scorecardresearch
 

दिल्लीः ऑक्सीजन की कालाबाजारी कर रहे थे कैट्स एम्बुलेंस के 2 कर्मचारी, गिरफ्तार

पवन 15 लीटर के सिलेंडर के 40 हजार और 50 लीटर के सिलेंडर के 90 हजार रुपये तक वसूल किया करता था. ये रुपये पेटीएम के जरिए लिए जाते थे जिसे बाद में एक्सिस बैंक और पीएनबी बैंक के खाते में ट्रांसफर करके पवन निकाल लिया करता था.

पुलिस की गिरफ्त में ऑक्सीजन की कालाबाजारी के आरोपी पुलिस की गिरफ्त में ऑक्सीजन की कालाबाजारी के आरोपी
स्टोरी हाइलाइट्स
  • साउथ दिल्ली पुलिस ने शिकायत पर की कार्रवाई
  • 40 से 90 हजार तक में बेचते थे ऑक्सीजन सिलेंडर

दिल्ली में कोरोना वायरस की महामारी कोहराम मचा रही है. लोग सांसों के लिए, जिंदगी के लिए जंग लड़ रहे हैं लेकिन जीवनरक्षक दवाओं के साथ ही प्राणवायु ऑक्सीजन की कालाबाजारी भी धड़ल्ले से जारी है. साउथ दिल्ली की पुलिस ने कैट्स एम्बुलेंस के दो कर्मचारियों को गिरफ्तार किया है. आरोप है कि कैट्स एम्बुलेंस के ये कर्मचारी ऑक्सीजन सिलेंडर की कालाबाजारी कर रहे थे.

जानकारी के मुताबिक दिल्ली के अम्बेडकर नगर थाने की पुलिस को शिकायत मिली थी जिसके बाद पुलिस ने जांच शुरू की और मोबाइल नंबर के जरिए कैट्स एम्बुलेंस के कर्मचारी पवन तक जा पहुंची. पवन पहले तो पुलिस को गुमराह करने लगा लेकिन मोबाइल की जांच में ऑक्सीजन की कालाबाजारी की बात सामने आई. पुलिस ने सख्ती से पूछताछ की तो पवन ने अपराध कुबूल भी कर लिया.

जांच में यह बात सामने आई कि पवन 15 लीटर के सिलेंडर के 40 हजार और 50 लीटर के सिलेंडर के 90 हजार रुपये तक वसूल किया करता था. ये रुपये पेटीएम के जरिए लिए जाते थे जिसे बाद में एक्सिस बैंक और पीएनबी बैंक के खाते में ट्रांसफर करके पवन निकाल लिया करता था. पवन की निशानदेही पर पुलिस ने विपिन नाम के एक शख्स को भी गिरफ्तार किया है.

विपिन भी कैट्स एम्बुलेंस में पायलट है और ऑक्सीजन की कालाबाजारी में पवन की मदद करता था. पुलिस ने पवन के ठिकानों पर छापेमारी के दौरान दो ऑक्सीजन सिलेंडर, 32 पीपीई किट और एक लाख रुपये नकद बरामद किए हैं. बताया जाता है कि पवन ने अपना नंबर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रखा था कि जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत हो वे उससे संपर्क करें.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें