scorecardresearch
 

झारखंड में CRPF पर बड़ा हमला करने की फिराक में थे नक्सली, 10 किलो का कैन बम बरामद

मामला पश्चिमी सिंहभूम जिले के मनोहरपुर प्रखंड में दिघा से तिरिलपोसी जाने वाले रास्ते का है जहां CRPF ने 10 किलो केन बम बरामद किया है. जिसे बम निरोधक दस्ते की मदद से नष्ट कर दिया गया है. मिली जानकारी के अनुसार ये बम सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश से लगाया था.

X
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर
स्टोरी हाइलाइट्स
  • सुरक्षाबलों को भारी नुकसान पहुंचा सकता था बम
  • CRPF को मिली थी गुप्त सूचना
  • सारंडा क्षेत्र में पैर पसारने की कोशिश कर रहे हैं नक्सली

बीते दिनों छत्तीसगढ़ के बीजापुर हमले में हुए नक्सली हमले के दर्द से देश अभी उबरा ही नहीं है कि नक्सलियों ने झारखंड राज्य के पश्चिमी सिंहभूम में भी एक बड़े बम हमले की तैयारी कर रखी थी. लेकिन CRPF की सूझबूझ के चलते सुरक्षाबलों ने नक्सलियों के मंसूबे पर पानी फेर दिया.

मामला पश्चिमी सिंहभूम जिले के मनोहरपुर प्रखंड में दिघा से तिरिलपोसी जाने वाले रास्ते का है जहां CRPF ने 10 किलो केन बम बरामद किया है. जिसे बम निरोधक दस्ते की मदद से नष्ट कर दिया गया है. मिली जानकारी के अनुसार ये बम सुरक्षा बलों को नुकसान पहुंचाने के उद्देश से लगाया था. जितनी इस बम की मात्रा है उस हिसाब से सुरक्षाबलों को भारी नुकसान पहुंच सकता था लेकिन समय रहते सीआरपीएफ ने नक्सलियों की चाल को एक्सपोज कर दिया.

सारंडा क्षेत्र के नक्सली सुरक्षाबलों को नुकसान पहुंचाने के लिए लगातार कोशिश कर रहे हैं. नक्सली सारंडा में अपने पैर पसारने की लगातार कोशिश कर रहे हैं. इससे पहले भी इस क्षेत्र से कई केन बम बरामद किए जा चुके हैं. जानकारी के अनुसार दिघा सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट मनोज कुमार के बेहतरीन सूचनातंत्र होने के कारण नक्सलियों के मंसूबे कामयाब नहीं हो पा रहे हैं.

रविवार के दिन भी एक गुप्त सूचना पर 174 बटालियन के मनोज कुमार के नेतृत्व में एक ऑपरेशन चलाया गया. इस अभियान में जराइकेला थाने से उपनिरीक्षक गिरधारी लाल भी शामिल थे. सीआरपीएफ एवं जराईकेला पुलिस द्वारा संयुक्त रूप से बम निरोधक दस्ते के साथ दिघा व तिरिलपोसी के बीच चलाए गए सर्च अभियान में एक कंटेनर दिखाई दिया. जो 'केन बम' था. जिसे बरामद कर बम निरोधक दस्ते द्वारा नष्ट कर दिया गया.और इस प्रकार एक संभावित बड़ी घटना टल गई.

174 बटालियन के कमांडेंट डॉ. प्रेमचंद ने आजतक से कहा, ''सारंडा में नक्सलियों के खिलाफ अभियान आगे भी जारी रखेंगे, साथ ही नक्सलियों को अगाह भी करना चाहते हैं कि नक्सली या तो सरेंडर करें या फिर परिणाम भुगतने को तैयार रहें." (इनपुट-चाईबासा से जय कुमार तांती)

 

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें