scorecardresearch
 

Exit Poll: बिहार में किसकी सरकार? आजतक के सबसे सटीक एग्जिट पोल का काउंटडाउन शुरू

नतीजों की मोटी तस्वीर या खाका इसलिए कह रहे हैं क्योंकि जब यह जानना होता है कि किस ने किस उम्मीदवार और पार्टी को वोट दिया और किसको खारिज कर दिया, तो इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया जोड़ का नाम लोगों के जेहन में सबसे पहले आता है. 

X
बिहार में किसकी बनेगी सरकार बिहार में किसकी बनेगी सरकार
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बिहार में 10 नवंबर को होगी वोटों की गिनती
  • सात नवंबर को आखिरी चरण का होगा मतदान
  • इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया एग्जिट पोल का इंतजार

बिहार में विधानसभा चुनाव के लिए अंतिम चरण का मतदान आज हो रहा है. इसके बाद नतीजे 10 नवंबर को आएंगे. नतीजों से पहले बिहार के मूड का हाल आजतक के एग्जिट पोल में पता चल जाएगा. आज शाम 5 बजे से ही आजतक का एग्जिट पोल आना शुरू हो जाएगा. जिसमें संभावित विजेताओं और पराजितों के बारे में एक मोटी तस्वीर जानने को मिल जाएगी. ये चुनाव कई मायने में बहुत अहम है. कोरोना काल में ये पहले अहम चुनाव के साथ कई दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है.

नतीजों की मोटी तस्वीर या खाका इसलिए कह रहे हैं क्योंकि जब यह जानना होता है कि किस ने किस उम्मीदवार और पार्टी को वोट दिया और किसको खारिज कर दिया, तो इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया जोड़ का नाम लोगों के जेहन में सबसे पहले आता है. 

मतदान खत्म होने के तुरंत बाद फिर सबको इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया एग्जिट पोल का इंतजार है. राज्य चुनाव के सबसे सटीक एग्जिट पोल शनिवार की शाम को आजतक/इंडिया टुडे पर देखने के लिए तैयार रहिए. 

सटीक ट्रैक रिकॉर्ड 

इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया का पिछला रिकॉर्ड अपने आप में ही सब कुछ कहता है. इसकी बानगी देखिए. 2013 से 2020 के बीच भारत में आज तक हुए सभी चुनावों में इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया के चुनाव उपरांत सर्वेक्षणों ने 95 प्रतिशत मामलों में नतीजों को लेकर सबसे निश्चित और सटीक अनुमान लगाए. 

2013 से, एक्सिस माय इंडिया ने 40 पोस्ट-पोल (चुनाव उपरांत) सर्वेक्षण किए हैं, जिनमें से 38 बिल्कुल ठीक निशाने पर रहे.  

2016 में इंडिया टुडे के साथ एक्सिस माय इंडिया के जुड़ाव के बाद से, मतदान सर्वेक्षकों ने 35 चुनावों की भविष्यवाणी की है, जिनमें से 33 सही साबित हुईं. 

देखें: आजतक LIVE TV

दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र, भारत, के 2019 आम चुनावों के लिए इंडिया टुडे-एक्सिस माय इंडिया की ओर से संचालित सबसे बड़े एग्जिट पोल में बीजेपी की अगुवाई वाले एनडीए के लिए 339-365 सीटों और यूपीए के लिए 77-108 सीटों की भविष्यवाणी की गई. लोकसभा चुनाव के नतीजे आए तो एनडीए को 352 और यूपीए को 92 सीटें मिलीं.  

फिर भी, एक्सिस-माय-इंडिया के प्रमुख प्रदीप गुप्ता विनम्रतापूर्वक और सावधानी के साथ अपनी बात रखते हैं. प्रदीप गुप्ता अपने कामयाब अनुमानों के लिए टीमवर्क और मतदाताओं के व्यवहार की साइंटिफिक मॉनिटरिंग को श्रेय देते हैं. हालांकि वो चूक की संभावना होने से भी इनकार नहीं करते. वे कहते हैं, “यह बहुत दिलचस्प लगता है कि बिहार में साढ़े चार गठबंधन और 26 राष्ट्रीय और क्षेत्रीय पार्टियां चुनावी दौड़ में शामिल हैं, ऐसे राज्य में जहां जातियों का गणित अहम भूमिका निभाता है.” 

प्रदीप गुप्ता कहते हैं, "एक्सिस-माय-इंडिया ने अतीत में सटीक चुनाव परिणामों का अनुमान लगा कर ऊंची साख कायम की है, लेकिन औसत का कानून यह सुझाव देता है कि सबसे बेहतर कोशिशों के बावजूद, कोई भी हर वक्त ठीक ठीक अनुमान लगाते नहीं रह सकता." 

महामारी के बीच चुनाव 

इसमें कोई शक नहीं है, बिहार में चुनावी कवायद भारी और पेचीदा है. कोरोनावायरस महामारी के कारण ये जोखिम से भी परे नही है. 243 सदस्यीय विधानसभा के लिए लगभग 7.30 करोड़ पात्र मतदाता हैं, जिनमें से 78 लाख पहली बार अपने वोटिंग अधिकार का प्रयोग कर रहे हैं.  

अहम स्टेकहोल्डर्स में से एक तरफ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए ) का सत्तारूढ़ गठबंधन है, जिसमें चुनवी मैदान में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दल-यूनाइटेड ने 115 सीटों, भारतीय जनता पार्टी ने 110, विकासशील इनसान पार्टी ने 11 और जीतन राम मांझी की हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा ने 7 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. 

दूसरी तरफ विपक्ष के महागठबंधन में मुख्य रूप से लालू यादव की राष्ट्रीय जनता दल (इस चुनाव में उनके बेटे तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री के चेहरे हैं) ने 144 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. महागठबंधन के अन्य सहयोगियों में कांग्रेस 70, सीपीआई-एमएल 19, सीपीआई 6 और सीपीआईएम 4 सीटों पर चुनाव लड़ रही है.   

केंद्र में एनडीए की हिस्सा लोकजनशक्ति पार्टी (एलजेपी) इस विधानसभा चुनाव में अकेले बूते ही ताल ठोक रही है. दिवंगत केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की स्थापित की गई इस पार्टी की कमान अब उनके बेटे चिराग पासवान के हाथ में है. राज्य में जेडीयू के साथ मतभेदों का हवाला देते हुए एलजेपी ने अकेले ही चुनाव लड़ने का फैसला किया. 

बिहार में 2015 में पिछले विधानसभा चुनाव में महागठबंधन (जिसमें जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस साझा मंच पर थे) ने 178 सीटों के साथ बहुमत हासिल किया था. बीजेपी के नेतृत्व वाले एनडीए को 58 सीटों से ही संतोष करना पड़ा था. महागठबंधन की ओर से नीतीश कुमार सीएम बने. 

हालांकि 2017 में, नीतीश कुमार की पार्टी जेडीयू ने महागठबंधन छोड़ दिया और दोबारा एनडीए में शामिल होने का फैसला किया. नीतीश कुमार नए सेटअप में भी सीएम बने रहे.  और उनके डिप्टी सीएम के तौर पर तेजस्वी यादव की जगह बीजेपी के सुशील कुमार मोदी आ गए.  

बिहार पहला राज्य है जहां कोविड-19 महामारी के बीच एक बड़ा चुनाव हो रहा है. ये स्थिति एक्जिट पोल के लिए कई तरह की चुनौतियां पेश करती है. 

दिल्ली पूर्वानुमान   

इस साल की शुरुआत में दिल्ली विधानसभा के चुनाव में इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया की  भविष्यवाणी असाधारण रूप से सटीक रही. 

इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया पोल ने 8 फरवरी के चुनाव में आम आदमी पार्टी की ओर से क्लीन स्वीप करने का अनुमान लगाया. एग्जिट पोल में 70 सदस्यीय दिल्ली विधानसभा में आम आदमी पार्टी को 59 से 68 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया. इस पार्टी की निकटतम प्रतिद्वंद्वी बीजेपी और उसके सहयोगी दलों को दो से ग्यारह सीटें और कांग्रेस को शून्य सीट मिलने की भविष्यवाणी की गई.  

असल नतीजों में,  आप ने 62, बीजेपी ने 8 सीट हासिल कीं, कांग्रेस खाता भी नहीं खोल सकी.  

कोई भी दूसरा मीडिया नतीजों का इतनी सटीकता के साथ अनुमान नहीं लगा पाया था. 

झारखंड पूर्वानुमान 

इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया एग्जिट पोल ने झारखंड विधानासभा चुनाव में बीजेपी की हार का अनुमान लगाया. 81 सीटों वाली राज्य विधानसभा में बीजेपी को  22-32 सीट मिलने की भविष्यवाणी की गई. विपक्षी गठबंधन जिसमें जेएमएम, कांग्रेस और आरजेडी शामिल थे, को 38 से 50 सीटों पर जीत मिलने का अनुमान लगाया गया. 

वास्तविक परिणाम अलग नहीं थे. बीजेपी ने 25 और विपक्षी गठबंधन ने 47 सीटों पर जीत हासिल की. 

हरियाणा, महाराष्ट्र पूर्वानुमान 

हरियाणा में, सत्तारूढ़ बीजेपी के लिए इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया का पूर्वानुमान 32-44 मिलने का था. सर्वेक्षण में कांग्रेस को 30-42 सीटें मिलने की भविष्यवाणी की गई. वास्तविक परिणामों ने बीजेपी को 40 और कांग्रेस को 31 सीटें दीं. 

महाराष्ट्र में, बीजेपी और शिवसेना के चुनाव पूर्व गठबंधन के लिए  इंडिया टुडे-एक्सिस-माय-इंडिया ने सुविधाजनक आरामदायक बहुमत की भविष्यवाणी की. इस गठबंधन को सर्वेक्षण में  161 सीट मिलने का अनुमान लगाया गया.  

लेकिन आखिरकार शिवसेना ने एनसीपी-कांग्रेस के साथ सरकार बनाने के लिए नया गठबंधन किया और उद्धव ठाकरे मुख्यमंत्री बने. अब सभी की निगाहें हैं 7 नवंबर को बिहार विधानसभा चुनाव के लिए इंडिया टुडे- एक्सिस-माय-इंडिया के पूर्वानुमानों पर. 


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें