scorecardresearch
 

मधुबनी नरसंहार के मुख्य आरोपी प्रवीण झा और भोला सिंह समेत पांच आरोपी गिरफ्तार

मधुबनी में होली के दिन एक ही जाति के 5 लोगों की निर्मम हत्या के मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. मुख्य आरोपी प्रवीण झा और भोला सिंह के साथ ही चंदन झा, कमलेश सिंह और मुकेश साफी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया.

बिहार पुलिस (सांकेतिक तस्वीर) बिहार पुलिस (सांकेतिक तस्वीर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • होली के दिन हुई थी पांच लोगों की हत्या
  • नीतीश के मंत्री ने बताया था नरसंहार

बिहार के मधुबनी में होली के दिन एक ही जाति के 5 लोगों की निर्मम हत्या के मामले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया गया है. मुख्य आरोपी प्रवीण झा और भोला सिंह के साथ ही चंदन झा, कमलेश सिंह और मुकेश साफी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. इस हत्याकांड के बाद फिर बिहार में जातीय संघर्ष शुरू होने की आशंका जताई जा रही है.

दरअसल, 6 महीने पहले तालाब में मछली मारने को लेकर गैबीपुर गांव के दबंगों और महमदपुर गांव के पीड़ित परिवार के बीच जो विवाद शुरू हुआ था उसका इतना रक्त रंजित अंत होगा यह किसी ने भी नहीं सोचा था. इस विवाद में महमदपुर गांव के संजय सिंह और गैबीपुर गांव के मुकेश साफी ने एक दूसरे के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी. 

एक तरफ जहां संजय सिंह ने गैबीपुर गांव के प्रवीण झा समेत गांव के अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी वहीं मुकेश साफी ने संजय सिंह समेत महमदपुर गांव के अन्य लोगों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराई थी. संजय सिंह इस मामले में फिलहाल जेल में बंद है. 

होली के दिन पांच लोगों की हत्या
आरोप है कि होली के दिन प्रवीण झा ने हथियारों से लैस अपने 30-40 समर्थकों के साथ महमदपुर गांव पर हमला बोल दिया और हत्याकांड को अंजाम दिया. इस घटना में 2 लोगों की मौके पर ही मौत हो गई जबकि तीन अन्य की इलाज के दौरान अस्पताल में दम तोड़ दिया.

नीतीश के मंत्री ने हत्याकांड को बताया नरसंहार
इस हत्याकांड को लेकर सबसे पहले नीतीश कुमार सरकार में वन एवं पर्यावरण विभाग के मंत्री नीरज कुमार बबलू ने अपनी आवाज उठाई और इसे नरसंहार करार दिया. मंत्री नीरज कुमार बबलू ने बिहार पुलिस को निकम्मा बताया और इस पूरे हत्याकांड में पुलिस और आरोपियों की मिलीभगत की बात भी कही थी.

तेजस्वी बोले- इस नरसंहार के पीछे बड़े-बड़े लोगों का हाथ
वहीं, आरजेडी नेता तेजस्वी यादव ने कहा, 'ये नरसंहार है, मैं पीड़ित परिवार की बातें सुनकर हैरान हूं कि घटना कैसे हुई? पूरे गांव में डर का माहौल है, हत्या के बाद भी शरीर को काटा गया. इस नरसंहार में बड़े-बड़े लोगों का हाथ है, रावण सेना चलाने वाले प्रवीण झा को पूर्व मंत्री विनोद नारायण झा का संरक्षण मिला हुआ है.'

तेजस्वी यादव ने आगे कहा, 'यहां जितने भी पुलिस अधिकारी हैं, आरोपी प्रवीण झा की सबसे बनती है. लोग कहते थे कि पुलिस नेपाल से पकड़कर लाते हैं लेकिन नीतीश कुमार की पुलिस प्रवीण झा नेपाल छोड़कर आई है. यहां न्याय के साथ विकास नहीं अन्याय के साथ विनाश हो रहा है.'

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें