scorecardresearch
 
एडमिशन

DU Admissions 2021: जल्द आएगी कट ऑफ, ये हैं डीयू के 25 टॉप कॉलेज जहां ले सकते हैं दाख‍िला

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 1/8

दिल्ली विश्वविद्यालय जल्द ही UG कोर्सेज में दाख‍िले के लिए पहली कट-ऑफ लिस्ट जारी करेगा. डीयू यूजी प्रवेश 2021 के लिए रजिस्ट्रेशन 31 अगस्त को बंद हो चुके हैं. एक समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के मुताबिक पहली कट ऑफ 1 अक्टूबर तक जारी की जाएगी. वहीं, सेंट स्टीफंस कॉलेज ने अपनी 2021 प्रवेश कट-ऑफ सूची पहले ही जारी कर दी है. जानिए- डीयू के 25 टॉप कॉलेजों के बारे में जो एनआईआरएफ रैंकिंग के अनुसार देश के टॉप कॉलेजों में शामिल हैं. 

 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 2/8

बता दें कि सेंट स्टीफेंस ने बीए इकोनॉमिक्स में प्रवेश के लिए 99.5 प्रतिशत कट आफ जारी की है. वहीं डीयू के अन्य कॉलेजों में भी इस साल कट-ऑफ बढ़ने की उम्मीद है. इस साल बड़ी संख्या में छात्रों ने कक्षा 12 की बोर्ड परीक्षा में 95 प्रतिशत से अधिक अंक प्राप्त किए हैं. इसलिए कट आफ को लेकर भी विशेषज्ञ अलग अलग अनुमान लगा रहे हैं. आइए सबसे पहले कॉलेज की लिस्ट देखें, फिर जानें कि कट ऑफ को लेकर क्या अनुमान लगाए गए हैं. 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 3/8

DU Admission 2021: टॉप 25 कॉलेजों की सूची

1. मिरांडा हाउस
2. महिलाओं के लिए लेडी श्री राम कॉलेज (एलएसआर)
3. सेंट स्टीफेंस कॉलेज
4. हिंदू कॉलेज
5. श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स
6. श्री वेंकटेश्वर कॉलेज
7. आत्मा राम सनातन धर्म कॉलेज
8. दीन दयाल उपाध्याय कॉलेज
9. हंस राज कॉलेज
10. गार्गी कॉलेज
11. किरोड़ीमल कॉलेज

(क्रमश:)

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 4/8

12. आचार्य नरेंद्र देव कॉलेज
13. लेडी इरविन कॉलेज
14. दौलत राम कॉलेज
15. दयाल सिंह कॉलेज
16. एप्लाइड साइंसेज के भास्कराचार्य कॉलेज
17. कमला नेहरू कॉलेज
18. मैत्रेयी कॉलेज
19. शहीद राजगुरु कॉलेज ऑफ एप्लाइड साइंसेज फॉर वीमेन
20. श्री गुरु तेग बहादुर खालसा कॉलेज
21. जीसस एंड मेरी कॉलेज
22. महाराजा अग्रसेन कॉलेज
23. रामानुजन कॉलेज
24. देशबंधु कॉलेज
25. इंद्रप्रस्थ कॉलेज फॉर वुमन

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 5/8

अब अगर कट ऑफ की बात करें तो दाख‍िला एक्सपर्ट मान रहे हैं कि इस साल पहली और दूसरी कट ऑफ से परेशान न हों, छात्रों का उसके बाद की कट ऑफ में नंबर आ सकता है. डीयू के पूर्व ड‍िप्टी डीन और दाख‍िला मामलों के जानकार प्रो जीएस टुटेजा ने aajtak.in से बातचीत में बताया कि इस साल सीबीएसई में हाई पर्सेंटेज आई है तो उससे अनुमान है कि पहली कट ऑफ ऊपर जाएगी लेकिन दूसरी कट आफ स्टेबलाइजिंग रहेगी. उन्होंने कहा कि क्योंकि इस साल 95 पर्सेंट से ज्यादा वालों की संख्या बढ़ी है इसलिए इसका असर पहली और दूसरी कट ऑफ में दिखेगा.

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 6/8

बता दें कि इस साल इस साल सीबीएसई बोर्ड में 70,004 छात्रों ने 95 प्रतिशत से अधिक अंक हासिल किए हैं. वहीं 1,50,152 90 प्रतिशत छात्रों ने 90 पर्सेंट से अधिक अंक प्राप्त किए हैं. वहीं दूसरे राज्य बोर्ड का 12वीं का रिजल्ट भी कुछ इसी तरह रहा है. इस वजह से इस वर्ष यूजी पाठ्यक्रमों के लिए कट-ऑफ बढ़ने की संभावना है. इस रिजल्ट का यूनिवर्सिटी-कॉलेज कटऑफ पर काफी असर पड़ेगा. पहली कट ऑफ के बारे में अनुमान है कि वो पिछले साल की तरह या थोड़ा बहुत ऊंची जाएगी. 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 7/8

वहीं जिस तरह सीबीएसई में 90 से 95 पर्सेंट वाले छात्र घटे हैं. इससे अनुमान है कि तीसरी कटऑफ 95 पर्सेंट छूएगी लेकिन इसके बाद कट आफ गिरने के अनुमान है. आखिरी कट ऑफ फि‍र 80 से 85पर्सेंट तक आ सकती है जिससे कि तीसरी कट ऑफ के बाद से ही दाख‍िले के चांसेज बढ़ने लगेंगे. अगर सीबीएसई रिजल्ट के आधार पर यूजी कट ऑफ की बात करें तो इस साल 95% और इससे ज्यादा स्कोर करने वाले 31318 स्टूडेंट्स बढ़े हैं. अगर साल 2019 की बात करें तो इस कैटेगरी में सिर्फ 17693 स्टूडेंट्स थे और 2020 में 20 हजार थे. इसलिए बीते साल भी डीयू के यूजी कोर्सेज की पहली कटऑफ .25% से लेकर 3% तक उछाल लेकर आई थी. 

प्रतीकात्मक फोटो (Getty)
  • 8/8

प्रो टुटेजा कहते हैं कि इस तरह देखा जाए तो इस साल भी पहली कट ऑफ .25% से लेकर 2% तक ऊपर जा सकती है. वहीं इस साल सभी बोर्ड में असेसमेंट पॉलिसी की वजह से सभी का रिजल्ट हाई गया है और जिनके रिजल्ट बचे हैं उनके भी ग्राफ ऊपर रहने की उम्मीद है. इससे सेंट्रल यूनिवर्सिटीज में कट ऑफ भी 2% तक ऊपर जा सकती है. वहीं इस बार 90% और 95% के बीच स्कोर पाने वाले 150152 स्टूडेंट्स हैं, पिछले साल 157934 और 2019 में 94299 स्टूडेंट्स थे.