scorecardresearch
 

गिरफ्त में शातिर साइबर स्टॉकर, नाबालिग स्कूली छात्राओं को कर रहा था ब्लैकमेल

पिछले 3 साल से नाबालिग स्कूली छात्राओं को उनकी मॉर्फ़ फ़ोटो भेजकर ब्लैकमेल करने वाले एक शातिर साइबर स्टॉकर को उत्तरी दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है.

पुलिस गिरफ्त में शातिर साइबर स्टॉकर पुलिस गिरफ्त में शातिर साइबर स्टॉकर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • 3 साल से कर रहा था ब्लैकमेल
  • पटना से गिरफ्तार किया गया आरोपी

पिछले 3 साल से नाबालिग स्कूली छात्राओं को उनकी फर्जी फ़ोटो भेजकर ब्लैकमेल करने वाले एक शातिर साइबर स्टॉकर को उत्तरी दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है. पकड़ में आया साइबर स्टॉकर महावीर एक आईआईटी कॉलेज से बीटेक कर रहा है, लेकिन पिछले तीन सालों से वो कई नाबालिग स्कूली छात्राओं को और कुछ स्कूल की टीचर्स को उनके मॉर्फ़ फ़ोटो के जरिये ब्लैकमेल कर रहा था और अपनी जानकारी का गलत इस्तेमाल कर रहा था.

कुछ समय पहले दिल्ली पुलिस के पास शिकायत आई थी, जिसके बाद पुलिस आरोपी की तलाश में जुट गई थी. पुलिस के मुताबिक, उन्हें जानकारी मिली कि आरोपी 50 से ज्यादा नाबालिग लड़कियों और स्कूल की टीचर्स को स्टॉक कर रहा था. 

पुलिस के मुताबिक, आरोपी हाई टेक एप इस्तेमाल करता था. इस हाई टेक के जरिये आरोपी की फेक कॉलर आईडी सामने से दिखती थी. इतना ही नहीं ये नाबालिग छात्राओं से कॉन्टेक्ट करने के लिए वर्चुअल नंबर का इस्तेमाल करता. ये इतना शातिर था कि पीड़ित को फ़ोन करने के लिए एप के जरिये पीड़ित के फ़ोन से ही उसे फ़ोन करता था और वर्चुअल नंबर से व्हाट्सएप मैसेज और मॉर्फ्ड अश्लील फ़ोटो भेजता था, फिर ब्लैकमेल करता.

डीसीपी उत्तरी दिल्ली सागर सिंह कल्सी ने बताया कि आरोपी ने नाबालिग लड़कियों के फेक इंस्टाग्राम अकाउंट बना रखे थे, ताकि वो उनकी जानकार दूसरी लड़कियों के संपर्क में आ सके और वो ऑनलाइन क्लास के लिए बने उनके व्हाट्सएप ग्रुप में जुड़ जाता और फिर वो ऑनलाइन क्लास में भी जुड़ जाता, साथ में जब वो किसी से बात करता था तो आवाज़ बदलने वाले किसी ऐप या सॉफ्टवेयर के जरिये अपनी आवाज़ बदल देता. 

आरोपी तक पहुंचने के लिए पुलिस ने डिजिटल फुटप्रिंट का भी सहारा लिया और फिर पटना से आरोपी महावीर को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने आरोपी के पास से एक लैपटॉप और एक मोबाइल बरामद किया है.

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें