआ, उसे हम लोग एक तरह से हमला मानते हैं. संपूर्ण बिहार में इसका गलत संदेश गया है. इससे बिहार के लोगों में भारी आक्रोश है.' 

बता दें कि कृषि संबंधी विधेयक को लेकर राज्यसभा में रविवार को जोरदार हंगामा हुआ. सदन में विधेयक पर विपक्ष चर्चा के लिए अगले दिन बढ़ाने की मांग कर रहा था, लेकिन सत्तापक्ष हर हाल में इसे पास करना चाहता था. इसे लेकर विपक्ष ने सदन में जमकर हंगामा किया. टीएमसी सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने सदन में रूल बुक फाड़ दी. उन्होंने कहा कि सदन में सारे नियम तोड़ दिए गए हैं.

राज्यसभा सभापति वेंकैया नायडू ने सोमवार को हंगामा करने वाले विपक्ष के आठ सांसदों को बचे हुए सत्र के लिए निलंबित कर दिया है. सदन में हंगामा के बाद निलंबित होने वाले सांसदों में डेरेक ओ ब्रायन, संजय सिंह, रिपुन बोरा, सैय्यद नासिर हुसैन, केके रागेश, ए करीम, राजीव साटव, डोला सेन हैं. निलंबित राज्यसभा सदस्य संसद परिसर में गांधी मूर्ति के पास धरने पर बैठे हैं. ये सभी सांसद सभापति के फैसले का विरोध कर रहे हैं. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें