scorecardresearch
 

गिरफ्तारी के वक्त DSP देवेंद्र सिंह ने DIG से कहा था- ये गेम है खराब मत कीजिए

देवेंद्र सिंह ने पकड़े जाने पर डीआईजी से ये कहा था कि सर ये गेम है आप गेम मत खराब करो. मगर डीआईजी को ये बात सुन कर गुस्सा आ गया था. इसके बाद उन्होंने डीएसपी देवेंद्र सिंह को एक थप्पड़ जड़ा और फिर उसे पुलिस वैन में बैठा कर साथ ले गए थे.

डीएसपी देवेंद्र सिंह के नाम का खुलासा फांसी से पहले अफजल गुरु ने किया था डीएसपी देवेंद्र सिंह के नाम का खुलासा फांसी से पहले अफजल गुरु ने किया था

  • डीएसपी देवेंद्र सिंह को DIG ने लगाया था थप्पड़
  • क्या डीएसपी देवेंद्र का सच सामने ला पाएगी NIA
  • कौन सा बड़ा गेम खेल रहा था देवेंद्र सिंह

क्या जम्मू-कश्मीर पुलिस के डीएसपी देंवेंद्र सिंह का करीब बीस साल पुराना अपना गेम खराब हो गया है? या फिर उसने कुछ बड़े लोगों का गेम खराब कर दिया है? इस सवाल का जवाब तलाशने के लिए मामले की जांच जम्मू-कश्मीर पुलिस से लेकर एनआईए को सौंप दिया गया है. देवेंद्र सिंह ने पकड़े जाने पर डीआईजी से ये लाइन कही थी कि सर ये गेम है आप गेम मत खराब करो.

मगर डीआईजी को ये बात सुन कर गुस्सा आ गया. इसके बाद उन्होंने डीएसपी देवेंद्र सिंह को एक थप्पड़ जड़ दिया और फिर पुलिस वैन में बैठा कर साथ ले गए. अब मामला एनआईए के हाथ जाते ही कहने वालों ने अभी से कहना शुरू कर दिया है कि डीएसपी देवेंद्र सिंह का असली गेम अब शायद ही कभी सामने आ पाए. ठीक वैसे ही जैसे पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन पर हुए आतंकी हमले के बाद पंजाब पुलिस के एक एसपी का सच कभी सामने नहीं आ पाया.

DSP की बात सुनकर DIG को आया था गुस्सा

डीआईजी अतुल गोयल ने जब वहां चेकपोस्ट पर कहा- गिरफ्तार कर लो देवेंद्र सिंह को. पलटकर देवेंद्र सिंह ने कहा- ''सर ये गेम है. आप गेम ख़राब मत करो.'' ये सिर्फ दो लाइन नहीं है. बल्कि देवेंद्र सिंह की इस एक लाइन में तो साजिश का वो कोड छुपा है जो गर खुल गया तो हंगामा हो जाएगा.

आखिर दो आतंरवादियों को अपनी कार में बैठा कर देवेंद्र सिंह कौन सा गेम खेलने जा रहा था और डीआईजी अतुल गोयल ने उसे पकड़ कर कैसे उसका गेम खराब कर दिया? ये गेम है क्या. कौन-कौन इस गेम के खिलाड़ी हैं. इस गेम का कप्तान कौन है और इस बार ये गेम किस मैदान में खेला जाने वाला था?

जिस वक्त नाका लगा कर डीआईजी अतुल गोयल ने देवेंद्र सिंह को दोनों आतंकवादियों के साथ पकड़ा था, उसी वक्त देवेंद्र ने डीआईजी से ये लाइन कही थी कि सर ये गेम है आप गेम मत खराब करो. मगर डीआईजी को ये बात सुन कर गुस्सा आ गया इसके बाद उन्होंने डीएसपी देवेंद्र सिंह को एक थप्पड़ जड़ दिया और फिर पुलिस वैन में बैठा कर साथ ले गए.

एक थी डीएसपी और आतंकी की लोकेशन

इस गेम को समझने के लिए देवेंद्र सिंह की गिरफ्तारी से पहले की कहानी समझना जरूरी है. जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक हिजबुल के आतंकवादी नवेद पर उसकी पहले से नजर थी. नवेद का मोबाइल भी सर्विलांस पर था. शनिवार को नवेद के मोबाइल से ही उसका लोकेशन पता चला. और उसके साथ ही ये भी पता चला कि डीएसपी देवेंद्र सिंह के मोबाइल का लोकेशन भी ठीक वही है. इसी के बाद नाकेबंदी की गई और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया.

देवेंद्र के साथ खुलेआम कार में सवार थे आतंकी

अब यहां सवाल ये है कि बीस लाख का एक इनामी आतंकवादी अपने मोबाइल पर अपने घर वालों और भाई से बात कर रहा है. ये जानते हुए भी कि मोबाइल के लोकेशन से वो पकड़ा जा सकता है. सवाल ये भी है कि उसी इनामी आतंकवादी के साथ एक डीएसपी खुलेआम उसके साथ कार में जा रहा है. ये जानते हुए भी कि उसका और आतंकवादी का लोकेशन आसानी से ट्रेस किया जा सकता है. उसी मोबाइल की मदद से. क्या एंटी हाईजैकिंग स्कवायड और स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप में काम करने वाला डीएसपी देवेंद्र सिंह इतना बेवफूक था? ये फिर जिस गेम के लिए वो निकला था उसे लेकर वो पूरी तरह बेफिक्र था?

12 लाख में की 20 लाख के इनामी की मदद?

जम्मू-कश्मीर पुलिस के मुताबिक हिजबुल के दोनों आतंकवादियों के साथ डीएसपी देवेंद्र सिंह की 12 लाख रुपये की डील हुई थी. अब ज़रा गौर कीजिए कि जिस इनामी आकतंकवादी नवेद को देवेंद्र सिंह अपने साथ कार में लेजा रहा था, उस पर बीस लाख रुपये का पहले से इनाम था. यानी अगर डीएसपी देवेंद्र उसे खुद गिरफ्तार करवा देता तो बीस लाख तो उसे ऐसे ही मिल जाते. क्या पता तरक्की अलग मिल जाती. ऐसे में बीस लाख की बजाए आठ लाख का घाटा और रिस्क उठा कर वो इस सौदे के लिए सिर्फ 12 लाख में कैसे तैयार हो गया? बात हज़म नहीं होती.

आखिर क्या करना चाहता था देवेंद्र सिंह

तो अगर बात सौदे और पैसे की नहीं थी तो फिर देवेंद्र क्या कर रहा था? क्यों हिजबुल के आतंकवादियों के साथ था. उन्हें कहां ले जा रहा था. किसके कहने पर ले जा रहा था. क्या करवाने ले जा रहा था. तो इसके जड़ में जाएं उससे पहले ज़रा कुछ पन्ने पलट लेते हैं.

क्या देवेंद्र ने रची थी दिल्ली में आतंकी हमले की कोई साजिश

26 जनवरी नज़दीक है. पिछले बीस नहीं तो चलिए पिछले पंद्रह सालों का इतिहास खंगालते हैं. आप पाएंगे कि लगभग हर साल 26 जनवरी, 15 अगस्त या फिर दीवाली से पहले कश्मीर, दिल्ली या कुछ दूसरे बड़े शहरों में अकसर पुलिस कुछ आतंकवादियों को गिरफ्तार करने और किसी बड़ी आतंकी साजिश को नाकाम बना देने के दावे करती है. अगर हिजबुल के दोनों आतंकवादियों को लेकर देवेंद्र सिंह दिल्ली आ रहा था तो क्या दिल्ली में किसी आतंकी हमले को अंजाम दिया जाना था. या फिर उस बड़ी आतंकी साजिश को नाकाम बनाने की कहानी सामने आने वाली थी?

देवेंद्र सिंह ने ही संसद हमले के आरोपी आतंकी को भेजा था दिल्ली

अगर देवेंद्र सिंह सचमुच आतंकवादियों के हाथ बिका हुआ है, तब तो पक्का कोई आतंकी हमला ही होना था. पर अगर ऐसा नहीं है और गेम कुछ और था तो पक्के तौर पर फिर देवेंद्र के ऊपर भी बड़े खिलाड़ी हैं. कायदे से दखें तो अफजल गुरु के 2004 के खत के हिसाब से तब जैश के आतंकवादी मोहम्मद को डीएसपी देवेंद्र सिंह ने अफजल के साथ दिल्ली भेजा था. पर हिजबुल के आतंकवादियों को लेकर वो खुद आ रहा था, ऐसा क्यों?

कौन है डीएसपी के पीछे

तो इस क्यों का जवाब उसी गेम में छुपा है, जिस गेम को डीएसपी देवेंद्र सिंह खेलने जा रहा था. अब अगर इस गेम से जुड़े पुख्ता सबूत डीएसपी के पास हैं तो मान लीजिए डीएअसपी देवेंद्र सिंह देर-सवेर इस केस से भी पाक-साफ निकल जाएगा. जैसे पिछले केसों में हुआ है. पर कहीं गेम के टॉप खिलाड़ियों ने उससे अपना हाथ खींच लिया तो फिर डीएसपी मुश्किल में पड़ा जाएगा.

वैस मामले की जांच अब जम्मू-कश्मीर पुलिस के हाथ मे नहीं है. बल्कि दिल्ली में बैठी एनआईए के पास है. अब डीएसपी देंवेंद्र का कनेक्शन अगर सीधे दिल्ली से है तो फिर एनआईए की जांच उसके लिए ठीक है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें डाउनलोड करें