scorecardresearch
 

बाराबंकी गैंगरेप केसः पुलिस ने दूसरे आरोपी को गिरफ्तार किया, गांव में चलाता है किराने की दुकान

बाराबंकी में दलित युवती के साथ गैंगरेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी. इस केस को लेकर जिलाधिकारी और पुलिस कप्तान ने लगातार दूसरे दिन प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का खुलासा किया. हैवानियत करने वाला दूसरे आरोपी की गांव में दुकान है और वह उसे चलाता है.

बाराबंकी केस की खुलासा करते DM और पुलिस कप्तान (फोटो-ट्विटर) बाराबंकी केस की खुलासा करते DM और पुलिस कप्तान (फोटो-ट्विटर)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • DM-पुलिस कप्तान ने घटना का खुलासा किया
  • दिनेश गौतम की गिरफ्तारी कल शुक्रवार को हुई
  • आरोपियों की तलाश के लिए बनाई गई थी 3 टीम

उत्तर प्रदेश के चर्चित बाराबंकी रेप कांड में नाबालिग दलित लड़की से गैंगरेप और नृशंस तरीके से हत्या के मामले में रिशु सिंह नाम के दूसरे आरोपी को भी गिरफ्तार कर लिया गया है. इससे पहले दिनेश गौतम की गिरफ्तारी कल शुक्रवार को हुई थी.

बाराबंकी में दलित युवती के साथ गैंगरेप के बाद उसकी हत्या कर दी गई थी. इस केस को लेकर जिलाधिकारी डॉक्टर आदर्श सिंह और पुलिस कप्तान ने लगातार दूसरे दिन प्रेस कांफ्रेंस कर घटना का खुलासा किया. हैवानियत करने वाला दूसरे आरोपी की गांव में ही दुकान है.

गैंगरेप और मर्डर केस में पकड़े गए दूसरे अभियुक्त का नाम ऋषिकेश सिंह उर्फ रिशु सिंह है. कल आरोपी दिनेश गौतम की गिरफ्तारी हो चुकी है और उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. रिशु सिंह की गांव में किराने की दुकान है.

आरोपियों पर पॉक्सो एक्ट

आरोपी ने बताया मृतका अकेले धान के खेत में गई थी. उसके बाद दोनों अभियुक्तों ने योजनाबद्ध तरीके से घटना को अंजाम दिया. पुलिस ने इन संबंध में धारा 302, 376 D - गैंगरेप, SC/ST एक्ट और पॉक्सो एक्ट लगाकर कार्रवाई की है.

बाराबंकी पुलिस इस केस के आरोपियों की तलाश कर रही थी जिसके लिए कई टीम भी बना दी गई थी. पुलिस का दावा है कि डिजिटल सबूतों और जमीनी सूचना के आधार पर इस घटना का खुलासा किया गया. अभियुक्त दिनेश कुमार गौतम को बाराबंकी पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार किया है. पुलिस के अनुसार आरोपी दिनेश की उम्र 19 वर्ष है.

देखें: आजतक LIVE TV 

तलाशी के लिए 3 टीम
पुलिस ने दावा किया कि पूछताछ के दौरान आरोपी दिनेश ने घटना में शामिल होना स्वीकार कर लिया है. दूसरी ओर, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद पुलिस ने इस मामले में आईपीसी की धारा 376 बढ़ा दी. आरोपियों की तलाश के लिए 3 टीम बनाई गई थीं.

दूसरी ओर, योगी सरकार में मंत्री दारा सिंह ने बाराबंकी रेप कांड को लेकर ऐलान किया कि सरकार पीड़ित परिवार को 10 लाख रुपये मुआवजा देगी. दारा सिंह ने बताया कि यह मुआवजा राशि सरकार रानी लक्ष्मीबाई योजना के तहत देगी. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि परिवार को कुछ जमीन भी उपलब्ध करा देंगे.

पीड़िता के परिजनों ने पुलिस पर गंभीर आरोप लगा रखे हैं. दलित लड़की के साथ गैंगरेप के बाद धान के खेत में हत्या कर दी गई थी. वहां से उसका अर्धनग्न शव बरामद हुआ था. परिजन रेप की आशंका जता रहे थे, लेकिन बाराबंकी पुलिस मामले को दबाने में जुटी रही. बाद में पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट आने पर पुलिस को इस केस में रेप की धारा जोड़नी पड़ी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें