scorecardresearch
 

... और खुद काले हिरण का शिकार हो गया 'टाइगर'

अदालत, ज़मानत, हवालात और जेल. ये वो चार चीजें हैं जो पिछले 20 सालों से सलमान खान की परेशानी का सबब बनी हुईं हैं. हालांकि बीते दो साल में तीन ऐसे फैसले आए जिसने सलमान को राहत पहुंचाई. मगर अब उनकी ज़िंदगी से जुड़े चौथे और आखिरी केस ने उन्हें फिर से जेल पहुंचा दिया.

सलमान को अभी और दो रातें जेल में बितानी पड़ सकती है सलमान को अभी और दो रातें जेल में बितानी पड़ सकती है

अदालत, ज़मानत, हवालात और जेल. ये वो चार चीजें हैं जो पिछले 20 सालों से सलमान खान की परेशानी का सबब बनी हुईं हैं. हालांकि बीते दो साल में तीन ऐसे फैसले आए जिसने सलमान को राहत पहुंचाई. मगर अब उनकी ज़िंदगी से जुड़े चौथे और आखिरी केस ने उन्हें फिर से जेल पहुंचा दिया.

तीन मामलों में बरी हुए सलमान

10 दिसंबर 2015. बॉम्बे हाईकोर्ट, मुंबई ने सबूतों के अभाव में शक का लाभ देते हुए हिट एंड रन केस में सलमान खान को सभी आरोपों से बरी कर दिया था. ठीक इसके सात महीने बाद 25 जुलाई 2016 को राजस्थान हाईकोर्ट की जोधपुर बेंच ने शक का लाभ देते हुए सलमान को चिंकारा शिकार के दो मामलो में बरी कर दिया था. और फिर इसके पांच महीने बाद यानी 18 जनवरी 2017 को जोधपुर की सेशन कोर्ट ने शक का लाभ देते हुए आर्म्स एक्ट के मामले में सलमान ख़ान को बरी कर दिया था.

हिट एंड रन में मिली थी राहत

28 महीने पहले ब़ॉलीवुड के टाइगर सलमान खान को बॉम्बे हाई कोर्ट से सबसे बड़ी राहत मिली थी. ये राहत उन्हें हिट एंड रन केस में तमाम आरोपों से बरी किए जाने की शक्ल में मिली थी. इस एक फैसले ने सलमान के 13 लंबे सालों की दौड़ खत्म कर दी थी.  

बॉक्स ऑफिस के सुल्तान

हिट एंड रन केस के सात महीने बाद आए सलमान की जिंदगी के दूसरे सबसे बड़े अदालती फैसले ने सलमान और उनके चाहने वालों को ये बोलने का मौका दे दिया कि सुल्तान शिकारी तो हैं पर सिर्फ ब़ॉक्स ऑफिस के. 

बरसों से पीछा कर रहा है ये आरोप

19 लंबे सालों बाद आखिरकार सलमान खान तब पूरी तरह से आज़ाद हो गए थे. इन 19 सालों के दौरान सलमान ने ना जितने कितनी फिल्में हिट दीं. पर एक हिट एंड रन और दूसरा शिकारी होने की तोहमत पिछले 19 सालों से सलमान का पीछा कर रही थी. पर इन तीन फैसलों के बाद सलमान की सारी मजबूरियां खत्म हो गई थीं. अब सलमान सिर्फ हिट फिल्मों पर ध्यान दे रहे थे. हिट एंड रन और शिकारी केस पर नहीं.

सीजेएम ने सुनाई 5 साल की सजा

मगर तभी एक और फैसला आता है. सलमान खान के केस का चौथा और आखिरी फ़ैसला. 5 अप्रैल 2018 को जोधपुर के चीफ़ ज्यूडीशियल मजिस्ट्रेट ने तमाम सबूतों के मद्देनज़र सलमान ख़ान को चिंकारा शिकार के मामले में 5 साल की सज़ा सुना दी.

चौथी बार जेल पहुंचे सलमान

बरसों कानूनी लड़ाई लड़ने वाले सलमान खान अपनी जिंदगी के इस आखिरी केस में मात खा गए. बीस साल पहले 1998 में जोधपुर के कांकाणी इलाके में एक चिंकारा के शिकार के मामले में सलमान खान ना सिर्फ दोषी करार दिए जाते हैं, बल्कि उन्हें एक बार फिर पांच साल की सजा सुनाई जाती है. सज़ा सुनाए जाने के घंटे भर के अंदर ही एक बार फिर वो उसी जोधपुर सेंट्रल जेल पहुंच जाते हैं, जहां वो पहले भी तीन किश्तों में 18 दिन रह चुके हैं. उस जेल में आज उनकी 19वीं रात थी.

किस्मत ने नहीं दिया साथ

काला हिरण शिकार मामले में सलमान पर ये आखिरी मुकदमा था. इसके अलावा सलमान खान हर केस से आजाद हो चुके हैं. पर इस आखिरी मुकदमे ने ही सिकंदर सलमान के मुकद्दर का साथ नहीं दिया. अब ये तय है कि सलमान जेल से बाहर आएंगे तो इसी शर्त पर कि उनकी आज़ादी ज़मानती होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें