scorecardresearch
 

Exit Poll 2021: असम में बीजेपी की वापसी, 85 तक सीटें मिलने का अनुमान

2016 के असम विधानसभा चुनाव में कुल 126 सीटों में से बीजेपी को 60, कांग्रेस को 26, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट को 13, असम गण परिषद को 14, बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट को 12 और निर्दलीय को एक सीट पर जीत मिली थी.

प्रधानमंत्री मोदी के साथ असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल. (फाइल फोटो-PTI) प्रधानमंत्री मोदी के साथ असम के सीएम सर्बानंद सोनोवाल. (फाइल फोटो-PTI)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • असम में विधानसभा चुनाव में कुल 126 सीटों पर तीन चरणों में चुनाव हुए
  • राज्य की कुल 126 सीटों में से बीजेपी 93, एजीपी 29 और यूपीपीएल 11 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं

असम के एग्जिट पोल के नतीजे आ गए हैं. इंडिया टुडे-माय एक्सिस के एग्जिट पोल में असम में बीजेपी की वापसी का अनुमान है. बीजेपी गठबंधन को यहां 85 तक सीटें मिलने का अनुमान है. वहीं, कांग्रेस को भी पिछली बार के मुकाबले मामूली बढ़त मिलने का अनुमान है. एग्जिट पोल के लिए 27,189 लोगों को सैम्पल साइज लिया गया था.

पूर्वोत्तर के सबसे बड़े राज्य असम में विधानसभा चुनाव में कुल 126 सीटों पर तीन चरणों में चुनाव हुए हैं. इस बार के चुनाव में सत्ताधारी बीजेपी गठबंधन और कांग्रेस गठबंधन के बीच कांटे का मुकाबला है. वहीं, तीसरे मोर्चे के तौर पर असम जातीय परिषद और रायजोर दल मैदान में हैं. एग्जिट पोल के नतीजे बताते हैं कि असम में बीजेपी की वापसी हो सकती है. बीजेपी गठबंधन को असम में 48% वोट मिलने का अनुमान है.


बीजेपी गठबंधन को असम में 75 से 85 सीटें तक मिलने का अनुमान है. इनमें से अकेले 61 से 65 सीटें बीजेपी को मिल सकती हैं. अगर ऐसा होता है कि सीएए का विरोध होने के बावजूद बीजेपी पिछली बार से ज्यादा सीटें जीतने में कामयाब होगी. वहीं, कांग्रेस के खाते में 24 से 30 सीटें आने का अनुमान है. पिछली बार कांग्रेस ने 26 सीटें जीती थीं. जबकि अन्य 1 से 4 सीटें जीत सकते हैं.

बीजेपी के नेतृत्व वाले गठबंधन में असम गण परिषद (एजीपी) और यूनाइटेड पीपल्स पार्टी लिबरल (यूपीपीएल) शामिल हैं. राज्य की कुल 126 सीटों में से बीजेपी 93, एजीपी 29 और यूपीपीएल 11 सीटों पर चुनाव लड़ रही हैं. साथ ही बीजेपी गठबंधन सात सीटों पर फ्रेंडली फाइट भी कर रही है. 

वहीं, कांग्रेस के अगुवाई वाले गठबंधन में ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (एआईयूडीएफ), बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट (बीपीएफ), आंचलिक गण मोर्चा, आरजेडी, लेफ्ट पार्टियां शामिल हैं. कांग्रेस 95, एआईयूडीएफ 20,  बीपीएफ 12, लेफ्ट पार्टी 7, आंचलिक गण मोर्चा 1 और आरजेडी 1 सीट पर चुनाव लड़ रही है. साथ ही 10 सीटों पर कांग्रेस गठबंधन फ्रेंडली फाइट कर रहे हैं.
  
असम में तीसरे मोर्चा के तौर पर रायजोर दल (आरडी) और असम जातीय परिषद (एजेपी) का गठबंधन मैदान में है. ये दोनों पार्टियां 2019 के नागरिकता संशोधन कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान उभरी हैं और अब चुनावी किस्मत आजमा रही हैं. 

असम के एग्जिट पोल के नतीजों से एक बात ये भी सामने आई है कि भले ही असम में बीजेपी की सरकार नहीं बदल रही हो, लेकिन लोगों ने सीएम बदलने का मूड बना लिया है. असम की जनता से जब पूछा गया कि असम में अगला सीएम किसे होना चाहिए? तो सर्वे में शामिल 20% लोगों ने हेमंत विश्व सरमा को पहली पसंद बताया है. जबकि, 19% लोगों की पसंद मौजूदा सीएम सर्वानंद सोनोवाल रहे. 

बता दें कि साल 2016 के असम विधानसभा चुनाव में कुल 126 सीटों में से बीजेपी को 60, कांग्रेस को 26, ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट को 13, असम गण परिषद को 14, बोडोलैंड पीपल्स फ्रंट को 12 और निर्दलीय को एक सीट पर जीत मिली थी.

ये भी पढ़ें

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें