scorecardresearch
 

UP: बिना यूनिफॉर्म स्कूल पहुंची दलित छात्रा, दबंग ने मारे थप्पड़, जातिसूचक शब्दों का भी किया इस्तेमाल

UP: भदोही जिले में चौरी थाना क्षेत्र के प्राथमिक विद्यालय में बिना यूनिफॉर्म के आई एक छात्रा को थप्पड़ मारकर स्कूल से भगाने का मामला सामने आया है. पीड़ित छात्रा के परिजनों की तहरीर पर पुलिस ने SC-ST एक्ट सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

X
बिना यूनिफॉर्म के आई छात्रा को थप्पड़ मारकर स्कूल से भगाया.
बिना यूनिफॉर्म के आई छात्रा को थप्पड़ मारकर स्कूल से भगाया.

उत्तर प्रदेश के भदोही जिले में बिना यूनिफॉर्म स्कूल आने पर दलित छात्रा की एक दबंग ने पिटाई कर दी और उसे स्कूल से बाहर निकाल दिया. साथ ही जाति सूचक शब्दों का भी इस्तेमाल किया. परिजनों की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी को हिरासत में ले लिया है. जबकि आरोपी का स्कूल से कोई संबंध नहीं है. छात्रा के परिजनों का आरोप है कि दबंग शख्स स्कूल में आकर दबंगई करता है. 

यह पूरा मामला चौरी थाना क्षेत्र के मानिकपुर का है. जहां की धनपति देवी ने तहरीर देकर शिकायत की है कि उनकी 14 साल की बेटी उच्च प्राथमिक स्कूल मानिकपुर में कक्षा 8वीं की छात्रा है. वह सोमवार को स्कूल गई थी. इस दौरान गांव के मनोज दुबे ने बच्ची को क्लास में खड़ा कर पूछा, तुम ड्रेस में क्यों नहीं आई हो? जिस पर बालिका ने बताया- "पापा कल ड्रेस दिला देंगे तब पहन एक आऊंगी."

इस पर मनोज दुबे ने जाति सूचक शब्दों का प्रयोग करते हुए बच्ची को थप्पड़ मारा और स्कूल से बाहर कर दिया, और कहा कि जब ड्रेस ले लेना, तब स्कूल आना. जबकि मनोज दुबे का स्कूल से कोई संबंध नहीं है और उससे अध्यापक भी डरते हैं. इस शिकायत पर पुलिस ने SC-ST एक्ट सहित अन्य धाराओं में मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है और आवश्यक कार्रवाई में जुटी है.

इस मामले में भदोही के पुलिस अधीक्षक डॉ. अनिल कुमार ने बताया, 22 अगस्त को थाना चौरी इलाके के एक गांव की महिला ने इस संबंध में लिखित तहरीर दी थी. इस मामले में आरोपी के खिलाफ कई धाराओं में मामला दर्ज किया गया है और उसे गिरफ्तार कर लिया गया है. इसमें आगे की उचित कार्रवाई की जा रही है.

वहीं, बेसिक शिक्षा अधिकारी भूपेंद्र नारायण सिंह ने बताया कि मामला संज्ञान में आते ही खंड शिक्षा अधिकारी को भेजा गया है. संज्ञान में आया है कि पूर्व प्रधान वहां गए थे और जो बच्चियां ड्रेस में नहीं थीं, उनको खड़ा करके उन्होंने पूछा- ड्रेस क्यों नहीं है? और फिर बाहर निकाल दिया.

जहां तक हमारे संज्ञान में आया है कि परिजनों ने एफआईआर दर्ज कराया है. संभवत: आरोपी जेल भी गया है. हमने हेड मास्टर से भी पूछा है कि ऐसा कैसे हुआ कि बाहरी व्यक्ति क्यों प्रवेश किया? खंड शिक्षा अधिकारी की जैसे ही आख्या प्राप्त होती है तो इसमें अग्रिम कार्रवाई की जाएगी.

(रिपोर्ट- महेश जायसवाल)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें