scorecardresearch
 

नक्सली हमलाः खुफिया एजेंसियों ने पहले ही जारी किया था अलर्ट

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में बारूदी सुरंग के जरिए किए गए हमले में पुलिस के 6 जवान शहीद हो गए और एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया. सूत्रों के मुताबिक इस इलाके में नक्सली हमले को लेकर पहले से ही खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया हुआ था.

इस नक्सली हमले में 6 जवान शहीद हो गए हैं इस नक्सली हमले में 6 जवान शहीद हो गए हैं

छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले में बारूदी सुरंग के जरिए किए गए हमले में पुलिस के 6 जवान शहीद हो गए और एक जवान गंभीर रूप से घायल हो गया. सूत्रों के मुताबिक इस इलाके में नक्सली हमले को लेकर पहले से ही खुफिया एजेंसियों ने अलर्ट जारी किया हुआ था.

गौरतलब है कि गृहमंत्री राजनाथ सिंह रविवार को छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर का दौरा करने जा रहे हैं. वे नक्सलियों से निपटने के लिए बहुप्रतीक्षित बस्तरिया बटालियन को CRPF में शामिल कराने के कार्यक्रम में भाग लेंगे. लेकिन ठीक उनके दौरे से पहले नक्सलियों ने पुलिस पर बड़ा हमला करते हुए आईईडी ब्लास्ट कर 6 जवानों को शहीद कर दिया.

सूत्रों के अनुसार बचेली से चोलनार मार्ग पर सड़क निर्माण का काम प्रगति पर है. श्रमिकों एवं अन्य कर्मचारियों की सुरक्षा के लिए सीएएफ और डीएफ का संयुक्त पुलिस बल बचेली से कार्यस्थल की ओर रवाना हुआ था, कि जंगल में घात लगाए नक्सलियों ने बारूदी सुरंग विस्फोट कर दिया. विस्फोट की जद में आकर 6 जवानों की घटनास्थल पर ही सांसे थम गईं. शेष घायल 1 जवान को अस्पताल लाया गया है.

विस्फोट इतना शक्तिशाली था कि पुलिस वाहन के परखच्चे उड़ गए. उसके बीच से दो टुकड़े गए, जो अलग अलग दिशा में पाए गए. सभी 7 जवान उसी वाहन यानी जायलो कार में सवार थे. धमाका इतना जबरदस्त था कि वहां जमीन पर दस फीट गहरा गड्ढा बन गया है. वारदात के बाद नक्सली जवानों के हथियार, फोन, पर्स और सामान भी लूटकर ले गए हैं.

बताते चलें कि हाल ही में ख़ुफ़िया एजेंसियों ने नक्सली हमले का अलर्ट भी जारी किया था. अलर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र के गढ़चिरौली और छत्तीसगढ़ के सुकमा में नक्सलियों के खिलाफ हाल ही में हुए ऑपरेशन का बदला लेने के लिए नक्सली कर रहे हैं. आजतक ने उस खुफिया रिपोर्ट की जानकारी भी दी थी, जिससे बताया गया था कि नक्सली बौखलाहट में सुरक्षाबलों को निशाना बनाने की कोशिश में जुटे हुए हैं. ख़ुफ़िया रिपोर्ट में ये कहा गया था कि नक्सलियों का कमांडर 'हिडमा' छत्तीसगढ़ और महाराष्ट्र में सुरक्षा बलों पर बड़ा हमला कर सकता है.

ये हमला हिडमा 75 नक्सलियों के ग्रुप के साथ करने की फ़िराक में है. खुफिया सूत्रों ने जानकारी दी थी कि PLGA BN-1 का कमांडर मांडवी इंदुमल उर्फ "हिडमा" सुरक्षा बलों के छीने हथियार और UBGL/रॉकेट लॉन्चर से हमले की फ़िराक में है. यही नहीं ये नक्सली सुरक्षा बलों के हेलीकॉप्टर को भी निशाना बना सकते हैं. सूत्रों के मुताबिक़ सुरक्षा बलों के लिए रसद सामग्री के लिए इस्तेमाल किये जाने वाले हेलीकॉप्टर को देसी रॉकेट लॉन्चर से गिराने की रणनीति नक्सलियों ने बनाई है.

एक्सक्लूसिव खुफिया रिपोर्ट से इस बात की जानकारी मिली है कि नक्सलियों ने सुरक्षा बलों को निशाना बनाने के लिए सुकमा और बीजापुर के बॉर्डर पर हाल ही में एक मीटिंग की है. इस मीटिंग के बाद नक्सलियों के कमांडरों की छोटी छोटी टीमों ने छत्तीसगढ़ के बीजापुर में सुरक्षा बलों को आवापल्ली, बासागुड़ा और कुटरू में हमला करने के लिए रेकी भी कर ली है. नक्सलियों की इस साजिश के खुलासे के बाद नक्सल इलाके में काम कर रहे सभी सुरक्षा बलों को अलर्ट कर दिया गया था. साथ ही सुरक्षा बलों के नये कैम्पस् पर कड़ी निगरानी रखने के निर्देश दिए गए थे.

गृह मंत्री राजनाथ सिंह कल छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जाकर जहां बहुप्रतीक्षित बस्तरिया बटालियन को देश को सौंपेंगे. इस बटालियन को नक्सलियों से निपटने की खास ट्रेनिंग दी गई है. इस बटालियन में 543 जवान हैं, जिसमें 189 महिलाएं शामिल हैं. पासिंग आउट परेड के बाद सीआरपीएफ की इस बटालियन की तैनाती नक्सल बेल्ट में की जाएगी. बटालियन को सुकमा, दंतेवाड़ा और बीजापुर जैसे नक्सल प्रभावित इलाकों में तत्काल नक्सल रोधी अभियानों में शामिल किया जाएगा. इन रंगरूटों का चयन अविभाजित बक्सर क्षेत्र के सुकमा, दंतेवाड़ा, नारायणपुर और बीजापुर जिलों से किया गया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें