scorecardresearch
 

'मैं उसके साथ ही रहना चाहती हूं', पीड़िता की दलील खारिज, कोर्ट ने दुष्कर्मी को सुनाई 7 साल कैद की सजा

गाजियाबाद की एक स्पेशल कोर्ट ने दुष्कर्म के आरोपी को 7 साल कैद की सजा सुनाई है. हालांकि, कोर्ट में पीड़िता ने खुद कहा था कि वो आरोपी के साथ ही रहना चाहती है. लेकिन कोर्ट ने पीड़िता की दलीलों को नजरअंदाज करते हुए आरोपी को सजा सुना दी.

स्पेशल कोर्ट ने पॉक्सो एक्ट के तहत सुनाई सजा. (प्रतीकात्मक तस्वीर) स्पेशल कोर्ट ने पॉक्सो एक्ट के तहत सुनाई सजा. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • स्पेशल कोर्ट का बड़ा फैसला
  • दुष्कर्मी को 7 साल की सजा
  • 2014 के मामले में अब फैसला

यूपी के गाजियाबाद की कोर्ट ने नाबालिग से बलात्कार करने और उसे 6 महीने की प्रेग्नेंसी में छोड़कर जाने के दोषी को 7 साल कैद की सजा सुनाई है. कोर्ट ने ये फैसला पीड़िता की उस दलील को खारिज करते हुए सुनाया है, जिसमें उसने कहा था कि वो आरोपी के साथ रहना चाहती है.

पॉक्सो कोर्ट के स्पेशल जज पीयूष तिवारी ने ये अहम फैसला सुनाया है. उन्होंने साहिबाबाद के रहने वाले अमजद को नाबालिग से बलात्कार के मामले में दोषी ठहराते हुए ये सजा सुनाई है. हालांकि, पीड़िता ने खुद दलील दी थी कि वो घटना के वक्त 18 साल की थी. 

ये मामला 2014 का था और 7 साल चली लंबी सुनवाई के बाद इस पर फैसला आया है. सरकारी वकील संजीव बखरवा ने न्यूज एजेंसी को बताया कि पीड़िता कोर्ट में मुकर गई थी और उसने कहा था कि वो अमजद के साथ ही रहना चाहती है, क्योंकि जून 2014 में अमजद की गिरफ्तारी के बाद से पीड़िता उसके परिवार के साथ ही रह रही थी. 

ये भी पढ़ें-- नोएडा: पहले अपहरण, फिर रेप और आखिर में हत्या... एक साल की बच्ची से दरिंदगी करने वाले को उम्रकैद

हालांकि, कोर्ट ने पीड़िता की दलीलों को खारिज करते हुए अमजद को 7 साल कैद की सजा सुनाते हुए उस पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है. पीड़िता का कहना था कि वो घटना के वक्त बालिग थी, लेकिन कोर्ट ने पाया कि उस वक्त उसकी उम्र 17 साल थी. 

हालांकि, कोर्ट ने दोषी को सीआरपीसी की धारा 428 का फायदा देते हुए उसकी हिरासत की अवधि को उसकी सजा से भी जोड़ दिया. आरोपी 2014 से ही जेल में ही था और उसे इस मामले में कभी जमानत भी नहीं मिली थी. 

इस मामले में पीड़िता के पिता ने शिकायत दर्ज कराई थी, जिनकी ट्रायल के दौरान ही मौत हो गई. कोर्ट ने जुर्माने की रकम से ही अमजद को 35 हजार रुपये पीड़ित परिवार को देने का आदेश भी दिया है. 

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें