scorecardresearch
 

दलित प्रेमी जोड़े ने की कोर्ट मैरिज, पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान और फिर लगवाया घर में ताला

गोंडा से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया. जहां प्रेमी जोड़े को कोर्ट मैरिज करने का खामियाजा भुगतना पड़ा. पंचायत ने अपना तुगलकी फरमान सुनाते हुए प्रेमी जोड़े को गांव से बाहर रहने का हुक्म दिया है. वहीं पीड़ित परिवार का कहना है कि हम लोग की एक जाति के हैं पर दूर- दूर तक कोई रिश्ता नहीं है. इसलिए यह शादी की गई है.

X
लव मैरिज करने पर पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान
लव मैरिज करने पर पंचायत ने सुनाया तुगलकी फरमान

यूपी के गोंडा से हैरान कर देने वाला मामला सामने आया. जहां प्रेमी जोड़े को कोर्ट मैरिज करने का खामियाजा भुगतना पड़ा. पंचायत ने अपना तुगलकी फरमान सुनाते हुए प्रेमी जोड़े गांव से बाहर रहने का हुक्म दिया है. साथ ही पंचायत ने इनके घरों पर ताला तक लगा दिया. गांव वापस आने पर जान से मारने की धमकी भी दी गई है. इतना ही नहीं पंचायत लगाकर नवदंपति का हुक्का पानी तक बंद कर दिया गया. इनके परिवारों से रिश्ता नाता खत्म करके न्योता निमंत्रण न देने का निर्णय लिया है.

पीड़ित दंपति का आरोप है कि प्रधान प्रतिनिधि संतोष यादव ने बंदूक की धौंस दिखाकर इनके घर पर ताला लगाया. दरअसल, मजरे गांव के रहने वाले दलित युवक और युवती ने पहले इश्क किया और फिर कोर्ट मैरिज कर ली. जब इस बात की भनक ग्राम प्रधान प्रतिनिधि को लगी तो वो गुस्से से आग बबूला हो गया. फिर वो बंदूक के साथ युवक विनेश पासवान के घर पहुंचा और गाली गलौच करने लगा. पंचायत बुलाकर तुगलकी फरमान सुनाया और घर पर ताला जड़ दिया. 

जानकारी के मुताबिक प्रेमी जोड़े ने 16 अगस्त को परिवार की रजा मंदी  से शादी की.  लेकिन ग्राम प्रधान सीता यादव और उनके बेटे जो प्रधान प्रतिनिधि है संतोष यादव को यह बात पसंद नहीं आई. इसके बाद गांव में पंचायत बुलाई गई और फरमान सुनाया कि अगर  लड़का और लड़की गांव में लौटे तो उन्हें यहां नहीं रहने दिया जाएगा. 

पीड़ित परिवार का कहना है कि हम लोग की एक जाति के हैं, पर दूर- दूर तक कोई रिश्ता नहीं है. इसलिए यह शादी की गई है. लेकिन दबंग प्रधान प्रतिनिधि संतोष यादव और सीता यादव को यह बिल्कुल भी पसंद नहीं आ रही है. अब डरा सहमा प्रेमी युगल घर से भागा हुआ है और वीडियो जारी कर सुरक्षा की गुहार लगा रहा है. युवक विनेश पासवान ने अपना और अपनी पत्नी खुशी के साथ वीडियो जारी कर जिला प्रशासन और पुलिस प्रशासन से सुरक्षा की गुहार लगाई है. वहीं उनके साथ होने वाली किसी भी घटना का जिम्मेदार ग्राम प्रधान प्रतिनिधि को ठहराया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें