scorecardresearch
 

अब सिर्फ UP में ही नहीं DU-JNU जैसी सेंट्रल यूनिवर्सिटी में भी पढ़ सकेंगे मदरसा छात्र

मदरसा बोर्ड से इंटरमीडिएट कामिल की परीक्षा देने वाले छात्र अब केंद्रीय विश्वविद्यालय में दाखिला लेकर उच्च शिक्षा हासिल कर सकेंगे. यूपी सरकार ने दिया है छात्रों को बड़ा मौका, पढ़ें डिटेल...

प्रतीकात्‍मक फोटो प्रतीकात्‍मक फोटो

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ सरकार ने मदरसा छात्रों को बड़ा तोहफा दिया है. अब प्रदेश में मौजूद 17 हजार मदरसों में पढ़ने वाले 3 लाख से अधिक छात्रों को आगे की पढ़ाई के लिए बेहतर मौके म‍िल सकते हैं. सरकार ने कहा है कि मदरसा बोर्ड से इंटरमीडिएट कामिल की परीक्षा देने वाले छात्र अब केंद्रीय विश्वविद्यालय में दाखिला लेकर आगे की उच्च शिक्षा हासिल कर सकेंगे.

इसके अलावा अब मदरसा छात्र भारतीय सेना में भर्ती होकर देश की सेवा भी कर सकेंगे. मुख्यमंत्री के निर्देश पर यूपी मदरसा बोर्ड जल्‍द ही काउंसिल ऑफ बोर्ड ऑफ स्कूल एजुकेशन इन इंडिया (COBSEI) में रजिस्ट्रेशन कराने जा रहा है. इसके बाद मदरसा बोर्ड के छात्रों का केंद्रीय विश्वविद्यालय में दाखिला लेने का रास्‍ता खुल जाएगा. अभी COBSEI में रजिस्ट्रेशन न होने से छात्र राज्य विश्वविद्यालय में ही दाखिला ले पाते हैं.

यूपी मदरसा बोर्ड के एक सदस्‍य ने मीडिया को बताया क‍ि मदरसा बोर्ड से हर साल लाखों की संख्या में छात्र पढ़कर बाहर निकलते हैं. मार्कशीट होने के बाद भी वो केंद्रीय विश्वविद्यालय में दाखिला नहीं ले पाते हैं क्योंकि अन्य बोर्डों की तरह मदरसा बोर्ड COBSEI में रजिस्टर्ड नहीं है.

यहां के छात्र केंद्र सरकार की नौकरियों के भी आवेदन नहीं कर पाते हैं. उनका सेना में जाने का सपना भी अधूरा ही रह जाता है. सीएम योगी की चार साल की सरकार में मदरसा छात्रों के काफी काम किए गए. कई बड़े बदलाव मदरसा बोर्ड में देखने को मिले हैं. सरकार का सबसे बड़ा फैसला कोबसे में मदरसा बोर्ड का रजिस्‍ट्रेशन कराने का है.

बता दें क‍ि मदरसा बोर्ड ने COBSEI में रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू कर दी है. दस्तावेजों को तैयार करने का काम किया जा रहा है. शासन के अधिकारियों के साथ भी इसे लेकर बैठक हो चुकी है. उम्मीद है कि नए सत्र तक मदरसा बोर्ड का कोबसे में रजिस्ट्रेशन हो जाएगा. मदरसा बोर्ड के लिए यह एक बहुत बड़ी उपलब्धि होगी.

इससे पहले प्रदेश की योगी सरकार ने मदरसों में एनसीईआरटी कि किताबों को लागू कराने का काम किया है ताकि मदरसे के छात्र दीनी तालीम के साथ आधुनिक शिक्षा से जुड़ सकें. यही नहीं प्रदेश सरकार ने मदरसा बोर्ड की परीक्षाओं को नियमित करने का काम भी किया ताकि छात्र परीक्षा देने के बाद उच्च शिक्षा हासिल करने के लिए समय पर दाखिला ले पाएं. यूपी बोर्ड की तर्ज पर मदरसा बोर्ड की परीक्षाएं फरवरी में आयोजित होना शुरू हुई.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें