scorecardresearch
 

UP: 'मैंने रेप नहीं किया' सुसाइड नोट लिख उभरते हुए एथलीट ने कर ली खुदकुशी

UP News: मुजफ्फरनगर जिले में उभरते हुए एथलीट राहुल ने खुदकुशी कर ली. उसने कम उम्र में देश-विदेश में कई मेडल जीते थे. जान देने से पहले उसने खुदकुशी नोट भी लिखा था. अब पुलिस इसकी जांच कर रही है.

X
एथलीट राहुल (फाइल फोटो) एथलीट राहुल (फाइल फोटो)
स्टोरी हाइलाइट्स
  • कम उम्र में देश-विदेश में जीता था कई मेडल
  • दिल्ली में युवती के परिजनों ने लगाया था रेप का आरोप
  • 19 महीने जेल में रहकर आया था एथलीट

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में एक उभरते हुए एथलीट की खुदकुशी ने हर किसी को झकझोर दिया है. भैसी में रायपुर नगली गांव निवासी 23 साल के राहुल ने पेड़ से फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली. पुलिस ने शव को पेड़ से उतरवाया तो उसकी जेब से एक सुसाइड नोट मिला. पुलिस ने नोट को अपने कब्जे में लेकर शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया.

राहुल एक उभरता हुआ एथलीट था, जिसने अपनी कम उम्र में देश-विदेश में कई मेडल जीते थे. वह दिल्ली में रहकर ओलंपिक गेम की तैयारी कर रहा था. इस दौरान दिल्ली में एक युवती के परिजनों ने राहुल पर बेटी को बहला-फुसलाकर भगाकर ले जाने और रेप का मुकदमा दर्ज कराया था. इस मामले मे दिल्ली पुलिस राहुल को उसके गांव से गिरफ़्तार कर ले गई थी. तक़रीबन 19 माह वह जेल में रहा और एक महीने पहले ही ज़मानत पर जेल से छूटकर आया था. तभी से वह डिप्रेशन में चल रहा था. 

सुसाइड नोट में बयां किया दर्द
सुसाइड नोट में राहुल ने लिखा, 'मेरी लाइफ बेकार हो चुकी है. जबसे मुझे झूठे मुकदमे में फंसाकर जेल भिजवाया गया, तब से मैं डिप्रेशन में चल रहा हूं. मैंने कुछ गलत नहीं किया. वह लड़की सिर्फ मेरी दोस्त थी. उसने मुझे जॉब दिलाने के लिए बुलाया था. फिर भी लड़की के मां-बाप ने बहला फुसलाकर भगा ले जाने और रेप करने के मामले में मुझे जेल भिजवा दिया. 19 महीने जेल में रहकर मेरी जिंदगी खराब हो चुकी है. अब मेरी सरकारी नौकरी भी नहीं लग सकती है. जेल जाने के बाद में बहुत डिप्रेशन में हूं, इसलिए ये कदम उठा रहा हूं. मुझे माफ कर दो. इसमें मेरे परिवार का कोई कसूर नहीं है. मैं जो भी कर रहा हूं, अपनी मर्जी से कर रहा हूं. लेकिन लड़की के मां-बाप से पूछताछ जरूर की जाए. उन्होंने मुझे पैसों के लिए गलत फंसाया. पापा मुझे माफ कर दो. मेरा सपना बड़ा एथलीट बनने का था. मैंने मेहनत भी की. देश-विदेश में कई मेडल जीते, लेकिन मेरी जिंदगी खराब कर दी गई. मैंने रेप नहीं किया था. ये बात लड़की ने भी कही है कि मेरे साथ कुछ नहीं हुआ है. फिर भी मुझे सजा मिली. ये कलंक लेकर मैं नहीं जी सकता. सब मेरे बारे में गलत सोच रहे हैं. मैं किसी से बात करने लायक नहीं रहा. इसलिए मैं अपनी जिंदगी खत्म कर रहा हूं. सॉरी मैं अपनी फैमिली से बहुत प्यार करता हूं.'

राहुल के पिता मुकेश कुमार ने बताया कि वह काफी डिप्रेशन में चल रहा था. लड़की के मां-बाप उसे पैसों के लिए ब्लैकमेल कर रहे थे. एक महीने वह पहले जमानत पर छूटकर आया था. दिल्ली में रहकर वह ओलंपिक की तैयारी कर रहा था. लड़की के मां-बाप ने FIR करवा दी थी. सुसाइड नोट में लड़की के मां-बाप का जिक्र है कि उसकी वजह से वह सुसाइड कर रहा है. वे लोग पैसे की मांग कर रहे थे. दस लाख हम पहले भी दे चुके थे. इस संबंध में हमने खतौली थाने में शिकायत दर्ज कराई है. 

इस मामले में मुज़फ्फरनगर के एसपी सिटी अर्पित विजयवर्गीय का कहना है कि सोमवार को थाना खतौली क्षेत्र में एक युवक ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली. सूचना पर तत्काल पुलिस मौके पर पहुंची थी. शव को पेड़ से उतारकर पोस्टमॉर्टम लिए भेज दिया गया है. इस संबंध में सुसाइड नोट मिला है. हम जांच कर रहे है कि मृतक ने इसमें किन लोगों का जिक्र किया है. जांच के आधार पर कार्रवाई की जाएगी.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें