scorecardresearch
 

अफीम की अवैध खेती ने उड़ाई खुफिया एजेंसियों की नींद

पश्चिम बंगाल के सीमावर्ती जिलों में अवैध अफीम की खेती और समूचे बांग्लादेश की सीमा से लगते इलाकों में इस प्रतिबंधित नशीले पदार्थ की तस्करी ने खुफिया विभाग के अधिकारियों की चिंता बढ़ा दी है. दरअसल अफीम की तस्करी जमात-उल-मुजाहिदीन जैसे बांग्लादेशी आतंकी संगठनों के लिए पैसा जुटाने का प्रमुख जरिया बनती जा रही है.

पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने अब तक 5000 एकड़ अफीम की फसल नष्ट की है पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने अब तक 5000 एकड़ अफीम की फसल नष्ट की है

पश्चिम बंगाल के सीमावर्ती जिलों में अवैध अफीम की खेती और समूचे बांग्लादेश की सीमा से लगते इलाकों में इस प्रतिबंधित नशीले पदार्थ की तस्करी ने खुफिया विभाग के अधिकारियों की चिंता बढ़ा दी है. दरअसल अफीम की तस्करी जमात-उल-मुजाहिदीन जैसे बांग्लादेशी आतंकी संगठनों के लिए पैसा जुटाने का प्रमुख जरिया बनती जा रही है.

खेती और तस्करी से कमाई
सीआईडी के सूत्रों ने भाषा को बताया कि इन जिलों की रणनीतिक स्थिति ने अफीम की अवैध खेती में मदद पहुंचाई है, जो सैकड़ों युवाओं के लिए पैसा जुटाने वाला एक प्रमुख कारोबार बन गया है. पश्चिम बंगाल के रतुआ, कालीचक और वैष्णवनगर को छोड़कर मुर्शिदाबाद जिले में नोवादा और बेलडंगा के अलावा बीरभूम जिले में डूबराजपुर, इलमबाजार और कनकरताला में कथित रूप से गुप्त तौर पर इसकी खेती की जा रही है.

आतंकी संगठनों को जाता है पैसा
सूत्रों के मुताबिक इस तरह की खेती बांकुरा में पत्रसयेर, इंदास, ओंदा और बरजोरा और वद्र्धमान में केतूग्राम, मंगोलकोटे, काकसा, पुरबस्थली, कटवा, गालसी और लाओदाहा में भी होती है. सू़त्रों बताते हैं कि ऐसे पर्याप्त साक्ष्य हैं जिनसे यह पता चलता है कि इस खेती से मिलने वाला धन हवाला सहित विभिन्न मार्गों के जरिए आतंकवादी समूहों तक पहुंचता है.

अफीम की खेती को नष्ट किया
इस धन के जेएमबी के जरिए संदिग्ध आईएसआईएस एजेंटों तक पहुंचने की संभावना हो सकती है. पुलिस सूत्रों ने बताया कि जिला प्रशासन ने एनसीबी, स्थानीय पुलिस और बीएसएफ की मदद से पिछले साल करीब 4,000 एकड़ में लगाई गई अफीम की फसल को नष्ट किया था, जबकि इस साल अब तक करीब 1,000 एकड़ में लगी फसल को नष्ट किया गया है.

सुरक्षा एजेंसियों की चिंता
अवैध तस्करी के मामलों में बढ़ोत्तरी होना अपने आप में सरकार और सुरक्षा एजेंसियों के लिए परेशानी की बात है. सीमा से लगे इलाकों में चौकसी के बावजूद अफीम की तस्करी पर पूरी तरह लगाम नहीं लग पा रही है. ऊपर से आतंकी तस्करी के जरिए पैसा कमाने की साजिश में जुटे हैं. ऐसे में सुरक्षा एजेंसियों का चिंता बढ़ना लाजमी है. फिलहाल एजेंसियां ऐसे तस्करों पर नजर रख रही हैं, जो आतंकियों के मददगार भी हो सकते हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें