scorecardresearch
 

मुख्तार अंसारी पर छिड़ा बवाल, यूपी और पंजाब आमने-सामने

मुख्तार अंसारी को पंजाब से यूपी लाए जाने का मामला सुप्रीम कोर्ट में है, लेकिन इसे लेकर बवाल छिड़ गया है. यूपी और पंजाब की सरकारें आमने-सामने हैं, वहीं बीजेपी ने भी कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है.

मुख्तार अंसारी (फाइल फोटोः आजतक) मुख्तार अंसारी (फाइल फोटोः आजतक)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • पंजाब के जेल मंत्री ने खारिज किए यूपी के आरोप
  • हेल्थ ग्राउंड पर नहीं भेजा जा रहा- यूपी के एडीजी
  • यूपी कांग्रेस ने बीजेपी के आरोप को बताया राजनीति

उत्तर प्रदेश के बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी पंजाब की जेल में बंद हैं. मुख्तार को पंजाब से यूपी लाए जाने का मामला सुप्रीम कोर्ट में है, लेकिन इसे लेकर बवाल छिड़ गया है. यूपी और पंजाब की सरकारें आमने-सामने हैं, वहीं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने भी कांग्रेस के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. पंजाब के जेल मंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा ने कहा कि पंजाब सरकार पर बेवजह ही मुख्तार अंसारी को राजनैतिक शेल्टर देने के आरोप लगाए जा रहे हैं.

उन्होंने आरोप खारिज करते हुए कहा कि पंजाब सरकार का जेल मंत्रालय सिर्फ एक कस्टोडियन है जो राज्य सरकार के गृह मंत्रालय और अदालतों की ओर से मिले निर्देश के आधार पर काम करता है. रंधावा ने कहा कि ये पूरा मामला सुप्रीम कोर्ट में है और सुप्रीम कोर्ट की ओर से जो भी निर्देश आएगा, उसके आधार पर ही कार्रवाई की जाएगी.

पंजाब के जेल मंत्री ने कहा कि कोई भी व्यक्ति रोपड़ जेल में जाकर चेक कर सकता है कि मुख्तार अंसारी को किसी भी तरह का कोई स्पेशल ट्रीटमेंट नहीं दिया जा रहा और तय नियम-कानून के मुताबिक वो एक आम कैदी की तरह ही जेल में रह रहा है.

देखें: आजतक LIVE TV

यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश लाए जाने में असफल रहने को लेकर कहा कि हमारी कोशिश उन्हें लाकर कोर्ट के सामने पेश करने की है. बार-बार कोर्ट से उन्हें पेश करने के निर्देश आ रहे हैं और हर बार उनके हेल्थ ग्राउंड के आधार पर वहां से नहीं भेजा जा रहा. कई बार पुलिस की टीम गई है और हेल्थ ग्राउंड के आधार पर उन्हें नहीं भेजा जा रहा.

उन्होंने कहा कि हमने कोर्ट को भी बताया है कि आखिर किस वजह से हम उन्हें नहीं ला पा रहे. अब सुप्रीम कोर्ट भी इस मामले को देख रहा है और आज उस पर सुनवाई हो रही है. हमें उम्मीद है कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद हम जल्द ही मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश लाकर सक्षम कोर्ट के सामने पेश करने में सफल होंगे. वहीं, मुख्तार अंसारी को भेजने से मना किए जाने को लेकर बीजेपी ने कांग्रेस पर निशाना साधा है.

बीजेपी ने कांग्रेस पर साधा निशाना

बीजेपी प्रवक्ता और मुख्यमंत्री के सलाहकार शलभ मणि त्रिपाठी ने कहा है कि कांग्रेस पार्टी, राहुल गांधी और सोनिया गांधी, सब मिलकर सबसे खूंखार माफिया को बचाने में लगे हुए हैं. पंजाब की कांग्रेस सरकार नहीं चाहती कि मुख्तार अंसारी को यूपी भेजा जाए और इसके पीछे पूरी तरह से कांग्रेस का हाथ है. उन्होंने साथ ही यह भी कहा कि यूपी में हर बात पर कानून व्यवस्था का हल्ला मचाने वाली कांग्रेस पार्टी खुद कानून व्यवस्था के लिए सबसे बड़ा खतरा बने मुख्तार अंसारी को बचा रही है.

कांग्रेस ने झाड़ा पल्ला

बीजेपी की ओर से लगाए गए आरोप खारिज करते हुए यूपी कांग्रेस के अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू ने कहा कि यह अदालती मामला है. अदालत में जब बुलाया जाएगा, उन्हें आना पड़ेगा. कांग्रेस पर आरोप लगाना महज राजनीति है. गौरतलब है कि 20 अक्टूबर 2020 को प्रयागराज की पुलिस टीम मुख्तार अंसारी को लाने पंजाब गई थी लेकिन उस दौरान भी जेल अधीक्षक ने यह कह कर ले जाने से मना कर दिया कि उनकी तबीयत ठीक नहीं है. दूसरी दफे गाजीपुर की पुलिस टीम रोपड़ गई और फिर से वही जवाब मिला.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें