scorecardresearch
 

नोएडाः रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करते दो गिरफ्तार

नोएडा के सेक्टर 20 थाने की पुलिस ने दोनों को नोएडा के सेक्टर 30 स्थित सरकारी अस्पताल के समीप से गिरफ्तार किया. इनके पास से रेमडेसिविर इंजेक्शन की एक वॉयल बरामद की गई है.

नोएडा में रेमडेसिविर के साथ गिरफ्तार आरोपी नोएडा में रेमडेसिविर के साथ गिरफ्तार आरोपी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • नोएडा में रेमडेसिविर की कालाबाजारी करते गिरफ्तार
  • इस्तांबुल से आयात किया गया था रेमडेसिविर इंजेक्शन

कोरोना वायरस की महामारी के बीच रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन को लेकर मारामारी चल रही है. जीवन रक्षक रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी हो रही है. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से सटे नोएडा में  रेमडेसिविर/ एक्टेमरा 400 एमजी/20 एमएल इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए दो आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. दोनों ही आरोपी रवि कुमार पुत्र शम्भू ठाकुर और मोहम्मद जुनैद नई दिल्ली के संगम विहार के निवासी बताए जाते हैं.

नोएडा के सेक्टर 20 थाने की पुलिस ने दोनों को नोएडा के सेक्टर 30 स्थित सरकारी अस्पताल के समीप से गिरफ्तार किया. इनके पास से रेमडेसिविर इंजेक्शन की एक वॉयल बरामद की गई है. ये इंजेक्शन इस्तांबुल से आयात किया गया बताया जाता है. पुलिस के मुताबिक ये दोनों आरोपी नोएडा में रहकर अपने एक अन्य साथी आकाशदीप के साथ मिलकर रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर रहे थे. ये एक इंजेक्शन 80 हजार से लेकर एक लाख तक में बेच रहे थे. आकाशदीप फरार बताया जाता है. पुलिस उसकी तलाश में जुटी है.

रेमडेसिविर के नाम पर ठगी के आरोपी नाबालिग गिरफ्तार

रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन देने के नाम पर ऑनलाइन ठगी का धंधा हो रहा है. लखनऊ पुलिस ने 9वीं और 10वीं के दो छात्रों को गिरफ्तार किया है. आरोप है कि ये ट्विटर और टेलीग्राम पर मोबाइल नंबर डालकर जरूरतमंदों से गूगल पे और फोन पे के जरिए वसूली कर रहे थे. रेमडेसिविर इंजेक्शन के लिए 3500 और ऑक्सीजन सिलेंडर 8500 रुपये में दे रहे थे. पैसा ट्रांसफर होने के बाद ये नंबर ब्लॉक कर देते थे. दोनों नाबालिग छात्रों ने लखनऊ के साथ सीतापुर, उन्नाव, बाराबंकी, सुल्तानपुर और अंबेडकरनगर के लोगों को शिकार बनाया है. डीसीपी सेंट्रल की टीम ने दोनों छात्रों को गिरफ्तार किया है जबकि उनका तीसरा साथी 11वीं का छात्र फरार बताया जाता है.

फर्जी रेमेडेसिविर मामले में तीन गिरफ्तार

उत्तराखंड में नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन बनाने वाली कंपनी का दिल्ली पुलिस ने भंडाफोड़ किया था. दिल्ली पुलिस ने इस मामले में कानपुर से एक और दिल्ली से दो, कुल तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. लोगों को बेची गई रेमडेसिविर इंजेक्शन में टाइफाइड में इस्तेमाल की जाने वाली एंटीबायोटिक दवा का इस्तेमाल किया गया था.

गिरफ्तार आरोपी
गिरफ्तार आरोपी

दिल्ली पुलिस ने 24 फर्जी रेमडेसिविर इंजेक्शन बरामद किए हैं. गिरफ्तार आरोपियों में से एक उत्तराखंड की नकली रेमेडेसिविर बनाने वाली कंपनी का एम्प्लॉई था जिसका भंडाफोड़ कुछ दिन पहले क्राइम ब्रांच ने किया था.

रेमडेसिविर के नाम पर ठगी का आरोपी गिरफ्तार

रेमडेसिविर इंजेक्शन और ऑक्सीजन सिलेंडर के नाम पर धोखाधड़ी के मामले में पुलिस ने झारखंड के निवासी एक आरोपी को गिरफ्तार किया है. झारखंड के रांची के जगन्नाथपुर थाना क्षेत्र के महुआ टोली गांव निवासी रोहित कुमार पुत्र श्रीराम यादव को फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया.

गिरफ्तार रोहित यादव
गिरफ्तार रोहित यादव

रोहित यादव की गिरफ्तारी की कार्रवाई मोहित गुप्ता की शिकायत पर जांच करते हुए हुई है. रोहित को दिल्ली से सटे हरियाणा के फरीदाबाद से गिरफ्तार किया गया.

ऑक्सीजन सिलेंडर 40 हजार में बेच रहे थे, दो गिरफ्तार

दिल्ली के पश्चिमी जिले की पुलिस ने ऑक्सीजन सिलेंडसर की कालाबाजारी करते दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है. पुलिस ने हीरा सिंह और मंजीत सिंह को गिरफ्तार किया है जो 40 हजार रुपये में ऑक्सीजन सिलेंडर बेच रहे थे.

तीन ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ दो पकड़े गए
तीन ऑक्सीजन सिलेंडर के साथ दो पकड़े गए

दिल्ली पुलिस ने इनके कब्जे से तीन ऑक्सीजन सिलेंडर बरामद किए हैं. बताया जाता है कि दोनों आरोपियों को जखीरा फ्लाईओवर से उस वक्त गिरफ्तार किया गया जब वे एक वाहन से तीन ऑक्सीजन सिलेंडर लेकर 40-40 हजार रुपये में बेचने जा रहे थे. पुलिस ने गाड़ी को भी सीज कर दिया है. पकड़े गए दोनों आरोपियों के नाम हीरा सिंह और मंजीत सिंह बताया जाता है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें