scorecardresearch
 

बंगाल पर तकरार जारी, राज्यपाल ने गृह मंत्रालय को भेजी कानून व्यवस्था पर रिपोर्ट

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने राज्य की कानून व्यवस्था को लेकर गृह मंत्रालय को रिपोर्ट सौंपी है. बीते दिन जेपी नड्डा के काफिले पर हुए हमले के बाद केंद्र ने सख्त रुख अपनाया था.

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भेजी रिपोर्ट (PTI Photo) पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भेजी रिपोर्ट (PTI Photo)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • बंगाल के राज्यपाल ने केंद्र को सौंपी रिपोर्ट
  • कानून व्यवस्था पर गृह मंत्रालय को दी रिपोर्ट

पश्चिम बंगाल में सियासी तापमान बढ़ता जा रहा है. भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर बीते दिन हुए हमले पर बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने केंद्रीय गृह मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट भेज दी है. 

गृह मंत्रालय के सूत्रों के मुताबिक, राज्यपाल ने बंगाल की मौजूदा कानून व्यवस्था पर रिपोर्ट भेजी है. बंगाल के राज्यपाल ने गृह मंत्रालय को लिखी रिपोर्ट में जिक्र किया है कि जेपी नड्डा और अन्य बीजेपी नेताओं की सुरक्षा में कमी थी.

बीते दिन ही केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बंगाल के राज्यपाल ने राज्य में बिगड़ रही कानून व्यवस्था, नेताओं पर बढ़ रहे हमलों को लेकर रिपोर्ट तलब की थी. बंगाल में कानून व्यवस्था के मसले पर आज राज्यपाल प्रेस कॉन्फ्रेंस भी करेंगे. 

देखें: आजतक LIVE TV

गुरुवार को अपने बंगाल दौरे के बीच जब जेपी नड्डा डायमंड हार्बर जा रहे थे, तब उनके काफिले पर हमला किया गया. बीजेपी ने आरोप लगाया कि ये हमला टीएमसी समर्थकों द्वारा किया गया है. इस दौरान जेपी नड्डा की गाड़ी पर पत्थर फेंके गए, उनके अलावा कैलाश विजयवर्गीय की गाड़ी पर भी हमला हुआ.

जेपी नड्डा एक राष्ट्रीय पार्टी के अध्यक्ष हैं, उनके पास जेड+ सुरक्षा है. ऐसे में बीजेपी की ओर से आरोप लगाया जा रहा है कि बंगाल में कोई अध्यक्ष भी सुरक्षित नहीं है, ऐसे में कानून व्यवस्था का क्या हाल है. 

अमित शाह ने भी की थी निंदा
बता दें कि जेपी नड्डा पर हुए हमले की केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने भी कड़ी निंदा की थी. अमित शाह ने ट्वीट किया था कि बंगाल में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा जी के ऊपर हुआ हमला बहुत ही निंदनीय है, उसकी जितनी भी निंदा की जाये वो कम है. केंद्र सरकार इस हमले को पूरी गंभीरता से ले रही है, बंगाल सरकार को इस प्रायोजित हिंसा के लिए प्रदेश की शांतिप्रिय जनता को जवाब देना होगा.

अमित शाह ने अपने ट्वीट में लिखा था कि तृणमूल शासन में बंगाल अत्याचार, अराजकता और अंधकार के युग में जा चुका है. टीएमसी के राज में पश्चिम बंगाल के अंदर जिस तरह से राजनीतिक हिंसा को संस्थागत कर चरम सीमा पर पहुंचाया गया है, वो लोकतांत्रिक मूल्यों में विश्वास रखने वाले सभी लोगों के लिए दु:खद भी है और चिंताजनक भी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें