scorecardresearch
 

Fake degrees scam: पैसों के बदले छात्रों को दी जाती थीं फेक डिग्रियां, पुलिस ने यूनिवर्सिटी के वीसी को किया अरेस्ट

डॉ. एम प्रशांत पिल्लई, वर्तमान वीसी और डॉ एसएस कुशवाह, एसआरके विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त वीसी / अध्यक्ष को मंगलवार को भोपाल से गिरफ्तार किया गया. इसके बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया. इस मामले में एक सहायक प्रोफेसर केतन सिंह को भी गिरफ्तार किया गया था.

X
पुलिस ने वीसी को किया अरेस्ट पुलिस ने वीसी को किया अरेस्ट
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पैसा लेकर छात्रों को दी जाती थीं डिग्रियां
  • अब तक 101 फेक सर्टिफिकेट्स बांटे गए

हैदराबाद पुलिस ने छात्रों को पैसे के बदले डिग्री देने के आरोप में सर्वपल्ली राधाकृष्णन विश्वविद्यालय (SRK), भोपाल के एक वर्तमान और सेवानिवृत्त कुलपति (V-C) को गिरफ्तार किया है. डॉ. एम प्रशांत पिल्लई, वर्तमान वीसी और डॉ एसएस कुशवाह, एसआरके विश्वविद्यालय के सेवानिवृत्त वीसी / अध्यक्ष, को मंगलवार को भोपाल से गिरफ्तार किया गया. इसके बाद उन्हें कोर्ट में पेश किया गया. इस मामले में एक सहायक प्रोफेसर केतन सिंह को भी गिरफ्तार किया गया था.

वहीं, एक अन्य वीसी डॉ. सुनील कपूर को अग्रिम जमानत दे दी गई. हैदराबाद पुलिस द्वारा जांच फरवरी 2022 में शुरू हुई जब फर्जी डिग्री रैकेट के संबंध में शैक्षिक सलाहकारों और एसआरके विश्वविद्यालय, भोपाल के प्रबंधन के एजेंटों के खिलाफ मलकपेट, आसिफ नगर मुशीराबाद और चादरघाट पुलिस स्टेशनों में 4 मामले दर्ज किए गए. आरोप है कि वे बिना किसी परीक्षा या उपस्थिति के और पैसा लेकर छात्रों को फेक डिग्री दे रहे थे.

साल 2017 से बांटी गईं 101 डिग्रियां
पुलिस सूत्रों ने जानकारी दी कि साल 2017 से SRK यूनिवर्सिटी ने लगभग 101 फेक सर्टिफिकेट्स स्टूडेंट्स को पैसे के बदले दिए हैं. इसमें से पुलिस ने 44 सर्टिफिकेट्स को स्टूडेंट्स से सीज कर दिया है. इनमें से 13 सर्टिफिकेट बीटेक और बीई कोर्सेज के हैं, जबकि बाकी 31 सर्टिफिकेट्स एमबीए, बीएससी आदि के हैं.

इस मामले में हैदराबाद के विभिन्न एजुकेशन इंस्टिट्यूट्स के सात एजेंट्स को भी गिरफ्तार किया गया है, जिनके नाम- श्रीकांत रेड्डी, श्रीनाथ रेड्डी, पटवारी शशिधर, पीकेवी स्वामी, गुंटी महेश्वर राव, आसिफ अली, रविकांत रेड्डी और रंगाराजू हैं. इसके अलावा, 19 छात्रों को गिरफ्तार किया गया और छह छात्रों के माता-पिता को अग्रिम जमानत मिली थी. इस बीच, छह अन्य छात्रों के माता-पिता को सीआरपीसी की धारा 41 (ए) के तहत पुलिस के सामने पेश होने का नोटिस मिला है. वहीं, पुलिस एसआरके यूनिवर्सिटी के बाकी बचे आरोपियों और पैसे देकर सर्टिफिकेट हासिल करने वाले छात्रों की गिरफ्तारी का प्रयास कर रही है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें