scorecardresearch
 

रानीगंज विधानसभाः इस सीट पर हैट्रिक लगा चुकी है बीजेपी, पिछले चुनाव में JDU ने दी थी मात

2015 विधानसभा चुनाव में रानीगंज से जेडीयू के अचमित ऋषिदेव जीते थे. उन्होंने बीजेपी के रामजी दास ऋषिदेव को पटखनी दी थी. अचमित ऋषिदेव को 77717, जबकि रामजी दास ऋषिदेव को 62787 वोट मिले थे.

रानीगंज विधानसभा सीट रानीगंज विधानसभा सीट
स्टोरी हाइलाइट्स
  • इसी साल बिहार में होना है विधानसभा चुनाव
  • 2015 में रानीगंज से जेडीयू ने मारी थी बाजी
  • इस बार बीजेपी-जेडीयू एक साथ मैदान में हैं

बिहार में चुनावी सरगर्मी तेज हो गई है. पिछले 7 दशकों में हुए चुनाव से इस बार चुनावी प्रक्रिया काफी नई और अलग होगी. कोरोना संकट के बीच बिहार पहला राज्य है, जहां विधानसभा के चुनाव होंगे. बिहार में 243 विधानसभा सीटों पर चुनाव होना है. अररिया जिले के रानीगंज विधानसभा सीट की बात की जाए तो यहां भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) पिछले चुनाव से पहले हैट्रिक जमा चुकी है. हालांकि 2015 के चुनाव में इस सीट से जेडीयू ने बाजी मारी थी, लेकिन इस बार जेडीयू-बीजेपी साथ मैदान में उतर रहे हैं. ऐसे में इस सीट पर रोमांचक लड़ाई देखने को मिल सकती है.

सीट का इतिहास

रानीगंज सीट पर अब तक 15 बार चुनाव हुए है. पहली बार चुनाव 1957 में हुआ था, तब इस सीट से कांग्रेस पार्टी के राम नारायण मंडल ने जीत दर्ज की थी. पिछले 15 चुनाव की बात की जाए तो 5 बार कांग्रेस, 3 बार बीजेपी, 2 बार जनता दल, 2 बार निर्दलीय, एक-एक बार जनता पार्टी, आरजेडी और जेडीयू ने जीत दर्ज करने में कामयाबी हासिल की है. यह सीट 1962 के बाद से आरक्षित (SC) है. 

इन उम्मीदवारों पर रहेगी नजर 

इस सीट से 33 नामांकन दाखिल हुए हैं, जिसमें 17 स्वीकार किए गए हैं. 16 नामांकन रद्द कर दिए गए. 
1- अचमित ऋषिदेव (JDU)
2- अविनाश मंगलम ऋषिदेव (RJD)
वोटिंग: 7 नवंबर, शनिवार, रिजल्ट-10 नवंबर

2015 में क्या था समीकरण

2015 विधानसभा चुनाव में रानीगंज से जेडीयू के अचमित ऋषिदेव जीते थे. उन्होंने बीजेपी के रामजी दास ऋषिदेव को पटखनी दी थी. अचमित ऋषिदेव को 77717, जबकि रामजी दास ऋषिदेव को 62787 वोट मिले थे. 2015 के चुनाव में बीजेपी और जेडीयू अलग-अलग मैदान में उतरे थे, लेकिन इस बार साथ हैं. वहीं, आरजेडी इस सीट पर साल 2000 में जीती थी, जबकि कांग्रेस के खाते में ये सीट 1985 के बाद से नहीं आई है. 

पिछड़ा क्षेत्र माना जाता है

रानीगंज विधानसभा सीट अररिया जिले में है, जो पिछड़ा क्षेत्र माना जाता है. 2011 की जनगणना के अनुसार, अररिया जिले की लगभग आबादी 28,11,569 है, जबकि रानीगंज विधानसभा सीट की आबादी करीब 482592 है. यहां की अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि पर निर्भर करती है. इस जिला का मुख्य कृषि उत्पादन धान, मक्का और जूट हैं. 2006 में भारत सरकार ने अररिया जिला को देश के 250 सबसे पिछड़े जिलों में से एक नाम दिया था. 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें