scorecardresearch
 

बिहार: समस्तीपुर में JDU नेता की लिंचिंग केस में एक गिरफ्तार, पुलिस ने इंस्टाग्राम को लिखी चिट्ठी

बिहार के समस्तीपुर में जेडीयू नेता मोहम्मद खलील रिजवी की हत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है. एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें इस हत्या को गाय से जोड़ा जा रहा है. इस वीडियो को पुलिस ने ध्यान भटकाने की साजिश बताया है.

X
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • जेडीयू नेता खलील रिजवी की हत्या का मामला
  • पुलिस ने गाय के कारण हत्या के एंगल को किया खारिज

बिहार के समस्तीपुर में पिछले दिनों जनता दल यूनाइटेड (जदयू) नेता मोहम्मद खलील रिजवी की हत्या के मामले में नया मोड़ आ गया है. सोशल मीडिया पर जदयू नेता के साथ गौहत्या को लेकर सवाल करते हुए एक वीडियो काफी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसके बाद जदयू के नेता की हत्या मॉब लिंचिंग की घटना के रूप में बताया जा रहा है.

हालांकि समस्तीपुर पुलिस का कहना है कि अभियुक्तों के द्वारा हत्याकांड से बचने के लिए सोशल मीडिया पर वीडियो को वायरल कर सांप्रदायिक रंग देने की साजिश रची गई थी. पुलिस ने इस वायरल वीडियो को बनाकर वायरल करने वाले युवक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू कर दी है.

समस्तीपुर पुलिस ने एक और अभियुक्त किसन कुमार को गिरफ्तार कर लिया है. सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल करने वाले अनुराग झा की गिरफ्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. वही मृतक के परिजनों से समस्तीपुर के एसपी हृदयकांत ने मिलकर सुरक्षा का पूरा भरोसा दिलाया.

क्या है मामला

जदयू नेता मोहम्मद खलील रिजवी का 17 फरवरी को अपहरण कर लिया गया था. इस बीच मृतक के भाई ने अपहरण से संबंधित मुसरीघरारी थाना में एक एफआईआर दर्ज कराई थी. मामला जदयू नेता से जुड़े होने की वजह से पुलिस ने एक एसआईटी टीम का गठन कर छापेमारी शुरू की और कल्याणपुर थाना क्षेत्र से एक आरोपी को पुलिस ने धरदबोचा.

पुलिस ने जब कड़ाई से पूछताछ शुरू की तो उसके निशानदेही पर जदयू नेता का शव बरामद किया गया. हत्याकांड के पीछे नौकरी दिलाने के नाम पर लिए गए रकम को नहीं लौटाने के एवज में अंजाम देने की बात आरोपी विपुल कुमार ने बताया था, लेकिन अब सोशल मीडिया पर वायरल वीडियो होते ही मामले को लोग मॉब लिंचिंग से जोड़ कर देख रहे हैं.

तेजस्वी यादव ने नीतीश सरकार पर साधा निशाना

इस हत्याकांड पर आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट करके कहा, 'बिहार की NDA सरकार में कानून व्यवस्था पूर्णतः समाप्त हो चुकी है. गाय के नाम पर मुस्लिम युवक जो स्वयं JDU नेता था उसे पीट कर, जिंदा जलाकर दफ़ना दिया गया. नीतीश जी बताए, बिहार में लगातार ऐसी घटनाएँ क्यों हो रही है? लोग कानून को हाथ में क्यों ले रहे है?'

पुलिस ने गाय के नाम पर हत्या से किया इनकार

हालांकि पुलिस ने गाय के नाम पर हत्या के एंगल को खारिज कर दिया. समस्तीपुर के एसपी हृदयकांत ने कहा कि हम इंस्टाग्राम से भी पत्राचार कर रहे हैं ताकि उनसे और डिटेल प्राप्त हो सके. ये वीडियो कांड से बचने के लिए वायरल किया गया था इसपे ध्यान न दे जो भी इसके पीछे है उनको जल्द हमलोग पकड़ लेंगे.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें