scorecardresearch
 

8 रुपये का समोसा, 15 का रसगुल्ला... बिहार में ऐसे जोड़ा जाएगा उम्मीदवारों का चुनाव खर्च

विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों की खर्च सीमा तय कर दी है. चुनाव प्रचार के दौरान कोई भी प्रत्याशी 28 लाख से अधिक खर्च नहीं कर सकेगा. प्रत्याशियों द्वारा किए जाने वाले खर्चे पर चुनाव आयोग की नजर रहेगी. कॉफी, समोसे और रसगुल्ले के साथ ही लंच पैकेट की कीमत भी तय की गई है.

8 रुपये का समोसा, 12 की कॉफी, रसगुल्ले का रेट 15 रुपया. 8 रुपये का समोसा, 12 की कॉफी, रसगुल्ले का रेट 15 रुपया.
स्टोरी हाइलाइट्स
  • रजिस्टर में शुल्क दर्ज से अधिक किया खर्च तो होगी कार्रवाई
  • चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों की खर्च की सीमा की तय
  • चुनाव में अवैध खर्च रोकने के लिए 42 टीम लगाई गईं

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में प्रत्याशियों द्वारा किए जाने वाले खर्च पर चुनाव आयोग की पैनी नजर रहेगी. प्रत्याशियों द्वारा चाय, कॉफी, समोसा  से लेकर बैनर, कनात, पंडाल और वाहनों पर किस तरह खर्चा करना है, ये भी तय कर दिया गया है. इसके अनुसार अब प्रत्याशी ​सिर्फ 8 रुपये का समोसा, 12 रुपये की कॉफी और 15 रुपये की कीमत वाला रसगुल्ला ही अपने कार्यकर्ताओं को खिला सकेंगे. साफ शब्दों में कहा जाए, कि इससे अधिक की दर में  यदि रजिस्टर में शुल्क दर्ज किया गया, तो कार्रवाई होगी.

विधानसभा चुनाव के लिए चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों की खर्च सीमा तय कर दी है. चुनाव प्रचार के दौरान कोई भी प्रत्याशी 28 लाख से अधिक खर्च नहीं कर सकेगा. प्रत्याशियों द्वारा किए जाने वाले खर्चे पर चुनाव आयोग की नजर रहेगी. कॉफी, समोसे और रसगुल्ले के साथ ही लंच पैकेट की कीमत भी 105 रुपये तय की गई है.

इससे अधिक महंगा लंच पैकेट नहीं होना चाहिए. प्रत्याशी के खर्च में कागज-कलम की भी दर तय कर दी गई है. इसके अलावा वाहनों की भी अलग-अलग दर निर्धारित की गई है. इस खर्च में बल्ब जलाने पर आने वाले बिजली के बिल की वाट के हिसाब से राशि तय की गई है, वहीं होल्डर की कीमत भी तय कर दी गई है.

कोरोना कमांडोज़ का हौसला बढ़ाएं और उन्हें शुक्रिया कहें... 

चुनाव प्रचार सामग्री का भी रेट तय
समोसा, कॉफी और रसगुल्ले के अलावा चुनाव प्रचार सामग्री का भी रेट तय कर दिया गया है. कपड़े का बैनर 20 रुपया वर्गफीट और झंडा 22 रुपया पीस के हिसाब से ही खर्च में शामिल किया जा सकेगा. होर्डिंग का खर्चा 80 रुपये वर्गफीट के हिसाब से तय हुआ है. वीडियो व ऑडियो कैसेट 20 रुपये प्रति पीस तय ​हुआ है. चुनाव आयोग ने प्रत्याशियों के वैध खर्चे पर नजर रखने के लिए 56 टीमों को लगाया है, वहीं अवैध खर्च रोकने के लिए 42 टीम लगाई गई हैं, जो हर दिन अपनी रिपोर्ट देंगी.

ये हैं वाहनों के रेट 
- 50 और उससे अधिक क्षमता की बस 2850 रुपये
- 40 से 49 सीट क्षमता वाली बस 2600 रुपये
- 23 से 39 सीट वाली मिनी बस 1950 रुपये
- छोटी कार 800 रुपये
- छोटी एसी कार 900 रुपये
- जीप, कमांडर, जिप्सी 900 रुपये
- बोलेरो, सूमो, मार्शल 1000 रुपये
- एसी युक्त बोलेरो, सूमो, मार्शल 1200 रुपये
- जायलो, स्कॉर्पियो, ट्रेवलर 1600 रुपये
- सफारी, इनोवा 1700 रुपये
- ऑटो रिक्शा 500 रुपये
- बाइक 250 रुपये
- भारी गाड़ी 1950 से 2600 रुपये तक

देश-दुनिया के किस हिस्से में कितना है कोरोना का कहर? यहां क्लिक कर देखें

टोपी पहनाई तो जुड़ेंगे 150 रुपये
बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में टोपी का भी रेट तय हो गया है. चुनाव प्रचार के दौरान अगर प्रत्याशी ने किसी व्यक्ति को खादी की टोपी पहनाई या फिर किसी व्यक्ति ने प्रत्याशी को पहनाई, दोनों स्थितियों में प्रत्याशी के खर्च में 150 रुपये जोड़ा जाएगा.

ये हैं टोपी के रेट  
टोपी खादी-150 रुपये
टोपी कपड़ा सूती- 30 रुपए
पगड़ी- 150 रुपये पीस
टोपी कैप- 55 रुपये पीस
बैच छोटा- 45 रुपये पीस


 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें