scorecardresearch
 

यूपीः दारोगा ने फल विक्रेता से छीना तराजू, थाना प्रभारी ने मांगी माफी, दिया इलेक्ट्रॉनिक तराजू

मामला अधिकारियों के संज्ञान में आया तो हजरतगंज थाने के प्रभारी श्याम बाबू शुक्ला अपनी टीम के साथ पहुंच कर बांट तराजू के बदले दीपू को इलेक्ट्रॉनिक तराजू गिफ्ट किया और चौकी प्रभारी के कारनामे के लिए उससे माफी भी मांगी.

वायरल तस्वीर वायरल तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • यूपी की राजधानी लखनऊ का मामला
  • वायरल हुई तस्वीर, दारोगा को फटकार

यूपी की राजधानी लखनऊ में एक पुलिस वाले ने फल विक्रेता से तराजू और बांट छीन लिए थे. फल विक्रेता तराजू और बांट वापस पाने के लिए दारोगाजी से विनती करता रहा लेकिन वे नहीं माने. दारोगा पुलिसिया हनक दिखाते हुए तराजू और बांट लेकर चले गए. इस घटना का फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ तब अधिकारियों ने इसका संज्ञान लिया.

मामला अधिकारियों के संज्ञान में आने पर थाना प्रभारी ने फल विक्रेता को इलेक्ट्रॉनिक तराजू दिया और दारोगा के इस कृत्य के लिए माफी भी मांगी. जानकारी के मुताबिक लखनऊ के हजरतगंज थाना क्षेत्र स्थित 1090  चौराहे के पास डॉलीगंज मे रहने वाला दीपू ठेला लगाकर फल बेच रहा था. इस दौरान डॉली बाग चौकी प्रभारी सुरेंद्र सिंह फल वाले के पास पहुंचे और उसे ठेला लगाने के लिए मना किया. फल विक्रेता के न मानने पर चौकी प्रभारी उसका तराजू और बांट लेकर चले गए. दीपू उनसे तराजू और बांट लौटाने के लिए विनती करता रहा लेकिन वे नहीं माने और चले गए.

थाना प्रभारी ने इलेक्ट्रॉनिक तराजू गिफ्ट कर मांगी माफी
थाना प्रभारी ने इलेक्ट्रॉनिक तराजू गिफ्ट कर मांगी माफी

दीपू से तराजू और बांट छीने जाने की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो गईं. मामला अधिकारियों के संज्ञान में आया तो हजरतगंज थाने के प्रभारी श्याम बाबू शुक्ला अपनी टीम के साथ पहुंच कर बांट तराजू के बदले दीपू को इलेक्ट्रॉनिक तराजू गिफ्ट किया और चौकी प्रभारी के कारनामे के लिए उससे माफी भी मांगी. इस संबंध में डिप्टी पुलिस कमिश्नर (डीसीपी) सेंट्रल जोन सोमेन वर्मा ने बताया कि तराजू और बांट लेने का प्रकरण सोशल मीडिया पर आया था.

डीसीपी ने बताया कि इसके बाद हमने नया इलेक्ट्रॉनिक तराजू उनको दिया है और इस कृत्य पर दारोगा को फटकार भी लगाई है. हालांकि, फल वालों को कई बार मना किया गया लेकिन दुकान वहीं लगाते हैं. दूसरी तरफ, तराजू और बांट छीने जाने की तस्वीरें वायरल होने के बाद फल विक्रेता ने आरोप लगाया था कि पुलिसवालों को हर रोज सौ रुपये दिए जाते थे. कमाई ना होने के कारण उस दिन पैसे नहीं दे पाए थे जिसकी वजह से तराजू और बांट छीने गए.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें