scorecardresearch
 

Cryptocurrency: आतंकी संगठन Hamas ने उड़ाए थे दिल्ली के शख्स के पैसे, पुलिस का खुलासा

Cryptocurrency: साल 2019 में दिल्ली के एक शख्स के क्रिप्टोकरेंसी अकाउंट से पैसा दूसरे क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में ट्रांसफर हुआ था. इस मामले में कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली पुलिस ने साल 2019 में एक एफआईआर दर्ज की थी.

X
प्रतीकात्मक प्रतीकात्मक
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 2019 में शख्स ने की थी पैसे कटने की शिकायत
  • दिल्ली पुलिस का खुलासा- आतंकी संगठन ने उड़ाए पैसे

दिल्ली से चौंकाने वाला मामला सामने आया है. यहां दिल्ली के एक शख्स के क्रिप्टोकरेंसी अकाउंट से पैसा आतंकी संगठन हमास (HAMAS) के क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में धोखे से ट्रांसफर किया गया. दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल की IFSO यूनिट ने इस मामले में बड़ा खुलासा किया है. 

दरअसल, साल 2019 में दिल्ली के एक शख्स के क्रिप्टोकरेंसी अकाउंट से पैसा दूसरे क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में ट्रांसफर हुआ था. इस मामले में कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली पुलिस ने साल 2019 में एक एफआईआर दर्ज की थी. शख्स ने शिकायत की थी कि करीब किसी ने धोखे से कररीब 30 लाख की क्रिप्टोकरेंसी का अमाउंट अपने क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में ट्रांसफर किए हैं. 

कोर्ट के आदेश के बाद दिल्ली पुलिस ने इस पूरे मामले की जांच स्पेशल सेल की IFSO यूनिट को सौंप दी थी. दिल्ली पुलिस की IFSO यूनिट ने जब इस पूरे मामले की जांच शुरू की तो अधिकारियों के होश उड़ गए. स्पेशल सेल की IFSO यूनिट की जांच में यह सामने आया है कि पीड़ित का पैसा आतंकी संगठन हमास के क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में धोखे से ट्रांसफर किया गया. 

दरअसल, पीड़ित शख्स के क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट से जो अमाउंट दूसरे क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में ट्रांसफर किया गया था, उस वॉलेट को अलकासिम ब्रिगेट्स द्वारा ऑपरेट किया जा रहा था. अलकासिम ब्रिगेट्स आतंकी संगठन हमास का मिलिट्री विंग है. 

क्रिप्टोकरेंसी के जिस वॉलेट में पीड़ित का पैसा ट्रांसफर किया गया वॉयलेट को इजरायल की नेशनल ब्यूरो फॉर काउंटर टेरर फाइनेंसिंग ने सीज कर लिया था. जो अकाउंट इजरायल ने सीज किया उसका संबंध मोहम्मद नासिर इब्राहिम अब्दुल्ला से था. दिल्ली पुलिस के मुताबिक, कई निजी क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट से पैसा होते हुए आतंकी संगठन हमास के इस क्रिप्टोकरेंसी वॉलेट में पहुंचता था. और जब पैसा हमास के मिलिट्री विंग के क्रिप्टो करेंसी वॉलेट में आ जाता था तो उसके बाद इस पैसे का इस्तेमाल आतंकी संगठन हमास द्वारा किया जाता था.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें