scorecardresearch
 

इजराइल में तनावपूर्ण माहौल, जानें कैसा फील कर रहे हैं वहां पढ़ने वाले भारतीय छात्र

Tel Aviv यूनिवर्सिटी की PHd की स्‍टूडेंट पारुल राठी बता रही हैं कि पूरी इजराइल समेत यूनिवर्सिटी के अंदर भी छात्रों की सुरक्षा के लिए शेल्‍टर्स बने हुए हैं जहां छिपकर छात्र अपने आप को सुरक्षित कर सकते हैं. Tel Aviv में पिछले तीन दिनों में रेड अलर्ट लागू नहीं किया गया है. सीमा पर संघर्ष जरूर जारी है मगर यूनिवर्सिटी में अभी शांति बनी हुई है.

Tel Aviv University (Image: Social Media) Tel Aviv University (Image: Social Media)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • Tel Aviv यूनिवर्सिटी की छात्रा ने बनाया वीडियो
  • Iron Done Defense System को बताया भरोसेमंद

इजराइल-हमास के बीच जारी संघर्ष पर पूरी दुनिया की निगाहें हैं. सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हवाई बमबारी के वीडियो दिल दहलाने वाले हैं. ऐसे में भारतीयों के मन में सवाल उठ रहे हैं कि वहां पढ़ने वाले स्टूडेंट्स का क्या हाल है. इजराइल के Tel Aviv यूनिवर्सिटी की छात्रा ने एक वीडियो बनाकर बताया है कि छात्रों की सुरक्षा के लिए यूनिवर्सिटी में क्‍या इंतजाम हैं.

वीडियो में PHd की स्‍टूडेंट पारुल राठी बता रही हैं कि पूरी इजराइल समेत यूनिवर्सिटी के अंदर भी छात्रों की सुरक्षा के लिए शेल्‍टर्स बने हुए हैं जहां छिपकर छात्र अपने आप को सुरक्षित कर सकते हैं. वो बता रही हैं कि यहां घबराने की कोई बात नहीं है. Tel Aviv में पिछले तीन दिनों में रेड अलर्ट लागू नहीं किया गया है. सीमा पर संघर्ष जरूर जारी है मगर यूनिवर्सिटी में अभी शांति बनी हुई है.

उन्‍होंने कहा कि दोनों ओर से एक दूसरे पर सैकड़ों की गिनती में मिसाइल फायर कर दी जाती हैं मगर इजराइल का Iron Done Defense System 90 प्रतिशत मिसाइल को हवा में ही मार गिराता है. स्‍टूडेंट्स इस डिफेंस सिस्‍टम के चलते खुद को सेफ महसूस करते हैं. जो मिसाइल डिफेंस सिस्‍टम से बचने में कामयाब हो जाती हैं, उनसे बचाव के लिए शेल्‍टर्स हैं जिनके भीतर बम धमाकों का असर नहीं आ पाता.

पारुल ने वीडियो में दिखाया कि यूनिवर्सिटी में जगह जगह पर शेल्‍टर्स बने हुए हैं और उसकी जानकारी भी लगा दी गई हैं. इसके चलते स्‍टूडेंट्स सुरक्षित हैं मगर इस समय पर थोड़ा सतर्क रहने की जरूरत है और ध्‍यान रखने की जरूरत है कि अगर खतरे का सायरन सुनाई देता है तो जल्‍द से जल्‍द शेल्‍टर में पहुंचें. यूनिवर्सिटी में फिलहाल केवल वही छात्र उपस्थित हैं जो रिसर्च स्‍कॉलर हैं और अधिकांश छात्रों की ऑनलाइन पढ़ाई जारी है. 

बता दें कि गाजा पट्टी पर इजराइल की लगातार बमबारी और हवाई हमलों से लोग दहशत में हैं. जानकारी के मुताबिक बीते बारह वर्षों में चौथी बार इजराइल और हमास शासकों के बीच जंग हुई है. एक तरफ जहां इजराइल ने गाजा पट्टी पर हवाई हमले किए तो वहीं, हमास ने भी इजराइल की ओर लगातार रॉकेट दागे. गाजा के स्वास्थ्य अधिकारियों के मुताबिक 10 मई को शुरू हुए इस संघर्ष में गाजा में 217 फि‍लस्तीनी मारे गए हैं, जिनमें 60 से अधिक बच्चे शामिल हैं.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें