scorecardresearch
 

ऐसे काम करता है ICJ, 15 जजों की टीम देगी जाधव केस में फैसला

पूर्व भारतीय नौसैनिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में फांसी की सजा के खिलाफ आज अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का फैसला आएगा. जानिए कैसे काम करता है ये कोर्ट...

International Court of Justice International Court of Justice

पूर्व भारतीय नौसैनिक कुलभूषण जाधव को पाकिस्तान में फांसी की सजा के खिलाफ आज अंतरराष्ट्रीय न्यायालय का फैसला आएगा. इससे पहले ये जानिए कि आखिर कोर्ट काम कैसे करता है...

कहां है ये कोर्ट
ये कोर्ट नीदरलैंड में है. इसे World Court, ICJ और The Hague भी कहा जाता है.

जाधव केस में इंटरनेशनल कोर्ट का आज आएगा फैसला, खुलेगी PAK की पोल?

कौन सा कोर्ट है
इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस, संयुक्त राष्ट्र यानी UN का न्यायिक अंग है. इसकी स्थापना 1945 में हॉलैंड के शहर हेग में की गई थी. अगले साल यानी 1946 से इसने काम करना शुरू कर दिया था.

क्‍या काम करता है
इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ़ जस्टिस ने अपनी वेबसाइट पर बताया है कि वे कानूनी विवादों का निपटारा करते हैं. इसके अलावा ये संयुक्त राष्ट्र के अंगों और विशेष एजेंसियों द्वारा उठाए कानूनी प्रश्नों पर राय भी देते हैं.

जाधव को ऐसे फंसाया PAK ने, जानें इस मामले में कब क्या हुआ?

कितने जज होते हैं
इस न्यायालय में 15 न्यायाधीश होते हैं. इन्‍हें संयुक्त राष्ट्र महासभा और सुरक्षा परिषद मिलकर चुनती है. कार्यकाल 9 साल का होता है. कोर्ट की आधिकारिक भाषा अंग्रेजी और फ्रेंच है. न्यायधीशों की नियुक्ति के संबंध में मुख्य शर्त ये होती है की दो न्यायधीश एक देश से नहीं चुने जा सकते. इसके कुल 192 देश सदस्य हैं.

ये हैं भारतीय जज
भारतीय जज के तौर पर यहां दलवीर भंडारी हैं. इनका कार्यकाल 2018 तक का है.

देश इस तरह से लेते हैं सहायता
इस कोर्ट से कोई भी देश मदद ले सकता है. जैसे कुलभूषण जाधव का मामला है. अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर कई मामले इस कोर्ट में पहुंचते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें