scorecardresearch
 

सीएम अमरिंदर सिंह के रिश्तेदार से 5 साल पहले हुई थी ठगी, अब दुमका से गिरफ्तार हुआ आरोपी

पंजाब के सीएम के रिश्तेदार से ठगी के पांच साल पुराने मामले में पुलिस ने दुमका के एक युवक को गिरफ्तार किया है. पंजाब से दुमका आई पुलिस टीम ने आशू कुमार मंडल नाम के युवक को गिरफ्तार किया है. पुलिस टीम युवक को अपने साथ पंजाब ले गई.

पंजाब पुलिस की गिरफ्त में आरोपी युवक पंजाब पुलिस की गिरफ्त में आरोपी युवक
स्टोरी हाइलाइट्स
  • दुमका के रसिकपुर से दबोचा गया आरोपी
  • आरोपी को लेकर पंजाब रवाना हुई पुलिस

पंजाब के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के एक रिश्तेदार के खाते से 75 हजार रुपये की ठगी का मामला सामने आया था. इस पांच साल पुराने मामले में पुलिस ने दुमका के एक युवक को गिरफ्तार किया है. पंजाब से दुमका आई पुलिस टीम ने आशू कुमार मंडल नाम के युवक को गिरफ्तार किया है. पुलिस की टीम युवक को अपने साथ पंजाब ले गई है.

जानकारी के मुताबिक पंजाब के मोहाली के एसीजेएम न्यायालय से निर्गत वारंट के आधार पर पंजाब पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा के प्रभारी अमरजीत सिंह के नेतृत्व में पांच सदस्यीय पुलिस टीम झारखंड के दुमका आई थी.

पंजाब पुलिस की टीम दुमका के रसिकपुर निवासी आशू कुमार मंडल को गिरफ्तार कर ले गई. इस कार्रवाई के दौरान दुमका साइबर अपराध शाखा की टीम भी एसआई दिलीप पाल के नेतृत्व में पंजाब पुलिस के साथ मौजूद थी.

बताया जाता है कि पंजाब और दुमका पुलिस की टीम ने आरोपी आशू के रसिकपुर स्थित घर पर छापेमारी कर उसे दबोच लिया. पुलिस ने उसके पास से पांच मोबाइल फोन जब्त किया है. इसमें वह मोबाइल फोन भी शामिल है, जिसका इस्तेमाल कर व्यक्ति के खाते से धनराशि की निकासी की गई है. आशू के घर से 50 हजार रुपये नकद भी बरामद किए गए हैं.

पुलिस के मुताबिक पंजाब के मोहाली के निवासी केवल कृष्ण तलवार की पत्नी को फोन कर आरोपी आशू मंडल ने अपने आपको एसबीआई दिल्ली ब्रांच का मैनेजर बताया. जालसाज ने तलवार की पत्नी को एटीएम बंद होने के नाम पर बरगलाकर ओटीपी पूछ उनके खाते से 75 हजार रुपये की निकासी कर ली थी.

साल 2016 की इस घटना के संबंध में पीड़ित ने उसी साल प्राथमिकी दर्ज करा दी थी. 5 साल बाद मोहाली पुलिस 10 फरवरी को जारी वारंट लेकर दुमका पहुंची और स्थानीय पुलिस के सहयोग से आरोपी को मोबाइल फोन के लोकेशन के सहारे धर दबोचा.

दुमका के साइबर थाना प्रभारी दिलीप पाल ने इस संबंध में बताया कि गिरफ्तार आरोपी आशू मूल रूप से देवघर जिला के पालोजोरी थाना क्षेत्र का रहने वाला है. वह दुमका के रसीदपुर मोहल्ले में रह रहा था.

उन्होंने बताया कि आशू का चाचा कारू मंडल भी साइबर क्राइम के एक केस में जेल में बंद है. साइबर थाना प्रभारी के मुताबिक पूछताछ में आशू ने बताया कि चाचा से ट्रेनिंग लेकर वह साइबर क्राइम से जुड़ा.

(दुमका से मृत्युंजय पांडेय के इनपुट के साथ)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें