scorecardresearch
 

Bihar Election 2020: सीवान सदर विधानसभा सीट से समधियों के बीच चुनावी मुकाबला

2009 में सीवान लोकसभा सीट से ओमप्रकाश यादव निर्दलीय चुनाव जीते थे. उन्होंने आरजेडी की प्रत्याशी व पूर्व सांसद शाहबुद्दीन की पत्नी हेना शहाब और जेडीयू के प्रत्याशी वृषिण पटेल को हराया था.

बिहार में कैबिनेट मंत्री रहे अवध बिहारी और उनके समधी ओमप्रकाश यादव (File Photos) बिहार में कैबिनेट मंत्री रहे अवध बिहारी और उनके समधी ओमप्रकाश यादव (File Photos)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बीजेपी ने दिया आरजेडी प्रत्याशी के समधी को टिकट
  • पांच बार के विधायक रहे अवध बिहार आरजेडी से मैदान में
  • सिवान में समधियों के बीच चुनावी मुकाबला

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 के लिए सीवान सदर विधानसभा से आरजेडी और बीजेपी ने अपने-अपने प्रत्याशियों की घोषणा कर दी है. RJD ने इस सीट से पांच बार के विधायक और बिहार सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे अवध बिहारी को टिकट दिया है, तो वहीं बीजेपी ने उनके समधी ओमप्रकाश यादव को चुनाव मैदान में उतारा है. अब इस सीट पर समधियों के बीच कांटे की टक्कर देखने को मिलेगी. 

एक दूसरे को शिकस्त देने का दावा
सीवान सदर विधानसभा सीट पर इस बार दो समधियों के बीच रोचक मुकाबला होने जा रहा है. ओमप्रकाश यादव का कहना है कि फिर से सीवान में आतंक कायम नहीं होने देंगे. इस चुनाव में जीत तय है, तो वहीं आरजेडी प्रत्याशी अवध बिहारी भी अपनी जीत को लेकर दावा कर रहे हैं. बता दें कि 2009 में सीवान लोकसभा सीट से ओमप्रकाश यादव निर्दलीय चुनाव जीते थे.

उन्होंने आरजेडी की प्रत्याशी व पूर्व सांसद शाहबुद्दीन की पत्नी हेना शहाब और जेडीयू के प्रत्याशी वृषिण पटेल को हराया था. 2014 के लोकसभा चुनाव में वे भाजपा के टिकट पर दोबारा सीवान से सांसद बने,  लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में सीवान लोकसभा सीट जदयू ने अपने कब्जे में ले ली, जहां से कविता सिंह को उम्मीदवार बनाया गया. माना जा रहा है कि इस चुनाव में हार जीत ओमप्रकाश यादव का राजनीतिक भविष्य तय करेगी. 

देखें: आजतक LIVE TV

सिटिंग विधायक लड़ेंगे निर्दलीय चुनाव
बीजेपी ने अपने सिटिंग विधायक व्यासदेव प्रसाद का टिकट काटकर ओमप्रकाश यादव को प्रत्याशी बनाया है. सीवान विधानसभा सीट से जहां ओमप्रकाश यादव का मुकाबला अपने समधी अवध बिहारी से है, तो वहीं टिकट कटने से नाराज व्यासदेव प्रसाद ने भी निर्दलीय चुनाव लड़ने का मन बना लिया है. ऐसा होता है तो ओमप्रकाश यादव के लिए इस चुनाव में दोहरी चुनौती होगी.

(रिपोर्ट- चंदन कुमार)

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें